फेसबुक का नया टूल, महिलाओं की फोटो रहेगी एकदम सेफ
फेसबुक पर महिलाओं की फोटो रहेगी सुरक्षित
फेसबुक पर महिलाओं की फोटो रहेगी सुरक्षित(फोटो: iStock)

फेसबुक का नया टूल, महिलाओं की फोटो रहेगी एकदम सेफ

फेसबुक ने भारत में फोटो को सिक्योर करने के लिए नया टूल पेश किया है, जिससे आपकी प्रोफाइल पिक्चर को डाउनलोड और शेयर करने से बचाया रखा जा सकेगा. फेसबुक के इस कदम से तस्वीरों का दुरुपयोग कम हो सकता है. इस टूल से सबसे ज्यादा फायदा महिलाएं को होगा.

फेसबुक यूज करने वाली महिलाएं अक्सर इस बात से परेशान रहती हैं कि उनकी प्रोफाइल फोटो कोई भी डाउनलोड सकता है. अक्सर दूसरे लोग आपकी मर्जी के बिना आपकी प्रोफाइल फोटो और पोस्ट किए गए फोटो डाउनलोड कर लेते हैं, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा.

फेसबुक के इस नए टूल से यूजर्स को अपनी फोटो पर प्राइवेसी सेट करने का ऑप्शन मिलेगा. यानी अपनी प्रोफाइल फोटो, कवर फोटो के लिए आप सेटिंग कर सकते हैं कि आपकी फोटो को कौन डाउनलोड और शेयर कर सकता है और कौन नहीं.
फेसबुक का नया टूल)
फेसबुक का नया टूल)
(फोटो: फेसबुक)

फेसबुक पर प्रोफाइल पिक्चर की मदद से लोग एक-दूसरे को ढूंढते हैं और जुड़ते हैं. हर कोई प्रोफाइल पिक्चर लगाना सुरक्षित नहीं मानता. कुछ महिलाएं अपनी ऐसी प्रोफाइल पिक्चर शेयर करने को सुरक्षित नहीं मानतीं, जिसमें उनका चेहरा दिखता हो, क्योंकि उनको डर है कि उनकी तस्वीर का दुरुपयोग को सकता है.

नई दिल्ली स्थित सेंटर फॉर सोशल रिसर्च एंड लर्निंग लिंक्स फाउंडेशन सहित कई संगठनों के साथ मिलकर नया टूल विकसित किया गया है. फेसबुक की प्रोडक्ट मैनेजर आरती सोमान ने कहा:

हम नया टूल शुरू कर रहे हैं जो भारत में लोगों को इस बारे में अधिक नियंत्रण देगा कि प्रोफाइल पिक्चर कौन डाउनलोड और शेयर कर सकता है.

उन्होंने कहा कि इसके साथ हम वो रास्ते भी तलाश रहे हैं, जिनके जरिए लोग प्रोफाइल पिक्चर के साथ आसानी से डिजाइन जोड़ सकते हैं.

इसके साथ ही फेसबुक में एक दूसरा फीचर जोड़ा गया है, जिसके जरिए लोग प्रोफाइल पिक्चर के साथ आसानी से अलग-अलग डिजाइन जोड़ सकते हैं. इसमें कई अलग-अलग पैटर्न विकल्प के रूम में होंगे, जो भारत के पारंपरिक कला के हिसाब से डिजाइन होंगे. सोमन कहती हैं- हमारी रिसर्च ने इस फीचर को गलत इस्तेमाल रोकने में मददगार पाया है. प्रोफाइल फोटो पर अगर अतिरिक्त डिजाइन रहती है, तो उसे दूसरे यूजर के कॉपी करने की संभावना 75 फीसदी कम हो जाती है.

दोनों ही टूल खासतौर पर भारतीय यूजर्स के लिए तैयार किया गया है. ये 30 से अधिक स्थानीय भारतीय भाषाओं में उपलब्ध होगा.

(इनपुट भाषा से)

(सबसे तेज अपडेट्स के लिए जुड़िए क्विंट हिंदी के WhatsApp या Telegram चैनल से)

Follow our साड्डा हक section for more stories.

    वीडियो