ADVERTISEMENT

Narasimha Jayanti 2022 Date: नरसिंह जयंती शुभ मुहूर्त, पूजा विधि व कथा

Narasimha Jayanti: नरसिंह जयंती से एक दिन पहले भक्त केवल एक बार भोजन करते हैं.

Narasimha Jayanti 2022 Date: नरसिंह जयंती शुभ मुहूर्त, पूजा विधि व कथा
i

Narasimha Jayanti 2022 Date: वैशाख मास के शुक्ल पक्षा की चतुर्दशी को नरसिंह जयंती के रूप में मनाया जाता है. इस साल यह पर्व 14 मई 2022, शनिवार को है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान विष्णु ने दैत्य हिरण्यकश्यप से अपने भक्त प्रहलाद को बचाने के लिए इसी दिन नरसिंह अवतार लिया था. भगवान का यह अवतार आधे नर और आधे सिंह का है, जिस वजह से इसे नरसिंह अवतार कहा जाता है.

ADVERTISEMENT

मान्यता हैं इस दिन नरसिंह भगवान की पूजा व व्रत करने से सभी तरह के संकट से मुक्ति मिलती है. नरसिंह जयंती से एक दिन पहले भक्त केवल एक बार भोजन करते हैं.

Narasimha Jayanti 2022: शुभ मुहूर्त

  • चतुर्दशी तिथि प्रारम्भ - मई 14, 2022 को 03:22 PM से

  • चतुर्दशी तिथि समाप्त - मई 15, 2022 को 12:45 PM तक

  • नरसिंह जयन्ती सायंकाल पूजा का समय - 04:22 PM से 07:04 PM तक

  • नरसिंह जयन्ती के लिए अगले दिन का पारण समय 15 मई को दोपहर 12:45 के बाद.

ADVERTISEMENT

Narasimha Jayanti 2022: पूजा विधि

  • इस दिन सुबह जल्दी उठकर सबसे पहले स्नान कर लें.

  • इसके बाद घर में दीप प्रज्वलित करें.

  • भगवान नरसिंह को पुष्प अर्पित करें.

  • भगवान नरसिंह का ध्यान करें.

  • भगवान नरसिंह को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगायें.

  • भगवान नरसिंह की आरती करें.

भगवान विष्णु जी के अवतार की कथा

विष्णु भगवान ने अपने भक्त प्रह्लाद की रक्षा के लिए वैशाख मास के शुक्ल पक्ष में चतुर्दशी के दिन नरसिंह के रूप में अवतार लिया था. उनका शरीर आधा सिंह और आधा मनुष्य का था, इसलिए उन्हें नृसिंह कहा जाता है. वे जिस समय प्रकट हुए थे वह न दिन था और न ही रात यानी दिन और रात के संध्याकाल में उन्होंने हिरण्यकशिपु (हिरण्यकश्यप) नामक दैत्य का वध कर उससे अपने भक्त प्रह्लाद की रक्षा की और उसे अपनी गोद में बिठाया.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×