लूडो किंग को जीतने का कोई ट्रिक है, क्या नया आने वाला है?

लॉकडाउन में कैसे सेट हुई ‘Ludo King’ की ‘गोटी’,इसे बनाने वाले विकास जायसवाल का इंटरव्यू  

Published
वीडियो
2 min read

वीडियो एडिटर: सुशोभन सरकार

लूडो किंग के फाउंडर और सीईओ विकास जायसवाल का कहना है कि अप्रैल के पहले हफ्ते में दूरदर्शन पर रामायण फिर से प्रसारित होना शुरू हुआ था और जैसे ही 10 बजे वो खत्म होता वैसे ही हमें एक्टिव यूजर में स्पाइक दिखता यानी, एक्टिव यूजर एक दम से बढ़ने लगते हैं जिसके कारण हमरा सर्वर कई बार क्रैश हुआ.

जायसवाल लॉकडाउन के समय काफी व्यस्त चल रहे हैं, लॉकडाउन के शुरू होने के बाद यानी 25 मार्च के बाद से उनके मोबाइल बेस्ड गेम पर यूजर बढ़ने लगे.

द क्विंट के साथ खास बातचीत में विकास जायसवाल ने बताया कि लॉकडाउन के पहले लूडो किंग पर हर दिन 13 से 15 मिलियन एक्टिव यूजर होते थे लेकिन लॉकडाउन शुरू होने के बाद ये आंकड़ा 48 से 50 मिलियन पर डे पहुंच गया.

चीटिंग कोड और पैटर्न

जायसवाल का कहना है कि लूडो किंग हर रोज खेलते हैं लेकिन उन्हें ज्यादा सफलता नहीं मिलता, 'मैं पिछले तीन दिन से हर एक मैच हारा हूं'

लेकिन सवाल अब भी बरकरार है कि, क्या जो इस गेम को पैशनेटली खेलते हैं उनका आरोप है कि इस गेम में चीट कोड और गेम में गड़बड़ी की जा सकती है? जिस पर जायसवाल ने कहा कि ये आरोप गलत हैं.

गेम का सर्वर किसी को जनता नहीं है, सर्वर कोई भी रैंडम नंबर जनरेट कर देता है.
विकास जायसवाल, फाउंडर और सीईओ, लूडो किंग

उन्होंने आगे कहा- 'जो लोग आरोप लगा रहे हैं कि गेम में गड़बड़ी है, मैं उन्हें ये साफ कर देना चाहता हूं कि ऐसा कुछ नहीं है अगर ऐसा होता और इसमें कोई पैटर्न होता तो लोग लूडो किंग खेलना छोड़ देते. कोई भी ऐसा गेम नहीं बनाना चाहता जिसमे गड़बड़ी हो.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!