ADVERTISEMENT

Indian Railways: ट्रेन में सामान छूट जाए या चोरी हो जाए तो कैसे वापस पाएं?

पैसेंजर्स के खोए सामान को ढूंढने के लिए रेलवे ने एक खास पहल भी शुरू की है

Published
भारत
2 min read
Indian Railways: ट्रेन में सामान छूट जाए या चोरी हो जाए तो कैसे वापस पाएं?
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

ट्रेनों में सफर के दौरान सबसे ज्यादा चिंता सामान की लगी रहती है, कि सामान सुरक्षित है या नहीं. भारतीय रेलवे में चोरी की समस्या कोई नयी नहीं है. ट्रेनों में RPF की मौजूदगी के बावजूद सामान के चोरी होने का डर बना रहता है. वहीं, अक्सर ये भी देखा गया है कि किन्हीं कारणों से लोगों का सामान खो जाता है. ऐसे में, अगर किसी का सामान चोरी हो गया है या खो गया है, तो वो क्या करे?

ADVERTISEMENT

ट्रेन में सामान चोरी हो जाए तो क्या करें? अगर चलती ट्रेन में सामान चोरी हो जाता है, तो इसके लिए सबसे पहले आपको ट्रेन के कंडक्टर/कोच अटेनडेंट/गार्ड या GRP एस्कॉर्ट को इसकी जानकारी देनी होगी. इसके बाद उनसे FIR फॉर्म लेकर उसे भरें और खोए/चोरी हुए सामान की पूरी जानकारी उसमें दें. इसके बाद इस शिकायत को संबंधित पुलिस स्टेशन में फॉरवर्ड किया जाता है. मदद के लिए आप बड़े रेलवे स्टेशनों पर RPF असिस्टेंट पोस्ट पर भी जा सकते हैं.

इस बात का ध्यान रखें कि FIR दर्ज करने के लिए आपको अपनी यात्रा रोकने की जरूरत नहीं है.
ADVERTISEMENT

क्या रेलवे की कोई अलग पहल भी है? पैसेंजर्स के खोए सामान को ढूंढने के लिए रेलवे ने एक खास पहल भी शुरू की है, जिसका नाम है ऑपरेशन मिशन अमानत. लेकिन ये पहल वेस्टर्न रेलवे ने शुरू की है, जिसका मतलब है कि ये केवल कुछ डिविजन में लागू है. ये डिविजन हैं- मुंबई सेंट्रल डिविजन, वडोदरा डिविजन, अहमदाबाद डिविजन, रतलाम डिविजन, राजकोट डिविजन और भावनगर डिविजन.

रेलवे ने ये पहल इसी साल जनवरी में शुरू की थी. इसके तहत, RPF खोए सामान की जानकारी अपनी वेबसाइट पर डालता है. पैसेंजर्स यहां जाकर अपना सामान ढूंढ सकते हैं.
ADVERTISEMENT

मिशन अमानत के तहत खोए सामान को कैसे ढूंढें?

  • https://wr.indianrailways.gov.in/ वेबसाइट पर जाएं.

  • ऊपर Passenger & Freight Services पर क्लिक करें Operation Amanat पर क्लिक करें.

  • अब अपना डिविजन सलेक्ट करें और देखें कि क्या आपके सामान की जानकारी यहां मौजूद है या नहीं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×