ADVERTISEMENT

भोपालः महिला ने पहले फल विक्रेता का ठेला पलटा, वीडियो वायरल होने पर दिया हर्जाना

मध्य प्रदेश के भोपाल से वायरल हो रहे एक वीडियो में एक महिला को फलों की गाड़ी से पपीता फेंकते हुए देखा जा सकता है

Published
मैंने उसे रुकने के लिए कहा मैंने कहा, 'मैडम, फल मत फेंको. इससे किसी की मदद नहीं होगी, ऐसा करने से आपकी कार ठीक नहीं होगी. इससे केवल और नुकसान होगा.' वह फिर भी नहीं रुकी. अन्य राहगीरों ने भी उसे रोकने की कोशिश की. आखिरकार, उसने पूरी गाड़ी पलट दी."
अशरफ खान
ADVERTISEMENT

मध्य प्रदेश के भोपाल से वायरल हो रहे एक वीडियो में एक महिला को फलों की गाड़ी से पपीता फेंकते हुए पकड़ा गया. वह कथित तौर पर अपनी गाड़ी से उस ठेले के टकराने पर आपा खो बैठी जो फल विक्रेता और दो बच्चों के पिता अशरफ का ठेला था. क्योंकि उसके ठेले से महिला की गाड़ी में खरोंच आ गई थी.

भोपालः महिला ने पहले फल विक्रेता का ठेला पलटा, वीडियो वायरल होने पर दिया हर्जाना

अशरफ ने क्विंट को बताया कि, “घटना 3 जनवरी को हुई थी. मैं अपनी गाड़ी से जा रहा था और उसकी कार उसके घर के पास खड़ी थी. मेरी गाड़ी ने उसकी कार को छुआ और उसकी कार पर मामूली खरोंच आई. मैंने उससे कहा कि एक छोटी सी खरोंच आई है, और मैं हर्जाना भर दूंगा. लेकिन उसने पपीते को गाड़ी से फेंकना शुरू कर दिया,”

उन्होंने आगे कहा, "उसने मुझे धमकी भी दी, जिस पर मैंने उसे पुलिस को बुलाने के लिए कहा,"

वायरल क्लिप में दिख रही महिला चित्रलेखा तिवारी है, जो भोपाल के एक निजी विश्वविद्यालय में प्रोफेसर है. उनके पति राजेश तिवारी ने द क्विंट को बताया कि उन्होंने अपनी गलती स्वीकार कर ली है.
ADVERTISEMENT
"उसकी गलती है और मैं इसे स्वीकार करता हूं. मुझे नहीं पता कि उसे गुस्सा क्यों आया, क्या लोगों ने उसे उकसाया, और फिर उसने फल फेंके. लेकिन जब मैंने इसके बारे में सुना तो मैंने कहा कि यह गलत है और ऐसा नहीं होना चाहिए."
राजेश तिवारी

अशरफ के लिए, फल बेचना ही उनकी आय का एकमात्र स्रोत है.

"मैं प्रति माह लगभग 10,000 कमाता हूं. हालांकि मैं पिछले पांच-छह वर्षों से फल बेच रहा हूं, लेकिन मैं लॉकडाउन के बाद आय के लिए पूरी तरह से इसी पर निर्भर हो गया था,

'हम कहीं भी गलती नहीं कर रहे हैं'

अशरफ का दोस्त नईम खान, जो एक फल विक्रेता भी है, घटना स्थल पर मौजूद था. वह कहता है,

“वहाँ एक सीवेज था जहां उसने गाड़ी को उलट दिया था. पपीता नाले के अंदर गिर गया. हमारा कहीं कोई दोष नहीं है. पूरे वीडियो में आप देख सकते हैं कि हमने गलत व्यवहार नहीं किया. मौके पर मौजूद लोगों ने वीडियो बनाकर वायरल कर दिया, हम नहीं जानते कि वीडियो को वायरल कैसे किया जाता है."
नईम खान
ADVERTISEMENT

पुलिस के अनुसार, दोनों पक्षों ने पुलिस थाने के बाहर अपने दम पर मामले को सुलझाया और अशरफ को हर्जाने का भुगतान किया गया.

अजय नायर, पिपलानी पुलिस स्टेशन, भोपाल के प्रभारी ने कहा-

“घटना 3 जनवरी को हुई और विक्रेता ने पुलिस को फोन किया, पुलिस आई और दोनों पक्षों को थाने बुलाया गया जहां उन दोनों ने चर्चा की और कोई कानूनी कार्रवाई नहीं करने का फैसला किया. अशरफ को उसके पति द्वारा हर्जाने के लिए भुगतान किया गया था, ”

अशरफ कहते हैं कि नुकसान एक तरफ, उन्हें उम्मीद थी कि जिस तरह से उन्होंने उसके साथ व्यवहार किया, उसके लिए वह महिला माफी मांगे. उन्होंने आगे कहा-

“यह पैसे के बारे में नहीं है, बल्कि इसलिए कि मैं एक फल विक्रेता हूं,शायद इसलिए मेरे साथ ऐसा व्यवहार किया गया. मुझे सबसे ज्यादा दुख इस बात का है कि उसने एक बार भी माफी नहीं मांगी, ”

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT