ADVERTISEMENTREMOVE AD

संजय सिंह को 5 दिन की ED की हिरासत में भेजा गया, कथित शराब घोटाले में गिरफ्तारी

संजय सिंह के आवास की नौ घंटे तक की तलाशी ली गई जिसके बाद ED ने उन्हें गिरफ्तार किया था.

Updated
न्यूज
2 min read
छोटा
मध्यम
बड़ा

दिल्ली शराब नीति की जांच से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह (Sanjay Singh) को 10 अक्टूबर तक रिमांड पर भेज दिया गया है.

4 अक्टूबर को ईडी द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह को दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया गया था. अब सुनवाई खत्म हो गई है.

ED ने संजय सिंह के आवास की नौ घंटे की तलाशी के बाद उन्हें गिरफ्तार किया था. उसने मामले में पूछताछ के लिए कोर्ट से संजय सिंह की रिमांड की मांग की थी. इसी मामले में आम आदमी पार्टी के एक अन्य नेता, मनीष सिसोदिया जेल में हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

AAP नेता संजय सिंह के वकील सोमनाथ भारती ने कहा कि, "जिस दिनेश अरोड़ा और अमित अरोड़ा के बयान को आधार बनाया गया है, यही दिनेश अरोड़ा और अमित अरोड़ा ने कई बार बयान बदले हैं. एक बार तो इनके बयान में लिखा है कि क्या आपने संजय सिंह को कोई पैसा दिया है? वह जवाब देते हैं, नहीं... बात यह है कि 1 अगस्त को इस शख्स को बेल मिली और 14 अगस्त को वे बयान बदल लेते हैं."

कोर्ट में आज क्या हुआ?

जैसे ही सांसद संजय सिंह को राउज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया गया, ईडी ने 10 दिन की हिरासत की मांग करते हुए कोर्ट से कहा कि संजय सिंह का संबंध 2 करोड़ रुपये के लेनदेन से है.

ED ने कोर्ट में दावा किया कि संजय सिंह के घर पर “पैसा” पहुंचाया गया था. इसकी पुष्टि दिनेश अरोड़ा ने की है. दिनेश अरोड़ा ने संजय सिंह के घर पर दो बार में 2 करोड़ रुपये कैश दिए हैं. दिनेश ने खुलासा किया है कि उसने इंडोस्पिरिट ऑफिस से 1 करोड़ रुपये नकद भी उठाए थे. जांच के लिए फोन को जब्त कर लिया गया है और डेटा निकाला जाएगा.

ED के बयानों पर पलटवार करते हुए संजय सिंह के वकीलों ने कोर्ट से कहा, “दूसरों से पूछताछ के लिए कभी भी हिरासत की आवश्यकता नहीं होती है. इस मामले में... अलग एजेंडा है. यह अदालत भी समाज का एक हिस्सा है और वह लाइनों के बीच पढ़ सकती है. उन्हें (ED) 9.5 महीने से जानकारी थी... मैं खुद से पूछता हूं कि आगे की जांच क्या है? ईडी बयानों को अपनी जेब में रखता है और जब चाहे इसका इस्तेमाल करता है. वे पुराने बयान निकालते हैं.”

सुनवाई खत्म होने के बाद सिंह ने अदालत को संबोधित किया और कहा कि शुरू में किसी भी गवाह ने अपने बयानों में उनका नाम नहीं लिया और यह अचानक हुआ.

उन्होंने कहा कि, “मैं आपसे (जज) हाथ जोड़ कर प्रार्थना कर रहा हूं, अगर इनके आरोपों में कुछ भी सच्चाई है, तो मुझे सख्त से सख्त सजा हो. लेकिन ये सब झूठ है. मुझे एक बार भी नहीं बुलाया गया. एक बार भी समन नहीं किया गया. मेरे लिए अलग कानून सर? अंतिम बात, विजय सिंह का अजय सिंह हो सकता है. राहुल सिंह का संजय सिंह कर दिया इन्होनें. आप न्याय की कुर्सी पर हैं, मैं आपसे इतना ही अनुरोध कर सकता हूं बस."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

0
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×