ADVERTISEMENT

वित्तमंत्री जी, क्रूड 30% सस्ता तो पेट्रोल-डीजल सिर्फ10% क्यों?

क्रूड के मुकाबले सस्ता क्यों नहीं हो रहा पेट्रोल-डीजल

Updated
वित्तमंत्री जी, क्रूड 30% सस्ता  तो पेट्रोल-डीजल सिर्फ10% क्यों?

वित्तमंत्री जी से एक सवाल- एक महीने में क्रूड 30 परसेंट सस्ता हो गया है, तो पेट्रोल और डीजल के दाम सिर्फ 10 परसेंट ही कम हुए, ज्यादा क्यों नहीं?

मंगलवार की रात को अंतरराष्ट्रीय मार्केट में क्रूड के दाम 7 परसेंट गिर गए, फिर भी बुधवार की सुबह घरेलू बाजार में पेट्रोल और डीजल के दाम में एक पैसे भी कमी नहीं की गई.

सरकार दलील देती है कि पेट्रोल-डीजल के दाम सरकार नहीं, बल्कि अंतरराष्ट्रीय बाजार तय करता है, फिर क्रूड सस्ता होने के बाद दाम कम क्यों नहीं किए जा रहे हैं?
ADVERTISEMENT

क्रूड 75 डॉलर से घटकर 63 डॉलर

एक महीने में दिल्ली में पेट्रोल के दाम 84 रुपए लीटर से घटकर करीब 76 रुपए तक खिसके हैं] मतलब 8 रुपए प्रति लीटर की कमी. इसी तरह डीजल करीब 8 रुपए घटकर 71.27 रुपए तक आया है. अब इसी के मुकाबले अंतरराष्ट्रीय मार्केट में क्रूड के भाव देखें, तो ब्रेंट क्रूड 75 डॉलर से अब ब्रेंट 63 डॉलर तक आ गया है.

वैसे पेट्रोल और डीजल के दामों में गिरावट का सिलसिला 5 अक्टूबर से शुरू हुआ था. तब सरकार और पेट्रोलियम कंपनियों ने मिलकर 2.5 रुपए लीटर दाम घटाए थे. इसमें एक्साइज ड्यूटी 1.5 रुपए प्रति लीटर की कमी शामिल है और सरकारी कंपनियों से 1 रुपए प्रति लीटर का बोझ उठाने को कहा गया था. 

रुपया भी सस्ता और क्रूड भी सस्ता

भारत में पेट्रोल-डीजल के दाम पर दो बातों का असर पड़ता है:

  • क्रूड के भाव
  • डॉलर के मुकाबले रुपया

रुपए के मोर्चे पर भी ऑयल मार्केटिंग कंपनियों को राहत मिली है. लगातार डॉलर के मुकाबले 74 के आसपास चल रहा रुपया अब 72 के नीचे आ गया है.

सरकार ने भी उस वक्त महंगे पेट्रोल-डीजल के लिए महंगे क्रूड के साथ-साथ रुपए की गिरावट को जिम्मेदार ठहराया था. इसका सीधा रिश्ता यही है कि क्रूड इंपोर्ट होता है और रुपये के कमजोर होने से क्रूड और महंगा हो जाता है.

ADVERTISEMENT

पेट्रोल से ज्यादा महंगा डीजल

डीजल कई राज्यों में पेट्रोल से महंगा हो गया है. 7 साल पहले इसकी कोई कल्पना नहीं कर सकता था. तब दोनों के बीच 30 रुपए लीटर का फर्क था, जो घटते-घटते 5 रुपए से भी कम रह गया.

गुजरात, ओडिशा और पोर्ट ब्लेयर में तो डीजल ज्यादा महंगा हो गया है. पेट्रोल के मुकाबले डीजल महंगा होने की वजह है कि कई राज्यों में डीजल में ज्यादा वैट है.

डीजल पर पेट्रोल से ज्यादा VAT वाले राज्य

गोवा में VAT

  • पेट्रोल -12.82%
  • डीजल -15.03%

गुजरात में VAT

  • डीजल पर 22.28%
  • पेट्रोल पर 22.19%

ओडिशा

  • डीजल पर 25.08%
  • पेट्रोल 24.63%
ADVERTISEMENT

पेट्रोल-डीजल के दाम कैसे तय होते हैं?

पेट्रोल और डीजल के दाम टेक्निकल तौर पर डीकंट्रोल हैं, यानी कंपनियों को दाम तय करने का अधिकार है. भारत में पेट्रोल और डीजल के दाम रोज बदलते हैं. पेट्रोलियम कंपनियां क्रूड की 15 दिन की औसत कीमत और डॉलर के मुकाबले रुपए के भाव से दाम तय करती हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, business के लिए ब्राउज़ करें

टॉपिक:  डीजल   पेट्रोल   Delhi 

ADVERTISEMENT
Published: 
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×