‘फिरंगी’ रिव्यू : लगान की कमजोर कॉपी है कपिल शर्मा की फिल्म

‘फिरंगी’ रिव्यू : लगान की कमजोर कॉपी है कपिल शर्मा की फिल्म

Q देखें

कपिल शर्मा की ‘फिरंगी’ के बारे में कह सकते हैं कि ये आमिर खान की फिल्म ‘लगान’ की एक कमजोर ‘नकल’ है. उसी की तरह अमिताभ बच्चन की आवाज के साथ फिल्म शुरू होती है. फिल्म की कहानी स्वतंत्रता से पहले साल 1921 के भारत की है. भुवन (आमिर खान) की तरह मंगा (कपिल शर्मा) भी गांववालों के एक ग्रुप को लीड करते हुए अंग्रेज अधिकारी मार्क डेनियल को चैलेंज करता है. कपिल शर्मा ने पूरी फिल्म में एक ही तरह का एक्सप्रेशन दिया है.

फिल्म में देशभक्ति दिखाई गई है. जालियांवाला बाग, स्वदेशी अपनाओ, अंग्रेजों भारत छोड़ो के सीन्स भी फिल्म में दिखेंगे. मंगा (कपिल शर्मा) वैसे तो नकारा है लेकिन उसकी लात में जादू है. वो जिसे लात मार दे उसका कमर दर्द तुरंत ठीक हो जाता था. फिल्म में प्रेम कहानी है. मंगा की प्यार है सरगी (इशिता दत्ता).

कपिल शर्मा मंगा के रूप में काॅमेडियन से अलग अवतार में दिखे हैं. लेकिन बात कुछ बन नहीं पाई. आप उनके जोक्स जरूर मिस करेंगे.

स्क्रिप्ट में दम नहीं है. फिल्म लंबी है. फर्स्ट हाफ काफी लंबी है. गाने भी बोरिंग हैं. मतलब अगर आप थिएटर में कपिल से बहुत उम्मीद लेकर जाएंगे तो मिलेगा बाबाजी का ठुल्लू!

इस फिल्म को मिलते हैं 5 में से 2 क्विंट.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our Q देखें section for more stories.

Q देखें
Loading...