ADVERTISEMENT

BPSC Paper Leak के बाद छलका छात्रों का दर्द, "फिर परीक्षा के लिए पैसे नहीं"

बिहार के दरभंगा में BPSC की परीक्षा देने वाले कई छात्रों ने क्विंट से अपना दर्द बयान किया है.

Published
ADVERTISEMENT

बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन (BPSC) की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा (BPSC 67th Prelims Exam 2022) का पेपर लीक होने के बाद आयोग ने परीक्षा रद्द कर दी है. लेकिन इस पेपर लीक और परीक्षा रद्द के फैसले ने लाखों छात्रों के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी हैं.

बिहार के दरभंगा के ऐसे ही कई छात्रों ने क्विंट से अपना दर्द बयान किया है.

दोबारा परीक्षा देने के लिए पैसे कहां से लाएंगे?

पिता लोगों के कपड़े प्रेस करते हैं, उम्र भी ज्यादा हो गई है, भाई कांपाउंडरी करके घर चलाते हैं और खुद दसवीं के बाद से दूसरे बच्चों को ट्यूशन देकर अपनी पढ़ाई आगे बढ़ाने वाले राहुल कुमार साफी ने भी बीपीएससी का एग्जाम दिया था. दरभंगा के रहने वाल राहुल का सेंटर करीब 300 कीलोमीटर दूर औरंगाबाद पड़ा था. राहुल बताते हैं कि वो इस परीक्षा के लिए ट्रेन से गए फिर बस की सवारी भी की. 8 घंटे के सफर के बाद सेंटर पहुंचे. राहुल कहते हैं,

सेंटर इतना दूर था कि आने-जाने में 1500 रुपए के करीब खर्च हुए, लेकिन जब परीक्षा देकर लोट रहे थे तब मालूम हुआ कि पेपर लीक हो गया है. दिल बैठ गया. मेरे लिए 50 रुपए भी बहुत बड़ी चीज है, अब अगर दोबारा दूर सेंटर होगा तो मैं कैसे जाऊंगा? वक्त बर्बाद हुआ वो अलग लेकिन मानसिक तनाव भी बढ़ रहा है.

बीपीएससी की तैयारी कराने वाले ए कर्ण क्लासेज के डायरेक्टर आनंद कहते हैं कि सरकार को बच्चों के ट्रांसपोर्ट का किराया देना चाहिए. परीक्षा बच्चों की कैंडिडेट की वजह से नहीं बल्कि लापरवाही की वजह से लीक हुआ है तो फिर इसकी सजा बच्चों को क्यों मिले. सरकार को चाहिए कि तमाम बच्चों को उनके पैसे वापस दिए जाएं या फिर अगर आगे परीक्षा होती है तो उन्हें सेंटर जाने का किराया दें.

देरी से होती परीक्षा और अब पेपर लीक

बीपीएससी की परीक्षा देने वाली अभ्यर्थी रीना कुमारी का कहना है कि पेपर लीक ही नहीं बल्कि एग्जाम भी देरी से होती है. रीना कहती हैं,

BPSC की 67वीं संयुक्‍त प्रारंभिक परीक्षा पिछले साल ही आयोजित होनी थी, लेकिन अलग-अलग वजहों से ये टलती रही. पहली संभावित तारीख 12 दिसंबर, 2021 थी, परीक्षा को टाल दिया गया. 30 अप्रैल की अगली तारीख निर्धारित की गई.वो भी टाल दिया गया. परीक्षा की नई तारीख 7 मई तक निर्धारित कर दी गई, लेकिन इसी दिन सीबीएसई के इंटर्नल एग्जाम के चलते अगले दिन पर टाल दिया गया. आखिर में जब परीक्षा हुई तो फिर पेपर लीक की खबर सामने आ गई. मुझे रात को नींद नहीं आई कि जब पता चला कि पेपर लीक के बाद पेपर रद्द हो गया है. अगर समय पर एग्जाम नहीं होगा तो परिवार के लोग शादी करा देंगे. कितना दिन इंतजार करेंगे.
ADVERTISEMENT

वहीं इस मामले पर अब राज्‍य के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा, ''हमने मामले में तत्काल कार्रवाई की. पेपर कहां और कैसे लीक हुआ, इसकी जांच की जा रही है. पूछताछ शुरू कर दी गई है और पुलिस मामले की बारीकी से जांच कर रही है. मैंने उनसे इसे तेज करने को कहा है. इसमें शामिल पाए जाने वाले के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी."

फिलहाल बीपीएससी ने ये नहीं बताया है कि अब एग्जाम कब होगा और कैसे होगा?

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×