ADVERTISEMENT

CWG 2022: अंशु मलिक की 'चांदी' के पीछे दादी की प्रेरणा, विरासत में मिली पहलवानी

Anshu Malik ने CWG 2022 में सिल्वर मेडल जीता.

Published
CWG 2022: अंशु मलिक की 'चांदी' के पीछे दादी की प्रेरणा, विरासत में मिली पहलवानी
i

कॉमनवेल्थ गेम्स में हरियाणा के पहलवानों से पूरे देश को उम्मीद थी. इस उम्मीद को बरकरार रखते हुए उन्होंने देश को निराश भी नहीं किया. शुक्रवार को भारत ने पहलवानी में 6 मेडल जीते. धुरंधर पहलवान अंशु मलिक (Anshu Malik) से भी पूरा देश उम्मीद लगाये बैठा था, हाालांकि वो गोल्ड जीतने से तो चूक गईं लेकिन 'चांदी' जरूर ले आईं.

बता दें कि अंशु मलिक का जन्म हरियाणा के जींद जिले के छोटे से गांव निडानी में हुआ है. गांव से ही अंशु ने दंगल की शुरुआत की थी.

ADVERTISEMENT

अंशु मालिक का कॉमनवेल्थ तक का सफर

अंशु मलिक ने 3 साल पहले जूनियर वर्ग में होते हुए भी सीनियर नेशनल खेला और गोल्ड मेडल जीता था. इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. वो एक के बाद एक जीत दर्ज करते हुए 57 किलो भार वर्ग में देश के धुरंधर पहलवानों में शामिल हो गईं. महज 19 साल की उम्र में अंशु ने टोक्यो ओलंपिक के लिए कॉलिफाई किया था. हलांकि टोक्यो में वो मेडल जीतने से चूक गई थीं.

दादी से मिली खेलने की प्रेरणा

अंशु मलिक की मां मंजू मलिक ने बताया कि अंशु को खेल की प्रेरणा उनकी दादी से मिली है. दादी से प्रेरणा मिलने के बाद अंशु ने 2013 से खेल शुरू कर दिया था. इसके बाद उन्होंने लगातार मेडल हासिल किए. परिवार के सभी लोग अंशु को बेटे की तरह ही ध्यान रखते हैं और खूब लाड़ करते हैं.

पहलवानी विरासत में मिली- अंशु गांव में ही रहती हैं और चार घंटे सुबह शाम को प्रेक्टिस करती हैं. इस बार सभी को उम्मीद थी कि अंशु कॉमनवेल्थ गेम्स में मेडल लेकर आएगी और देश का नाम रौशन करेंगी. एशियन चैंपियनशिप में गोल्ड और विश्व कप में सिल्वर जीतने वाली अंशु मलिक को पहलवानी विरासत में मिली है. उनके ताऊ नेशनल लेवल के पहलवान थे और पिता भी पहलवान हैं. उन्होंने ही अंशु मलिक को शुरुआती दांव-पेंच सिखाए थे.

ADVERTISEMENT

अंशु मालिक के पिता का बयान

अंशु मलिक के पिता धर्मवीर मलिक ने बताया कि उनकी बेटी ग्राउंड पोजीशन में थोड़ी कमजोर है, जिस पर अंशु ने काफी मेहनत भी की है. अंशु ने पहलवानी की शुरुआत 2016 में सीबीएसएम स्पोर्ट्स कॉलेज से की थी. वैसे 2016 भी अंशु के लिए खासा अच्छा साबित हुआ, लेकिन नाम अंशु को 2017 में मिला, जब वो वर्ल्ड चैंपियन बनी थी. 21वर्षीय अंशु मलिक ने इससे पहले भी कई पदक जीत चुकी हैं.

अंशु मलिक के पिता धर्मवीर मलिक भी अंतरराष्ट्रीय पहलवान रह चुके हैं. उनके चाचा पवन मलिक तो दक्षिण एशियाई खेलों के गोल्ड मेडल जीत चुके हैं. अंशु का छोटा भाई शुभम भी पहलवानी करता है. इस तरह इनका पूरा परिवार पहलवानी से जुड़ा हुआ है. अंशु मलिक ने 13 साल की आयु में ही पहलवानी शुरू कर दी थी. उन्होंने जगदीश श्योराण से कुश्ती सीखी.
ADVERTISEMENT

अंशु मालिक ने पहलवानी में ये मेडल जीते

अंशु मलिक ने साल 2016 में एशियन सब जूनियर चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल

  • 2016 में ही विश्व कैडिट चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल

  • 2017 में विश्व खेल स्कूल चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल

  • 2017 में एशिया कैडिट कुश्ती चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल

  • 2017 में ही एथेंस में विश्व कैडिट चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल

  • 2018 में एशियन सब जूनियर चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल

  • विश्व जूनियन चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल

विश्व सब जूनियर चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल और 2019 में एशियन सब जूनियर चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीता था.

इनपुट- नरेश मजोका

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, sports और all-sports के लिए ब्राउज़ करें

टॉपिक:  commonwealth games 2022 

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×