ADVERTISEMENT

Delhi Fire: एक साल में आग से 591 लोगों ने गंवाई जान,28 हजार के करीब केस दर्ज

2020-21 की तुलना में 2021-22 में आग लगने की घटनाओं से मरने वालों की संख्या में 70 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई है.

Published
भारत
2 min read
Delhi Fire: एक साल में आग से 591 लोगों ने गंवाई जान,28 हजार के करीब केस दर्ज
i

देश की राजधानी दिल्ली (Delhi Fire Incidents) आग लगने की सुर्खियों से भरी पड़ी है. दिल्ली में आग की घटनाओं की संख्या लगातार बढ़ रही है. पिछले एक महीने की ही बात करें तो दिल्ली के कुछ हिस्सों में आग लगने की छह से ज्यादा घटनाएं हो चुकी हैं.

दिल्ली फायर सर्विस (DFS) के आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, साल 2020-21 की तुलना में साल 2021-22 में आग लगने की घटनाओं से मरने वालों की संख्या में 70 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई है और 2020-21 की तुलना में आग लगने को लेकर जो फोन कॉल आएं उनमें छह प्रतिशत की वृद्धि हुई है.

ADVERTISEMENT

पिछले साल दिल्ली में आग लगने की कितनी घटनाएं हुई और क्या वजह रही?

आधिकारिक आंकडे़ बताते हैं कि 2021 से 2022 के बीच आग लगने की दुर्घटनाओं में कुल 591 लोगों की मौत हुई है, जबकि 2020 से 2021 के बीच 346 लोगों की मौत हुई है. आंकड़ों के मुताबिक 2021-22 के दौरान आग लगने की कुल संख्या 27,343 थी, जबकि 2020-21 के दौरान आग लगने को लेकर 25,709 फोन कॉल आए थे.

वहीं 2021-22 के दौरान आग की 13 घटनाओं को 'मध्यम अग्नि श्रेणी' के तहत चिह्नित किया गया था और 2 मामले 2021-22 में 'गंभीर' थे, जबकि 2020-21 में, 19 आग की घटनाओं को 'मध्यम आग श्रेणी' के तहत चिह्नित किया गया था और 2 'गंभीर' थे. 2020-21 में घायलों की संख्या 1500 से अधिक है. आंकड़ों के अमुसार 2009 से आग को लेकर कोई ऐसी घटना नहीं हुई जो गंभीर से भी ज्यादा गंभीर थी जिसे 'मेजर' कैटेगरी का नाम दिया है.

इसेक अलावा 2019-20 के आंकड़ों पर नजर डालें तो दमकल विभाग को इस दौरान आग लगने की कुल 31,264 घटनाओं को लेकर फोन कॉल आए थे. इस दौरान 308 लोगों की मौत हुई है और 1600 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. 'मध्यम अग्नि श्रेणी' के तहत 27 मामले थे और 4 मामले 'गंभीर' थे.

इसी तरह 2018-19 में आग से हुई दर्घटना के दौरान 297 लोगों की मौत हो गई थी और दमकल विभाग को 31,264 आग लगने के मामलों की सूचना मिली थी. इस दौरान 1500 से अधिक लोग घायल भी हुए थे.

दमकल विभाग के वरिष्ठ अधिकारी एसके दुआ ने मिलेनियम पोस्ट को बताया, "गर्मियों के दौरान, आग लगने को लेकर जो फोन कॉल आते हैं उनकी संख्या दोगुनी हो जाती हैं. ऐसी घटनाओं के पीछे का कारण एसी या शॉर्ट सर्किट में विस्फोट होना प्रतीत होता है."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×