ADVERTISEMENT

महात्मा गांधी के बारे में कौन सही, कंगना रनौत या नरेंद्र मोदी?

महात्मा गांधी को लेकर कंगना रनौत के बयान से विवाद खड़ा हो गया है.

Published
भारत
3 min read

OK, ये जो इंडिया है ना.. यहां हमारे पास कंगना रनौत (Kangana Ranut) के लिए एक क्विज है. बताइये कंगना- ये किसने कहा? "भगत सिंह जैसे कई साहसी युवाओं ने स्वतंत्रता संग्राम के लिए अपनी जान न्यौछावर कर दी. हम उनका नमन करते हैं. लेकिन स्वतंत्रता संग्राम को एक 'जन आंदोलन' बनाना... ये गांधी का अनोखा विचार था." कोई आइडिया कंगना? जवाब है, नरेंद्र मोदी, न्यूयॉर्क, USA, सितंबर 2014.

ADVERTISEMENT

Ok, अगला प्रश्न कंगना, ये रहा – "जब टाइम मैगजीन ने 1930 में, दांडी मार्च के बाद, बापू को पर्सन ऑफ द ईयर घोषित किया, तब दुनिया वास्तव में भारत के स्वतंत्रता संग्राम को समझने लगी. विद्रोह से आगे बढ़कर, बापू स्वतंत्रता संग्राम में रचनात्मकता लाए, एक विजन लेकर आए. आम देशवासी के जीवन में नमक की अहमियत बापू समझते थे. और सिर्फ इस नमक के आधार पर उन्होंने एक जन आंदोलन चला दिया, जिसने ब्रिटिश साम्राज्य को हिला दिया!" ये किसने कहा, कंगना? एक बार फिर… नरेंद्र मोदी. कहां? दांडी शहर में ही, गुजरात, जनवरी 30, 2019.

यहां क्विज के सवालों से एक छोटा ब्रेक लेते हैं और कंगना से पूछते हैं- कि जब देश के प्रधानमंत्री, नरेंद्र मोदी के मन में महात्मा गांधी के प्रति इतना सम्मान है, तो आप बापू के प्रति इतनी नफरत क्यों फैला रही हैं? क्या मोदी जी देश के राष्ट्रपिता को ठीक से समझ नहीं पाए हैं? क्या जान पाईं हैं आप गांधी जी के बारे में, जो मोदी जी मिस कर गए हैं? क्या देश के नेताओं को आपके ट्वीट्स, पोस्ट्स ज्यादा ध्यान से पढ़ने चाहिए?

ADVERTISEMENT

खैर चलिए, ब्रेक खत्म… अब हमारे क्विज का अगला सवाल – “गांधी भारत की आजादी की लड़ाई के केंद्र बिंदु थे. उन्होंने लोगों की आंतरिक शक्ति को जगाकर उन्हें स्वयं परिवर्तन लाने के लिए प्रेरित किया. उसी जन शक्ति, जन नेतृत्व के बल पर आज भी स्वच्छ भारत अभियान, डिजिटल इंडिया जैसे कार्यक्रम चल रहे हैं” ये किसने कहा, कंगना? टिक टिक 1, टिक टिक 2.. सॉरी कंगना, ये भी मोदी जी ही थे, वो भी यूनाइटेड नेशंस.. यानी संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए, 2018 में.

चलिए, अगला सवाल – "मार्टिन लूथर किंग और नेल्सन मंडेला, उन्हें गांधी के विचारों से ताकत मिली, जिससे लाखों लोग समानता के लिए लड़ने के लिए प्रेरित हुए." टिक टिक 1, टिक टिक 2.. सॉरी कंगना, फिर से नरेंद्र मोदी - मन की बात, 30 सितंबर, 2018.

यहां, आगे के क्विज से एक और छोटा ब्रेक, और कंगना से सवाल- क्या कोई क्रिकेट फैन कपिल देव या सुनील गवास्कर, या एमएस धोनी और विराट कोहली के बीच में से फेवरेट चुन सकता है? या और गंभीर सवाल - क्या भगत सिंह और चंद्रशेखर आजाद के बीच आप बता पाएंगी किसकी कुर्बानी ज्यादा कीमती थी?

नहीं ना? तो फिर देश के दो चोटी के स्वतंत्रा सेनानियों में से... गांधी और सुभाष चंद्र बोस के बीच, कौन श्रेष्ठ है, ये आपने इतनी आसानी से कैसे कर लिया? क्या नरेंद्र मोदी ने ऐसी कोई तुलना की है, गांधी जी और नेताजी के बीच?

क्या हम सोच सकते हैं क्यों? क्योंकि ये संभव ही नहीं है! जब गांधी और बोस, दोनों अपना पूरा जीवन, अपनी आखिरी सांस तक देश के नाम कर गए, तो बचता ही क्या है उन दोनों के बीच तुलना करने के लिए ?!
ADVERTISEMENT

पर छोड़िए, आते हैं अपने क्विज के आखिरी सवाल पर – “बापू ने जो रास्ता दिखाया है, वो गलत हो ही नहीं सकता. गांधी ने हमें सत्य, अहिंसा, सत्याग्रह और स्वावलंबन का का रास्ता दिखाया... आज भी इस रास्ते पर चल कर नए भारत का निर्माण हो रहा है" अब तो आप समझ गई होंगी कंगना.. ये भी नरेंद्र मोदी ने कहा, 2017 में, अहमदाबाद, गुजरात में.

ये जो इंडिया है ना…इसे तय करना चाहिए.. महात्मा गांधी के बारे में, देश के राष्ट्रपिता के बारे में, हमारे प्रिय बापू, उनके बारे में, कौन सही है? कंगना रनौत या नरेंद्र मोदी?

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT