ADVERTISEMENTREMOVE AD

पाकिस्तान चुनाव: खुद एक सीट हारे, बहुमत से दूर.. फिर भी 'जश्न' में नवाज- भारत पर क्या कहा?

पाकिस्तान में सरकार बनाने के लिए बहुमत का आंकड़ा 134 है. अबतक कोई भी पार्टी अकेले इसके पास नजर नहीं आ रही है.

Published
छोटा
मध्यम
बड़ा

पाकिस्तान (Pakistan Election) के आधिकारिक चुनावी नतीजे धीरे-धीरे आ रहे हैं. बहुमत के आंकड़े को फिलहाल कोई पार्टी पार नहीं कर पाई है. खबर लिखे जाने तक भले ही नवाज शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एन) सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी थी लेकिन नवाज की पार्टी से भी ज्यादा पीटीआई (इमरान खान की पार्टी) समर्थित निर्दलीय उम्मीदवारों की जीत हुई है. 

ADVERTISEMENTREMOVE AD

इस बीच नवाज शरीफ, बेटी मरियम और छोटे भाई शहबाज शरीफ ने सभी के सामने आकर अपने कार्यकर्ताओं को जीत की बधाई दे दी. नवाज शरीफ ने कहा कि, "हम आप सभी को बधाई देते हैं क्योंकि, अल्लाह के फजल से, पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एन) सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है... हम हर पार्टी को दिए गए जनादेश का सम्मान करते हैं ..हम उन्हें जख्मी पाकिस्तान को संकट से बाहर निकालने के लिए आमंत्रित करते हैं कि वे आए और मिलकर काम करें (सरकार बनाए)."

उन्होंने कहा हमारा एजेंडा पाकिस्तान को बनाना है. हमने इस मुल्क के बहुत कुछ किया है और ये सब जानते हैं. पाकिस्तान को इस जख्म से बाहर निकालने के लिए कम से कम 10 साल लगेंगे. आप सबकी जिंदगी का सवाल है, बच्चों के भविष्य का सवाल है.

उन्होंने कहा कि, हम दुनिया से पाकिस्तान के रिश्ते मजबूत करेंगे और अपने पड़ोसी मुल्कों के साथ भी रिश्तों को बेहतर करेंगे.

बता दें कि नवाज शरीफ एक सीट पर खुद पीटीआई समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार से हार गए हैं. मनसेहरा के NA-15 सीट से खड़े नवाज शरीफ को 80,382 वोट मिले हैं जबकि पीटीआई समर्थित शहजादा मोहम्मद गुस्तासिफ खान ने 105,249 वोट पाकर जीत हासिल की है.

हालांकि नवाज शरीफ को N-130 सीट पर बहुत बड़ी जीत हासिल हुई. उन्होंने लगभग 60 हजार वोटों से यहां जीत हासिल की है.

वहीं उनकी बेटी मरियम और छोटे भाई पूर्व पीएम शहबाज शरीफ ने जीत दर्ज कर ली है.

0

पाकिस्तान में कैसे बनेगी सरकार?

पाकिस्तान में कुल 336 संसदीय सीट हैं. इसमें से 266 पर वोटिंग के जरिए सांसदों का चुनाव होता है. जबकि 70 सीटें आरक्षित होती हैं - जिनमें से 60 महिलाओं के लिए और 10 गैर-मुसलमानों के लिए आरक्षित होती हैं. सदन में हर पार्टी की ताकत के अनुसार इन सीटों का आवंटन किया जाता है. वहीं चुनाव के बाद निर्दलीय उम्मीदवारों के पास किसी भी पार्टी में शामिल होने का विकल्प होता है.

पाकिस्तान में सरकार बनाने के लिए बहुमत का आंकड़ा 134 है.

जो पार्टी या गठबंधन इस आंकड़े को पार कर लेता है, उसका नेता अगली सरकार बनाता है और खुद प्रधानमंत्री बनता है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×