ADVERTISEMENT

सिंघु बॉर्डर पर हत्या के बाद किसान संगठन बोले- आंदोलन को धर्म से जोड़ने की साजिश

किसान संगठनों ने हत्या की निंदा करते हुए कहा कि ये आंदोलन को धर्म से जोड़ने की साजिश है.

Published
भारत
1 min read
<div class="paragraphs"><p>किसान संगठनों ने हत्याकांड की निंदा की.</p></div>
i

सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर एक शख्स के बेरहमी से हत्या की संयुक्त किसान मोर्चा (Samyukt Kisan Morcha) ने निंदा की है. घटना के बाद किसान संगठनों ने आरोप लगाया है कि आंदोलन को धर्म से जोड़ने की साजिश हो रही है. इसकी जांच होनी चाहिए.

ADVERTISEMENT

संयुक्त किसान मोर्चा ने हत्या की निंदा करते हुए कहा, ''हम कुंडली में लखबीर सिंह की हत्या की निंदा करते हैं, हम यह साफ कर देना चाहते हैं कि दोनों पक्षों ''निहंगों और ''मृतक'' का संयुक्त किसान मोर्चा से कोई संबंध नहीं है. मोर्चा किसी भी धार्मिक ग्रंथ की बेअदबी के खिलाफ है. लेकिन इस आधार पर किसी भी व्यक्ति या समूह को कानून अपने हाथ में लेने की इजाजत नहीं है.''

मोर्चे को धार्मिक मुद्दा बनाने की कोशिश हो रही है. यह एक साजिश लगती है, इसकी जांच होनी चाहिए.
किसान मोर्चा के नेता जगजीत सिंह दल्लेवाल

यह कोई धार्मिक आंदोलन नहीं है- योगेंद्र यादव

संयुक्त किसान मोर्चा ने मामले साजिश की ओर इशारा करते हुए कहा कि बेअदबी और हत्या के मामले की जांच की जानी चाहिए, हम इसमें पूरा सहयोग करेंगे.

वहींकिसान आंदोलन से से जुड़े योगेंद्र यादव ने भी बयान जारी कर कहा है कि आरोपियों (निहंगों) से किसान संगठनों का कोई संबंध नहीं है.

योगेंद्र यादव ने कहा, ''किसान नेताओं ने पिछले कुछ महीनों में कई बार यह साफ किया है कि हमारा आंदोलन धार्मिक नहीं है, इसलिए आपकी (निहंगों) यहां कोई जगह नहीं है. लेकिन ये लोग फिर भी वहां डटे हुए हैं.'' उन्होंने कहा कि मृतक 2-3 दिनों से निहंगों के साथ ही रह रहा था.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT