ADVERTISEMENT

क्रिप्टो करेंसी की कीमतों में गिरावट: खरीदें, बेचें या होल्ड करें?

क्रिप्टो बाजार काफी वोलाटाइल माना जाता है.

Updated
<div class="paragraphs"><p>क्रिप्टोकरेंसी बाजार में गिरावट.&nbsp;खरीदे, बेचे या होल्ड करें?</p></div>
i

कुछ नकारात्मक खबरों से क्रिप्टो बाजार हाल में टूटा है. बिटकॉइन, इथेरियम, डॉजकॉइन समेत सारी डिजिटल करेंसी अपने शिखर स्तरों से बड़ी छूट के साथ बिक्री के लिए उपलब्ध हैं. फिर भी आशंकाओं के कारण निवेशक क्रिप्टो मार्केट में अपनी रणनीति को लेकर संशय में हैं. आइए देखते हैं क्रिप्टो बाजार में स्ट्रेटेजी को लेकर एक्सपर्ट्स की क्या है सलाह-

क्रिप्टो कीमतों में आई है भारी गिरावट:

पूरे क्रिप्टोकरेंसी मार्केट का वैल्यूएशन बीते कुछ दिनों में काफी नीचे आया है. बिटकॉइन ने 14 अप्रैल को अपना 64,850 डॉलर का उच्चतम स्तर हासिल किया था. कॉइनमार्केटकैप वेबसाइट के अनुसार रविवार सुबह बिटकॉइन इस स्तर से करीब 42% नीचे रहकर 37,500 डॉलर के करीब व्यापार कर रहा है. बीते एक हफ्ते में ही इस क्रिप्टोकरेंसी के भाव में करीब 22% की बड़ी कमी आई है.

इथेरियम केवल आखिरी 7 दिनों में लगभग 40% टूटकर 2300 डॉलर के करीब ट्रेड कर रहा है. 12 मई को इथेरियम ने अपना 4,362 का शिखर स्तर बनाया था.

बाइनेंस कॉइन अब क्रिप्टो बाजार में मार्केट कैप के अनुसार तीसरे की जगह पांचवें स्थान पर आ गया है. 10 मई को 690 डॉलर का रिकॉर्ड स्तर छूने के बाद इस क्रिप्टोकरेंसी का भाव अब 57% नीचे रहकर 300 डॉलर के करीब है. एक हफ्ते में बाइनेंस कॉइन 48% कमजोर हुआ है.

Dogecoin भी अन्य क्रिप्टोकरेंसी की तरह ही हफ्ते भर में काफी गिरकर 35% नीचे आ गया है. अभी 0.34 डॉलर के करीब व्यापार कर रहा Dogecoin अपने 8 मई के शिखर स्तर से 53% नीचे है. अन्य क्रिप्टोकरेंसी भी इसी तरह बड़े करेक्शन के साथ ट्रेड कर रहे हैं.

ADVERTISEMENT

क्या रही है गिरावट की वजह?

क्रिप्टो मार्केट में हालिया गिरावट के पीछे कई अहम वजहें रही. चीन ने वित्तीय संस्थाओं और भुगतान कंपनियों के क्रिप्टो संबंधी सुविधा देने पर पूरी तरह से रोक लगाने की घोषणा की है. स्पेकुलेटिव क्रिप्टो ट्रेडिंग को लेकर भी निवेशकों को चेताया गया है. साथ ही टेस्ला के बिटकॉइन से भुगतान संबंधी फैसला वापस लेने से भी मार्केट पर बुरा असर पड़ा. एलन मस्क की कंपनी टेस्ला के बिटकॉइन होल्डिंग्स को बेचने को लेकर भी अटकलें लगाई जा रही थी. क्रिप्टो बाजार की बड़ी तेजी ने इस मार्केट के ओवर वैल्यूएशन के भी संकेत दिए थे. इन फैक्टरों के अलावा टेक्निकल चार्ट्स, इत्यादि भी गिरावट की वजह बने.

