ADVERTISEMENT

गलवान शहीद के साथ ये सलूक!सुनिए क्या कह रही हैं कुंदन ओझा की पत्नी

Galwan clash में शहीद हुए कुंदन के परिवार में अब उनकी पत्नी नम्रता कुमारी और एक बेटी है

कुंदन ओझा उन 20 सैनिकों में शामिल थे, जो पिछले साल आज ही के दिन. गलवान घाटी ( (Galwan clash) में चीनी सेना से लड़ते हुए शहीद हो गए. कुंदन के परिवार में अब उनकी पत्नी नम्रता कुमारी और एक बेटी है. कुंदन की बेटी दीक्षा 17 साल की थी, जब उसके पिता शहीद हुए.

ADVERTISEMENT

नम्रता का कहना है कि उनकी बेटी और परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिए 10 लाख रुपये की आर्थिक मदद उनके जीवनभर नहीं चलेगी.

मेरे पति देश के लिए शहीद हो गए, उन्होंने अपने आपको देश के लिए क़ुर्बान कर लिया, लेकिन सरकार एक शहीद की बीवी के लिए कुछ नहीं कर पा रही है
नम्रता कुमारी, शहीद कुंदन ओझा की बीवी
ADVERTISEMENT

कुंदन अपने परिवार में एक इकलौते कमाने वाले थे. उनके बाद घर में कोई और कमाने वाला नहीं है और अब वो पूरी तरह अपने ससुराल वालों पर निर्भर हैं. नम्रता का कहना है कि उन्हें नौकरी की सख्त जरूरत है ताकि वो अपनी बच्ची और ससुराल वालों का खयाल खुद रख पाए.

अब एक साल गुजर चुका है, लेकिन मेरे पास अभी भी नौकरी नहीं है. मुझे नौकरी की सख्त जरूरत है ताकि मैं अपनी बेटी को अच्छी शिक्षा दे पाऊं
नम्रता कुमारी, शहीद कुंदन ओझा की बीवी

गलवान घाटी में हुई मुठभेड़ में तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, बिहार, तेलंगाना और पंजाब शहीद हुए के जवानों के परिवारों को राज्य सरकारों ने नौकरी और मुआवजा दिया है. लेकिन नम्रता को अब भी सरकार से मदद का इंतजार है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT