ADVERTISEMENT

शेयर बाजार के लिए कैसा रहा बजट? निवेशकों को देना ही पड़ेगा टैक्स, एक्सपर्ट की राय

Budget 2022: बाजार में निवेश करने वालों आम निवेशकों को इस बजट से कोई राहत नहीं मिली.

Published
शेयर बाजार के लिए कैसा रहा बजट? निवेशकों को देना ही पड़ेगा टैक्स, एक्सपर्ट की राय
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

Budget 2022: आम बजट 2022 से शेयर बाजार (Stock Market) खुश दिखा. शेयर बाजार के प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स और निफ्टी में शानदार तेजी दर्ज की गई. बजट वाले दिन BSE सेंसेक्स (Sensex) 1.46% या करीब 848 अंक ऊपर 58,862 पर बंद हुआ. जबकि, NSE का 50 शेयरों वाला निफ्टी 50 (Nifty) 1.37% यानी 237 अंक चढ़कर 17,577 पर बंद हुआ.

ADVERTISEMENT

हालांकि बाजार में निवेश करने वालों आम निवेशकों को इस बजट से कोई राहत नहीं मिली. बजट से उम्मीद की जा रही थी कि सरकार लॉन्ग टर्म कैपिटल गैन को हटा देगी या इसे पहले से कम करेगी. लेकिन वित्त मंत्री ने इसे पूरी तरीके से नजरअंदाज किया. मतलब अब आपको पहली की तरह ही इक्विटी पर 15% लॉन्ग टर्म कैपिटल गैन (LTCG) टैक्स देना पड़ेगा. सिक्योरिटीज ट्रांसकेशन चार्ज में कोई छुट नहीं दी गई.

एक्सपर्ट्स ने बजट को बताया ग्रोथ ओरिएंटड

यह एक लॉन्ग टर्म ग्रोथ ओरिएंटड बजट है जिसका बाजार ने स्वागत किया है. यह भविष्य में विकास का समर्थन करेगी. हालाँकि, यह बजट वर्तमान इन्फेलेशन (महंगाई) और धीमी अर्थव्यवस्था के संदर्भ में कुछ संतुलन उपायों को छोड़ रहा है. ग्रामीण, कृषि, लो टैक्सपेयर्स और महामारी से प्रभावित क्षेत्रों के लिए सहायक उपायों की आवश्यकता थी. हाई इन्फेलेशन के कारण कमोडिटी और तेल की कीमतों और ब्याज दरों में बढ़ोतरी, हाई कैपिटल एक्सपेंडिचर, फिसकल डेफिसिट और उधार योजनाएं शॉर्ट से मध्यम अवधि में चुनौतियां होंगी.
विनोद नायर, हेड ऑफ रिसर्च, जियोजित फाइनेंशियल सर्विस
ADVERTISEMENT

अब सबकी नजर RBI की बैठक पर

बजट बीत चुका है और अब 9 फरवरी'22 प्रासंगिक हो गया है. अपनी आने वाली बैठक में आरबीआई द्वारा दरें बढ़ाने के बारे में टिप्पणी अधिक प्रासंगिक होगी. हमारे अनुसार दिसंबर 2022 तक निफ्टी 20,000 और सेंसेक्स लगभग 65000 का आकड़ा छू सकता है. हालांकि बाजार में काफी उतार-चढ़ाव वाली रहने की संभावना है. वित्त वर्ष 23 में 15-20 प्रतिशत की एअर्निंग ग्रोथ की संभावना है. इंफ्रास्ट्रक्चर, रियल एस्टेट, उद्योग, वित्तीय, सूचना प्रौद्योगिकी और फार्मास्यूटिकल्स जैसे क्षेत्रों में बेहतर प्रदर्शन की संभावना है, जबकि उपभोक्ता स्टेपल और डीसक्रिएशनरी कमजोर प्रदर्शन कर सकते हैं.
मोतीलाल ओसवाल, मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ, मोतीलाल ओसवाल

इंफ्रास्ट्रक्चर पर खासा जोर

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी को प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत 80 लाख घरों को पूरा करने और PMAY शहरी और ग्रामीण के तहत 48,000 करोड़ रुपये के आवंटन की घोषणा की। 2023 तक 80 लाख घरों के बनने की उम्मीद है. इन घोषणाओं से इंफ्रास्ट्रक्चर स्टॉक्स को फायदा हो सकता है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×