ADVERTISEMENT

Zomoto और Swiggy से क्यों नाराज हैं रेस्तरां?

कंपनियों पर आरोप हैं कि वह कई रेस्टोरेंट से बहुत ज्यादा कमीशन लेते हैं और ग्राहकों के डाटा की मास्किंग करते हैं

Published
<div class="paragraphs"><p>zomato swiggy&nbsp;</p></div>

नेशनल रेस्टोरेंट एसोसिशन ऑफ इंडिया (NRAI) ने CCI कॉम्पटीशन कमीशन ऑफ इंडिया के पास जाकर Zomoto और Swiggy पर कई आरोप लगाए। CCI ऐसी संस्था है जो यह सुनिश्चित कराती है कि किसी भी प्रकार के बिजनेस में कंपटीशन बना रहे और किसी एक कंपनी का वर्चस्व ना आ जाए।

क्या आरोप लगाए NRAI ने Swiggy और Zomato पर

NRAI का कहना है कि Swiggy और Zomato रेस्टोरेंट का ऑर्डर लेते हैं और ग्राहकों की जानकारी अपने पास रखते हैं, जैसे उनका नाम, पीटा वेज नॉनवेज की प्रीफैंस. NRAI का कहना है कि यह कम्पनियां डाटा की मास्किंग कर रहीं हैं.

NRAI ने इन कम्पनियों पर रेस्टोरेंट से ज्यादा कमीशन लेने का आरोप भी लगाया है. साथ ही यह भी बोला है कि महामारी के दौर में इन कम्पनियों के ऐसे रवैए से कई रेस्टोरेंट बंद भी हो गए. क्यूंकि महामारी के चलते लोग रेस्टोरेंट में जाकर खाने की बजाय Swiggy और Zomato जैसी ऑनलाइन सर्विस देने वाली कम्पनियों से खाना मंगवाना ज्यादा पसंद करते हैं. लेकिन इन कंपनियों ने नियमों को ना मानते हुए ऐसे काम किए जिससे कई रेस्टोरेंट बंद हो गए.

NRAI ने यह भी कहा कि ये कंपनियां अपनी रेस्टोरेंट की प्रिफरेंस लिस्ट में किस तरीके से फेर बदल करतीं हैं उसका पता नहीं है. साथ ही यह भी कहा कि जो रेस्टोरेंट ज्यादा कमीशन देते हैं उन्हें पहले दिखाया जाता है और बाकियों को लिस्ट में नीचे कर दिया जाता है साथ ही इन कंपनियों के द्वारा चलित "क्लाउड किचिन" होते हैं उनको लिस्ट में ऊपर दिखाने में प्रिफरेंस मिलती है.

CCI ने क्या इस मसले पर क्या है राय

हालांकि सीसीआई ने अब तक इस मामले में कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया है लेकिन इनके द्वारा पहले किए गए अध्ययनों में यह बात आई है कि कई रेस्टोरेंट जो ज्यादा कमीशन देते हैं उन्हें रेस्टोरेंट की लिस्ट में ऊपर रखा जाता है. कंपनियों द्वारा इसपर पारदर्शिता लाने की जरूरत है.

Swiggy और Zomato की क्या प्रतिक्रिया आई

Swiggy और Zomato ने इस मामले में अभी तक कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया है लेकिन पहले भी वह "डाटा मास्किंग" पर अपनी सफाई दे चुके हैं.

उनका कहना है कि जो डाटा हमें ग्राहकों से मिलता है हम वह साझा नहीं कर सकते, क्योंकि वह निजता के नियम का उल्लंघन होगा, जो डाटा शेयर करने लायक रहता है, जैसे रेस्टोरेंट पर ग्राहकों के द्वारा दिए गए रेटिंग और रिव्यूज वो हम जरूर शेयर करते हैं.

आगे क्या होने वाला है?

CCI आगे NRAI की शिकायत की जांच करेगा उसके बाद ही चीजें साफ हो पाएंगी.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT