ADVERTISEMENT

2035 तक कोविड से आई मंदी से उबर पाएगा भारत- RBI

RBI ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि मॉनेटेरी और फिस्कल पॉलिसी को रीबैलेंस करना ग्रोथ को हासिल करने में पहला कदम होगा.

2035 तक कोविड से आई मंदी से उबर पाएगा भारत- RBI
i

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

कोरोना वायरस महामारी (COVID-19 Pandemic) से पिछले दो सालों से जूझ रही भारतीय अर्थव्यवस्था को पूरी तरह से पटरी पर आने में अभी लंबा वक्त लगेगा. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने अपनी 'करंसी एंड फाइनेंस रिपोर्ट 2021-22' में अनुमान लगाया है कि साल 2034-35 तक भारतीय अर्थव्यवस्था पूरी तरह से रिकवर हो सकती है.

ADVERTISEMENT
रिपोर्ट में कहा गया है कि 2020-21 में 19.1 लाख करोड़, 2021-22 में 17.1 लाख करोड़ और 2022-23 में 16.4 लाख करोड़ के आउटपुट नुकसान का अनुमान है.

रिपोर्ट में कहा गया है, "2020-21 के लिए (-) 6.6 प्रतिशत का वास्तविक ग्रोथ रेट, 2021-22 के लिए 8.9 प्रतिशत और 2022-23 के लिए 7.2 प्रतिशत का ग्रोथ रेट और उससे आगे 7.5 प्रतिशत के ग्रोथ रेट को देखते हुए, भारत के 2034-35 तक कोविड-19 से हुए नुकसान से उबरने की उम्मीद है."

RBI ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि मॉनेटेरी और फिस्कल पॉलिसी को रीबैलेंस करना ग्रोथ की हासिल करने में पहला कदम होगा.

ADVERTISEMENT

रिजर्व बैंक ने कहा कि महामारी एक ऐसा समय है, जो इससे पहले नहीं देखा गया. बतौर रिपोर्ट, "सरकार द्वारा कैपिटल एक्सपेंडिचर पर निरंतर जोर, डिजिटलीकरण को बढ़ावा देना और ई-कॉमर्स, स्टार्ट-अप, रिनीबल और सप्लाई चेन लॉजिस्टिक जैसे क्षेत्रों में नए निवेश के लिए बढ़ते अवसर, अर्थव्यवस्था में औपचारिक-अनौपचारिक अंतर को बंद कर, ट्रेंड ग्रोथ को बढ़ावा देने में योगदान दे सकते हैं."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×