ADVERTISEMENTREMOVE AD

Gaza में संक्रामक बीमारियों का बढ़ा खतरा, फिलिस्तीन के समर्थन में लंदन में मार्च

Israel Hamas War: WHO ने कहा है कि जब से युद्ध शुरू हुआ है, तब से अस्पतालों, मरीजों, एंबुलेंस और क्लिनिक्स पर 250 हमलों की पुष्टि हुई है.

Published
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

इजरायल और हमास (Israel-Hamas War) के बीच जंग को एक महीने से ज्यादा वक्त हो गया है लेकिन अभी भी ये युद्ध जारी है और लोगों की लगातार मौत हो रही है. हजारों लोग इधर से उधर विस्थापित हुए हैं और बड़ी तादाद में लोग अभी भी सुरक्षित ठिकानों की तलाश में हैं. गाजा में रहने वाले करीब 23 लाख लोग परेशानियों से जूझ रहे हैं. फिलिस्तीनी रेड क्रिसेंट का कहना है कि इजरायली टैंक अल-कुद्स अस्पताल से केवल 20 मीटर (65 फीट) दूर हैं और "दहशत और भय" की स्थिति में लगभग 14,000 विस्थापित लोगों के साथ अस्पताल पर गोलीबारी कर रहे हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

Al Jazeera की रिपोर्ट के मुताबिक अल-शिफा अस्पताल के निदेशक ने कहा कि मेडिकल कॉम्प्लेक्स को इजरायली बलों द्वारा "पूरी तरह से काट दिया गया है, किसी भी चलते-फिरते व्यक्ति को निशाना बनाया गया है."

गाजा में संक्रामक बीमारियां बढ़ने का खतरा

संयुक्त राष्ट्र एजेंसी OCHA का कहना है कि असुरक्षा और ईंधन की कमी के कारण पूरे गाजा पट्टी में ठोस कचरे को लैंडफिल में स्थानांतरित करना बंद हो गया है. सड़कों पर और IDP आश्रयों के बाहर कचरा जमा हो रहा है, जिससे वायुजनित बीमारियों और कीड़ों और चूहों के संक्रमण का खतरा पैदा हो रहा है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि गाजा में डायरिया और चिकनपॉक्स जैसी संक्रामक बीमारियां बढ़ रही हैं, जबकि चिकित्सा संगठन हैजा और महामारी के खतरे की चेतावनी देते रहे हैं.

वेस्ट में इजरायली बलों ने 168 नागरिकों को मारा

संयुक्त राष्ट्र एजेंसी OCHA का कहना है कि 7 अक्टूबर से कब्जे वाले वेस्ट बैंक में इजरायली बलों द्वारा 46 बच्चों सहित 168 फिलिस्तीनियों को मार दिया गया है.

कब्जे वाले पूर्वी यरुशलम में इजरायली निवासियों द्वारा एक बच्चे सहित अन्य आठ लोगों की हत्या कर दी गई. OCHA ने कहा कि यह 2023 में सभी फिलिस्तीनी मौतों का 42 प्रतिशत है.

11 नवंबर को रियाद में अरब-इस्लामी आपातकालीन शिखर सम्मेलन में भाग लेने वालों ने गाजा की घेराबंदी को समाप्त करने का आह्वान किया. एक बयान में, नेताओं ने गाजा में सहायता की अनुमति देने की मांग की और इजरायल को हथियारों के निर्यात को रोकने का आह्वान किया.

लंदन में हुआ फिलिस्तीन के समर्थन में मार्च

मिडिल लंदन में हजारों की संख्या में नागरिक इकट्ठा होकर फिलिस्तीन के साथ एकजुटता दिखाते हुए "गाजा पर बमबारी बंद करो" और "अभी युद्धविराम करो" के नारे लगाते हुए मार्च किया.

Al Jazeera की रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने कहा कि मध्य लंदन में 82 लोगों को गिरफ्तार किया गया. सेनोटाफ के पास पुलिस और दक्षिणपंथी प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पें हुईं. इसे तोड़ने के लिए पुलिस ने लाठियां भांजीं.

ब्रिटेन सरकार के मंत्रियों ने शनिवार के मार्च को रद्द करने का आह्वान किया था क्योंकि यह युद्धविराम दिवस पर पड़ता है, जो प्रथम विश्व युद्ध के अंत का प्रतीक है और सैन्य कार्रवाई में मारे गए लोगों की याद दिलाता है.

0

तुर्की ने मिडिल ईस्ट में शांति का अह्वान किया

इजरायल और हमास के बीच चल रही जंग के लिए तत्काल युद्धविराम के लिए अपना आह्वान दोहराते हुए राष्ट्रपति एर्दोगन ने कहा कि इजरायल बदला ले रहा है...गजा के बच्चों, बच्चों और महिलाओं से. "गाजा में जो जरूरी है वह कुछ घंटों के लिए रुकना नहीं है, बल्कि हमें एक स्थायी युद्धविराम की जरूरत है."

