ADVERTISEMENT

महंगाई का दौर, फिर भी गिर रहे कच्चे तेल से लेकर खाने का तेल सहित कमोडिटी के दाम?

Recession: पिछले छह महिनों के आकड़ों के अनुसार निफ्टी कमोडिटी इंडेक्स में 14 फीसदी की गिरावट आई है.

Published
महंगाई का दौर, फिर भी गिर रहे कच्चे तेल से लेकर खाने का तेल सहित कमोडिटी के दाम?
i

महामारी (Covid Pandemic) की चोट से धीरे धीरे निकल रही दुनिया फिर रूस और यूक्रेन के युद्ध (Russia-Ukraine War) की वजह से फंस गई है जिसके बाद महंगाई (Inflation) आसमान छू रही है. लेकिन महंगाई, बढ़ती ब्याज दरों, मजबूत डॉलर (US Dollar) और जंग की तनातनी के बीच मंदी (Recession) के डर की वजह से क्रूड ऑयल (Crude Oil) ही नहीं बल्कि, खाने का तेल (Edible Oil), गेहूं, सोना, सिल्वर सहित तमाम कमोडिटी के दाम नीचे आने लगे हैं.

ADVERTISEMENT
सीटी रिसर्च की एक रिपोर्ट बताती है कि मंदी के डर की वजह से चीजों की मांग में कमी आती है और अर्थशास्त्र के अनुसार जब मांग में कमी हो तो दाम में भी कमी आती है. अभी मंदी का डर साफ है जिस तरह से अमेरिका और यूरोप के देश ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर रहे हैं इसकी वजह से ये देश मंदी भी देख सकते हैं जिसका असर पूरी दुनिया पर पड़ेगा.

बता दें कि पिछले छह महीनों के आकड़ों के अनुसार निफ्टी कमोडिटी इंडेक्स में 14 फीसदी की गिरावट आई है. इस इंडेक्स में तेल, पेट्रोलियम उत्पाद, सीमेंट, बिजली, रसायन, चीनी, धातु और खनन जैसे सेक्टर शामिल हैं.

ब्रेंट क्रूड इस समय 100 से 105 डॉलर प्रति बैरल के बीच घूम रहा है. इंडस्ट्रियल मेटल्स सेक्टर को देखिए- यहां कॉपर ने लंदन मेटल एक्सचेंज पर 6 जुलाई को 20 महीने का निचला स्तर छू लिया है. एल्युमीनियम और जिंक का भी लगभग यही हाल है.

पाम ऑयल का दाम अप्रैल के अपने रिकॉर्ड लेवल से करीब 45% नीचे है. सोयाबीन में लगभग 17% और सनफ्लावर ऑयल में करीब 12% गिरावट है. पहले गेहूं का दाम मार्च में अपने उच्च स्तर पर था लेकिन अब इसमें भी 35% की कमी आई है.

ADVERTISEMENT

कमोडिटी के दामों में आई गिरावट की सबसे बड़ी वजह तो मंदी के डर को बताया जा रहा है और आर्थिक मंदी का डर इसलिए नजर आ रहा है क्योंकि ब्याज दरों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. बाजार में इंडस्ट्रियल कमोडिटी की मांग गिर रही है.

कोविड महामारी के दौरान क्रूड निर्यातक देशों ने उत्पादन घटाया था. पिछले दिनों उन्होंने उत्पादन बढ़ाने की ओर कदम बढ़ाए हैं. इसके चलते आने वाले दिनों में बाजार में ज्यादा क्रूड उपलब्ध हो सकता है. इसके चलते भी क्रूड के दाम पर दबाव दिख रहा है.

खाद्य तेलों के दाम घटने की एक बड़ी वजह इंडोनेशिया का एक फैसला है. उसने पाम ऑयल के निर्यात पर रोक लगाई थी, जिसे बाद में हटा लिया गया.

गेहूं की बात करें तो दुनिया में गेहूं का सबसे बड़ा सप्लायर रूस है जिसने पिछले दो महीनों में निर्यात बढ़ाया है और एक्सपोर्ट ड्यूटी भी घटाई है. अमेरिका, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में अच्छे मौसम के चलते गेहूं, मक्के और दूसरी फसलों की अच्छी उपज की उम्मीद से भी कीमतों पर असर पड़ा है.

आगे अब सवाल केवल मंदी का है, अमेरिका में आने वाली मंदी का असर पूरी दुनिया पर पडे़गा और भारत भी इस असर का भागीदार बनेगा.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Speaking truth to power requires allies like you.
Q-इनसाइडर बनें
450

500 10% off

1500

1800 16% off

4000

5000 20% off

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
Check Insider Benefits
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×