इस साल -10.3% तक गिर सकती है भारत की GDP, IMF का अनुमान

जून तिमाही में जीडीपी में 23.9% की गिरावट दर्ज हुई थी

Updated
बिजनेस
2 min read
जून तिमाही में जीडीपी में 23.9% की गिरावट दर्ज हुई थी
i

इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड (IMF) ने 13 अक्टूबर को भारत की इकनॉमिक ग्रोथ के अनुमान को और कम कर दिया. कोरोना वायरस महामारी की वजह से दुनिया के मुख्य उभरते बाजारों में गिरावट के मामले में भारत की स्थिति सबसे खराब रहने वाली है.

IMF ने अपने वर्ल्ड इकनॉमिक आउटलुक में कहा कि भारत की जीडीपी मार्च 2021 तक के वित्तीय वर्ष में 10.3% गिर सकती है. जून में ये गिरावट 4.5% अनुमानित की गई थी. दुनिया की मुख्य अर्थव्यवस्थाओं में ये 5.8 परसेंटेज पॉइंट की गिरावट सबसे ज्यादा है.

IMF ने अपनी रिपोर्ट में कहा, “उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं के समूह में अनुमान में बदलाव खास तौर से भारत के लिए बड़ा है, जहां जीडीपी दूसरी तिमाही अनुमान से ज्यादा गिरी है.”

जून तिमाही में 23.9% की गिरावट

मार्च के अंत में शुरू हुआ भारत का लॉकडाउन दुनिया में सबसे बड़ा था. जिसकी वजह से जून तिमाही में जीडीपी में 23.9% की गिरावट दर्ज हुई थी. लॉकडाउन की वजह से बिजनेस और नौकरियां बड़ी तादाद में खत्म हो गई थीं.

जीडीपी मापने के अब तक के 40 साल के इतिहास में ये पहली बार था, जब जीडीपी का आंकड़ा नेगेटिव में आया था. वहीं, जनवरी-मार्च तिमाही में ये आंकड़ा 3.1% था. सबसे ज्यादा मार पड़ी थी कंस्ट्रक्शन, मैन्यूफैक्चरिंग और माइनिंग सेक्टर पर.

चीन में सुधर रही हालत

महामारी की शुरुआत चीन से ही हुई थी, लेकिन वहां अब इस पर काबू पा लिया गया है. चीन की इकनॉमी अब सुधर रही है और IMF ने इस साल 1.9% ग्रोथ का अनुमान लगाया है. ये जून में 1% के अनुमान से ज्यादा है.

IMF ने कहा, "ग्रोथ की तरफ चीन का लौटना अनुमान से ज्यादा मजबूत था और इसने IMF के ग्लोबल आउटलुक में सुधार किया. चीन को छोड़कर उभरती और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं के लिए संभावनाएं धुंधली हैं.

सभी उभरती और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में इस साल गिरावट का अनुमान है, खासकर उभरते हुए एशिया में, जहां भारत और इंडोनेशिया जैसी बड़ी अर्थव्यवस्था अभी भी महामारी को काबू में लाने की कोशिश कर रही हैं.  
IMF

IMF का भारत के लिए आउटलुक केंद्रीय बैंक RBI के 9.5% गिरावट के अनुमान से भी खराब है.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!