एर्दोगन ने कहा कि संघर्ष का स्थायी समाधान 1967 की सीमाओं के आधार पर फिलिस्तीनी राज्य के गठन पर निर्भर करता है. हमारा मानना है कि एक अंतर्राष्ट्रीय शांति सम्मेलन इसके लिए सबसे उपयुक्त आधार प्रदान करेगा. हम गारंटर सहित आवश्यक प्रयास करने के लिए तैयार हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

हर दस मिनट में एक बच्चे की मौत

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक नया आंकड़ा देकर सबको चौंका दिया है. WHO के डायरेक्टर जनरल डॉ. टेड्रोस अधनोम घेब्रेयसस ने कहा है कि गाजा में औसत हर 10 मिनट में एक बच्चे की मौत हो रही है. WHO ने ये भी कहा है कि जब से युद्ध शुरू हुआ है, तब से अस्पतालों, मरीजों, एंबुलेंस और क्लिनिक्स पर 250 हमलों की पुष्टि हुई है.

इजरायल का कहना है कि उसने फिलिस्तीनियों के लिए उत्तरी गाजा पट्टी छोड़ने और दक्षिण की ओर जाने के लिए दूसरा मानवीय गलियारा खोला है. "रशीद" तटीय सड़क शुक्रवार को खोली गई. गलियारों का समय सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक बढ़ा दिया गया है.

अस्पतालों और स्कूलों पर हो रहे हमले

गाजा में स्थानीय अधिकारियों के मुताबिक इजरायली सेना उत्तर इलाके में कई अस्पतालों पर कब्जा कर रही है. गाजा के अल-शिफा हॉस्पिटल के आस-पास भी हमले हो रहे हैं. इससे पहले अल-शिफा और अल-कुद्स अस्पतालों सहित कई मेडिकल सेंटर्स पर हमलें की खबरें सामने आ चुकी हैं.

अल-शिफा के निदेशक मुहम्मद अबू सल्मिया ने कहा है कि

डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ "आखिरी क्षण" तक मरीजों के साथ रहेंगे. WHO प्रमुख ने भी अस्पतालों की स्थिती को अकल्पनीय बताया और युद्ध विराम की अपील की. इजरायली सेना के एक प्रवक्ता ने कहा, "अगर हमास के आतंकवादी अस्पतालों से गोलीबारी करते हुए देखे गए, तो हम वही करेंगे जो हमें करने की जरूरत है."

गाजा पर इजरायल की भारी बमबारी जारी है. गाजा शहर के अल-बुराक स्कूल पर हमले में कम से कम 50 लोग मारे गए हैं. इजरायल ने कहा है कि पिछले दो दिनों में 100,000 से ज्यादा फिलिस्तीनी गाजा में दक्षिण की ओर चले गए हैं. हालांकि, कई लोगों का कहना है कि वे लड़ाई के चलते अभी भी फंसे हुए हैं. इजरायल के प्रधान मंत्री ने फिर से कहा है कि युद्ध के बाद गाजा इजरायली सुरक्षा नियंत्रण में रहेगा.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

गाजा में मौत की तादाद 11 हजार पार, 4 हजार से ज्यादा बच्चे

हमास स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक गाजा में मरने वालों की कुल संख्या 11 हजार के पार हो गई है. इसमें 4500 से ज्यादा बच्चे और तीन हजार से ज्यादा महिलाएं शामिल हैं. इजरायल ने कहा है कि उसने ताजा रेड के दौरान वेस्ट बैंक में 41 फिलिस्तीनी लोगों को गिरफ्तार किया है. इसमें 14 हमास के आतंकी हैं.

10 नवंबर को उत्तरी इजरायल में सैनिकों पर मिसाइल और ड्रोन हमलों के जवाब में इजरायल रक्षा बलों ने दक्षिणी लेबनान में हिजबुल्लाह के कई ठिकानों पर हमला किया है. इजरायली सेना के अनुसार, लेबनान की तरफ से लॉन्च की गई एक एंटी-टैंक-गाइडेड मिसाइल ने मेनारा के इलाके के पास सेना की एक चौकी पर गिरी.

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने कहा है कि इजरायल को गाजा पर बमबारी और नागरिकों की हत्या बंद करनी चाहिए. शुक्रवार देर रात बीबीसी के साथ एक इंटरव्यू में, मैक्रॉन ने कहा कि बमबारी का "कोई औचित्य नहीं"

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने 10 नवंबर को ओमान के सुल्तान हैथम बिन तारिक अल सैद के साथ इजरायल-हमास युद्ध पर बात की. व्हाइट हाउस के अनुसार, "दोनों नेताओं ने गाजा के हालातों, लगाातर मानवीय पहुंच के महत्व और अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानून के अनुसार नागरिकों की रक्षा के महत्व पर बात की."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें