ADVERTISEMENT

UP चुनाव: छोटे दलों के साथ गठबंधन कर कौन से समीकरण साधने की कोशिश कर रहे अखिलेश?

PSPL, सुहेलदेव पार्टी, RLD, जनवादी सोशलिस्ट पार्टी... यूपी चुनाव के पहले एसपी ने क्यों बनाए कई "गठबंधन मित्र"

UP चुनाव: छोटे दलों के साथ गठबंधन कर कौन से समीकरण साधने की कोशिश कर रहे अखिलेश?
i

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Assembly elections) से पहले सूबे की राजनीति जोड़-तोड़ और गठबंधन के सभी समीकरण को आजमाने में लगी है. इसी को आगे बढ़ाते हुए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने 16 दिसंबर को अपने चाचा शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) से मुलाकात की और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के साथ गठबंधन की घोषणा की.

ADVERTISEMENT

समाजवादी पार्टी के भीतर नियंत्रण के लिए संघर्ष शुरू होने के लगभग पांच साल बाद दोनों नेताओं के बीच ये पहली औपचारिक, आमने-सामने की बैठक हुई है.

अब तक के तमाम चुनावी सर्वे में अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी यूपी विधानसभा चुनाव में सीएम योगी के नेतृत्व वाली बीजेपी को चुनौती देती नजर आ रही है. ऐसे में अखिलेश यादव 'यादव वोट बैंक' को पूरी तरह अपने पाले में करने के लिए प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) से लेकर गैर-ओबीसी वोटों के लिए सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के साथ गठबंधन का औपचारिक ऐलान कर चुके हैं.

आइए नजर डालते हैं कि अब तक समाजवादी पार्टी ने किन-किन पार्टियों से गठबंधन की घोषणा की है और अखिलेश यादव उनकी मदद से कौन सा समीकरण साधने की जुगत में हैं.

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया)

मुलायम सिंह यादव के बाद एसपी पर नियंत्रण के लिए संघर्ष को लेकर शिवपाल यादव समाजवादी पार्टी से अलग हो गए थे. उन्होंने अपनी नई पार्टी बनाने का ऐलान किया. यहां तक कि प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल यादव ने मुलायम सिंह यादव को अपने पक्ष में करने की कोशिश की.

समाजवादी पार्टी से अलग होने के बाद से चाचा शिवपाल अखिलेश यादव पर हमलावर थे. लेकिन आगामी विधानसभा चुनाव से ठीक पहले दोनों के बीच रिश्ते अच्छे होने लगे और आखिरकार गठबंधन हो गया है.

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) को अपने साथ करके अखिलेश यादव ने यादव वोट बैंक को मजबूती से अपने पाले में करने की कवायद की है. याद रहे कि 2019 लोकसभा में एसपी के अक्षय यादव फिरोजाबाद लोकसभा सीट हार गए क्योंकि शिवपाल यादव की पार्टी ने यादव वोट को बांट दिया था.

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (SBSP)

21 अक्टूबर को सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (SBSP) ने अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन का ऐलान किया. सुहेलदेव पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर तो यहां तक कह गए कि भले ही उन्हें चुनाव लड़ने के लिए एक भी सीट न मिले, एसपी के साथ गठबंधन होगा.

2019 तक योगी की सरकार में शामिल और बीजेपी के पूर्व सहयोगी राजभर को अपने पाले में करके अखिलेश यादव ने मुख्य रूप से पिछड़ी जातियों को साधने का प्रयास किया है, जो SBSP का आधार मानी जाती हैं और पूर्वी उत्तर प्रदेश की आबादी में 20% से अधिक हिस्सेदारी रखती हैं. राजभर समुदाय राज्य की आबादी का 3% है और इसकी सूबे की लगभग 125 विधानसभा सीटों में उपस्थिति है.

ADVERTISEMENT

राष्ट्रीय लोक दल (RLD)

समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोक दल ने 7 दिसंबर को मेरठ में एक रैली में 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए औपचारिक रूप से अपने गठबंधन की घोषणा की.

किसानों का आंदोलन अब भले ही खत्म हो गया हो, लेकिन समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोक दल, दोनों ही यूपी चुनाव में कृषि कानूनों पर गुस्से के प्रभाव को देख रहे हैं, जिससे पश्चिमी उत्तर प्रदेश में उनकी संभावनाएं बढ़ रही हैं.

RLD के दम पर एसपी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में किसानों के गुस्से को बीजेपी के खिलाफ वोट में बदलना चाहेगी. खासकर जाट बहुल पश्चिमी उत्तर प्रदेश में RLD से गठबंधन संजीवनी का काम कर सकता है.

जनवादी सोशलिस्ट पार्टी

संजय सिंह चौहान की जनवादी सोशलिस्ट पार्टी को बिंद और कश्यप समुदायों के बीच मजबूत ताकत माना जाता है, जो पूर्वी यूपी के एक दर्जन से अधिक जिलों जैसे बलिया, जौनपुर, प्रयागराज में बड़ी संख्या में हैं. जनवादी सोशलिस्ट पार्टी के साथ अखिलेश यादव ने गठबंधन कर बीजेपी और इस क्षेत्र में मजबूत छोटी पार्टियों के गठबंधन को बैलेंस करने की कोशिश की है.

27 अक्टूबर को, जिस दिन अखिलेश और राजभर मऊ में अपनी संयुक्त रैली कर रहे थे, बीजेपी ने घोषणा की थी कि उसे पूर्वी यूपी के सात दलों - भारतीय मानव समाज पार्टी, मुसहर आंदोलन मंच (गरीब पार्टी), शोषित समाज पार्टी, मानवहित पार्टी, भारतीय सुहेलदेव जनता पार्टी, पृथ्वीराज जनशक्ति पार्टी और भारतीय समता समाज पार्टी का समर्थन मिला है.

महान दल

महान दल पूर्वी यूपी के आंवला, मैनपुरी, एटा, नगीना, बदायूं और जौनपुर सहित पश्चिमी यूपी के एक दर्जन से अधिक लोकसभा क्षेत्रों में "गैर-यादव" ओबीसी जातियों जैसे शाक्य, सैनी, मौर्य और कुशवाहा के बीच प्रभाव का दावा करता है.

अखिलेश इसके साथ गठबंधन कर पहले से ही यादव वोटों पर पकड़ दावा करती एसपी के लिए गैर-यादव" ओबीसी वोटों का जुगाड़ करेंगे.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×