हमसे जुड़ें
ADVERTISEMENTREMOVE AD

NDTV पर अडानी ग्रुप का टेकओवर पूरा हुआ, रॉय दंपत्ति ने कहा-ये आपसी सहमति से हुआ

NDTV-Adani Deal: राधिका और प्रणय रॉय एनडीटीवी में 27.26 प्रतिशत हिस्सेदारी अडानी ग्रुप को बेचेंगे.

Published
 NDTV पर अडानी ग्रुप का टेकओवर पूरा हुआ, रॉय दंपत्ति ने कहा-ये आपसी सहमति से हुआ
i
Hindi Female
listen

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

नई दिल्ली टेलीविजन लिमिटेड (NDTV) के संस्थापक प्रणय रॉय (Prannoy Roy) और राधिका रॉय (Radhika Roy) ने शुक्रवार को बताया कि उन्होंने कंपनी में अपने अधिकांश शेयर अरबपति गौतम अडानी (Gautam Adani) को बेचने का फैसला किया है. इसके साथ ही अडानी ग्रुप का अब एनडीटीवी में करीब 65% हिस्सेदारी पर कंट्रोल होगा.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

अपने बयान में प्रणय और राधिका रॉय ने क्या कहा?

प्रणय रॉय और राधिका रॉय ने अपने संयुक्त बयान में कहा कि, "AMG मीडिया नेटवर्क, हालिया ओपन ऑफर के बाद, अब NDTV में सबसे बड़ा शेयरधारक है. नतीजतन, आपसी समझौते से हमने NDTV में अपने अधिकांश शेयरों को AMG मीडिया नेटवर्क को बेचने का फैसला किया है." इसके साथ ही उन्होंने कहा कि,

"ओपन ऑफर लॉन्च होने के बाद गौतम अडानी के साथ हमारी चर्चा सकारात्मक रही है. हमारी ओर से दिए गए सभी सुझावों को उन्होंने सकारात्मकता और खुलेपन के साथ मान लिया है."

दोनों का यह बयान एनडीटीवी की प्रवर्तक कंपनी RRPR होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड के निदेशकों के पद से इस्तीफा देने के हफ्तों बाद आया है.

NDTV के संस्थापकों ने मीडिया कंपनी में अपने 27.26 प्रतिशत शेयर अडानी समूह को बेचने का फैसला किया है. एनडीटीवी ने शुक्रवार को स्टॉक एक्सचेंज फाइलिंग में कहा कि राधिका और प्रणय रॉय एनडीटीवी में क्रमशः 13.44 प्रतिशत और 13.82 प्रतिशत हिस्सेदारी अडानी समूह के स्वामित्व वाली RRPR होल्डिंग को बेचेंगे.

इससे अडानी ग्रुप की कंपनी में कुल हिस्सेदारी बढ़कर 64.71 फीसदी हो जाएगी.

बता दें कि अडानी ग्रुप के पास पहले से ही NDTV की करीब 37 फीसदी हिस्सेदारी थी. जो उसने खुली पेशकश और पहले के अधिग्रहण के बाद हासिल की थी.

'NDTV के विकास के अगले चरण को देखने के लिए उत्सुक'

शुक्रवार को अपने बयान में रॉय दंपत्ति ने कहा कि, "अडानी ने एक ऐसे ब्रांड में निवेश किया है, जो भरोसे, विश्वसनीयता और स्वतंत्रता का पर्याय है. हमें उम्मीद है कि वह इन मूल्यों को बनाए रखेंगे और पूरी जिम्मेदारी के साथ उनका विस्तार करेंगे."

बयान में आगे कहा गया है, "हमने 1988 में एनडीटीवी की शुरुआत इस विश्वास के साथ की थी कि भारत में पत्रकारिता विश्वस्तरीय है, लेकिन एक मजबूत और प्रभावी प्रसारण मंच की जरूरत है जो इसे बढ़ने और चमकने दे."

"हम एनडीटीवी और इसके उत्कृष्ट पत्रकारों, प्रोड्यूसरों और एनडीटीवी की पूरी असाधारण टीम को विकास के अगले चरण में देखने के लिए उत्सुक हैं, जिस पर भारत गर्व कर सके."

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
और खबरें
×
×