ADVERTISEMENT

खरीदे, बेचे या होल्ड करें?

क्रिप्टो बाजार काफी वोलाटाइल माना जाता है. खबरों का भी मार्केट पर बड़ा असर दिखता है. ऐसे में ज्यादातर जानकार मानते हैं कि गिरावट तात्कालिक है और यह खरीदारी का एक अच्छा मौका हो सकता है.

कोई भी एसेट जिसने साल भर में बिटकॉइन जैसा रिटर्न दिया हो, उससे करेक्शन की स्वभाविक उम्मीद की जा सकती है, क्योंकि जैसा हम अभी देख भी रहे हैं, कुछ निवेशक प्रॉफिट निकालेंगे.
रॉयटर्स से गेवीन स्मिथ, CEO, पैंग्जोरा क्रिप्टो कांसोर्टियम

कुछ एक्सपर्ट्स के अनुसार क्रिप्टो बाजार अपने सही वैल्यूएशन से काफी आगे निकल चुका था.कम अनुभव वाले निवेशकों को सिस्टमिक प्लान के तहत धीरे धीरे और लगातार खरीदारी शुरु करनी चाहिए. यह प्लान कम से कम 2 वर्षों का होना चाहिए

ADVERTISEMENT
बिटकॉइन कीमतों में शिखर से 40% तक की गिरावट नाटकीय लगती है लेकिन यह क्रिप्टो समेत सभी वोलाटाइल मार्केट में आम बात है, खासतौर पर बड़ी तेजी के बाद. ऐसे करेक्शन सामान्य तौर पर शार्ट टर्म ट्रेडर्स की प्रॉफिट बुकिंग के कारण आते हैं. लांग टर्म वाले वैल्यू इन्वेस्टर्स इसे खरीदने का मौका कह सकते हैं.
न्यूज18 से अविनाश शेखर, को-CEO, जेबपे
कम अनुभव वाले निवेशकों को सिस्टमिक प्लान के तहत धीरे धीरे और लगातार खरीदारी शुरु करनी चाहिए. यह प्लान कम से कम 2 वर्षों का होना चाहिए
दि क्विंट से बातचीत में आशीष मेहता, को-फाउंडर, DigitX
ADVERTISEMENT

कुछ जानकार निवेशकों को थोड़ा बचकर निवेश करने की भी सलाह देते हैं. शार्ट टर्म की जगह लांग टर्म निवेशकों के लिए यह बाजार ज्यादा उपयुक्त हो सकता है.

निवेशकों को डिजिटल एसेट मार्केट के लिए लांग टर्म व्यू रखना चाहिए. अल्टकॉइन और इथेरियम समय के साथ पिछले स्तरों पर वापस आ सकते हैं. शौकिया और नए निवेशकों के लिए मार्केट से दूर रहना बेहतर हो सकता है. क्रिप्टो मार्केट की हालिया वोलैटिलिटी ऐसे निवेशकों के लिए थोड़ी ओवरव्हेलमिंग हो सकती है.
दि क्विंट से शरत चंद्रा, क्रिप्टो और टेक मामलों के जानकार
अभी तक के ट्रेंड्स के अनुसार, लांग टर्म में (क्रिप्टो) कीमतें स्थिर नहीं हुई हैं. वर्तमान बेयर मार्केट की यही स्थिति लगती है. निवेशकों को समझना चाहिए की भले ही भविष्य में प्रॉफिट की कितनी भी संभावना हो, कैपिटल लंबे समय के लिए लॉक हो सकता है. ऐसे में उनको केवल इतना ही पैसा बाजार में लगाना चाहिए जितना उन्हें खोना उन्हें मंजूर है.
CNBC TV18 से सात्विक विश्वनाथ, CEO और को-फाउंडर ऑफ यूनोकॉइन

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT