ADVERTISEMENT

हिंसा में दिल्ली पुलिस की कार्रवाई पर पूर्व DGP ने उठाए सवाल

विक्रम सिंह ने कहा कि पुलिस का तुरंत हस्तक्षेप नहीं करना एक बड़ा सवाल है

Updated
भारत
2 min read
विक्रम सिंह ने कहा कि पुलिस का तुरंत हस्तक्षेप नहीं करना एक बड़ा सवाल है
i

रिटायर्ड आईपीएस अफसर और यूपी के पूर्व डीजीपी विक्रम सिंह ने हिंसा के दौरान दिल्ली पुलिस के एक्शन पर सवाल उठाए हैं. द क्विंट से बातचीत में विक्रम सिंह ने कहा कि जब हालातों की समीक्षा करें तो बड़ी खामियां निकलकर सामने आती हैं. विक्रम सिंह ने कहा कि पुलिस का तुरंत हस्तक्षेप नहीं करना एक बड़ा सवाल है, पुलिस ने क्यों इंतजार किया, किसके लिए वो इंतजार करते थे?

ADVERTISEMENT
ऐसा कहा जा रहा है कि डोनाल्ड ट्रंप के दौरे की वजह से दिल्ली पुलिस ने हिंसा को रोकने के लिए सख्त कदम नहीं उठाए, लेकिन ये कोई एक्सक्यूज नहीं है. ये पुलिस का काम है कि बावजूद वीवीआईपी विजिट के वो दिल्ली के नागरिकों के जान-माल की सुरक्षा करते. कल धारा 144 भी लगा दी गई. एडवांस इंटेलीजेंस भी थी इस बात की कि पीएफआई की ओर से 120 करोड़ की फंडिंग हुई है. कोई बड़ी हिंसा होने भी संभावना था. आरोपी शाहरुख ने भी लगभग 10 गोलियां चलाई. अब इन सब जानकारी के बाद कोई सफाई नहीं है कि दिल्ली पुलिस ने जरूरी एक्शन क्यों नहीं लिया.
विक्रम सिंह, रिटायर्ड आईपीएस अफसर

पूर्व डीजीपी ने कहा कि कोई एहतियातन गिरफ्तारी नहीं की गई और जिन लोगों पर हिंसा फैलाने का शक था, उनकी भी शिनाख्त नहीं की गई. उन्होंने कहा, ‘इंटरनल सिक्योरिटी स्कीम पुलिसवालों के लिए एक बाइबल की तरह होती है और ये जरूरी है कि इसे अच्छे से याद रखा जाए. इसकी रिहर्सल होनी चाहिए महीने में एक बार. हां इसमें कमियां थीं, जो कभी एड्रेस नहीं की गईं. और इसका नतीजा काफी भयानक रहा. सेंस ऑफ सिक्योरिटी बिल्कुल नहीं था.’

‘ऑटो-पायलट मोड पर काम करे पुलिस’

'भारतीय न्यायपालिका ने भी सवाल उठाया है: अगर ब्रिटेन या अमेरिका में इस तरह की हिंसा भड़की होती तो क्या होता? किसी ने आदेशों का इंतजार नहीं किया होता. पुलिस को ऑटो-पायलट मोड पर काम करने के जैसे डिजाइन किया जाता है और मुश्किल के वक्त में कहीं से कोई निर्देश की जरूरत नहीं है. आखिरी जिम्मेदारी पुलिस कमिश्नर की है.'

106 लोग गिरफ्तार, 18 FIR दर्ज

दिल्ली के नॉर्थ-ईस्ट इलाके में 24 फरवरी को भड़की हिंसा में अब तक 20 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है. जान गंवाने वालों में दिल्ली पुलिस के एक हेड कॉन्स्टेबल भी शामिल है.

दिल्ली पुलिस ने हिंसा को लेकर 106 लोगों को गिरफ्तार किया है और 18 एफआईआर दर्ज की है. दिल्ली पुलिस के पीआरओ एमएस रंधावा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि पुलिस के पास सीसीटीवी फुटेज और ठोस सबूत है, और उपद्रवियों की पहचान की जा रही है. दिल्ली पुलिस ने दो हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT