ADVERTISEMENTREMOVE AD

विधानसभा स्पीकर पर तकरार,BJP से विजय तो RJD से बिहारी मैदान में

विजय कुमार सिन्हा को विधानसभा अध्यक्ष बनाने के पीछे का गणित क्या है?

Updated
story-hero-img
छोटा
मध्यम
बड़ा

बीजेपी के पास सर्प्राइज एलिमेंट की कोई कमी नहीं है. पहले बिहार में दो डिप्टी सीएम बनाकर चौंकाना और अब विधानसभा अध्यक्ष को लेकर सबको हैरान करना. बिहार विधानसभा के अगले अध्यक्ष बीजेपी के वरिष्ठ नेता और लखीसराय के विधायक विजय कुमार सिन्हा होंगे.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

बिहार एनडीए में सत्ता के बंटवारे के बीच इस बार विधानसभा अध्यक्ष की कुर्सी बीजेपी के हाथ लगी है. ऐसे में माना जा रहा था कि बीजेपी अपने सीनियर लीडर और 7 बार से विधायक नंद किशोर यादव को ये जिम्मेदारी सौंपेगी, लेकिन सरप्राइज देते हुए विजय कुमार सिन्हा का नाम विधानसभा अध्यक्ष के तौर पर सामने आया है.

विजय कुमार सिन्हा ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा,

हम अपनी पार्टी के और NDA के निर्देशों के अनुसार काम करेंगे. हम अपने गठबंधन के फैसले के अनुसार स्पीकर के पद के लिए नामांकन दाखिल करने जा रहे हैं. बिहार के विकास के लिए विपक्ष और सरकार मिलकर काम करेंगे. 

विपक्ष ने भी उतारा अपना उम्मीदवार

वहीं दूसरी ओर विपक्ष ने भी विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए अपना उम्मीदवार उतार दिया है. महागठबंधन ने बिहार विधानसभा स्पीकर पद के लिए आरजेडी विधायक अवध बिहारी चौधरी को मैदान में उतारा है. अवध बिहारी चौधरी आरजेडी के बड़े नेताओं में से एक हैं. उन्होंने सिवान से लगातार पांचवीं बार जीत हासिल की है. अवध बिहारी चौधरी राबड़ी देवी की सरकार में शिक्षा मंत्री भी रह चुके हैं.

कौन हैं विजय कुमार सिन्हा?

विजय कुमार सिन्हा लखीसराय सीट से विधायक हैं. सिन्हा पिछली सरकार में श्रम संसाधन मंत्री थे. 54 साल के सिन्हा लखीसराय से लगातार तीसरी बार विधायक चुने गये हैं.

विजय सिन्हा के पीछे का गणित

विजय कुमार सिन्हा का नाम सामने आने के बाद ये माना जा रहा है कि बीजेपी ने दो उप मुख्यमंत्री बनाए हैं, जिसमें से एक अति पिछड़ा समुदाय और दूसरे पिछड़ी जाति से आते हैं, ऐसे में विधानसभा अध्यक्ष का पद अगड़ी जाति के विधायक को देकर पार्टी सबको साथ लेकर चलने का मैसेज देने की कोशिश कर रही है.

विजय कुमार बीजेपी के सीनियर लीडर के साथ-साथ भूमिहार समाज से आते हैं. पिछले विधानसभा स्पीकर विजय कुमार चौधरी भी इसी समाज से आते थे. बताया जा रहा है कि सिन्हा पूर्व डिप्‍टी सीएम सुशील कुमार मोदी के करीबी हैं. इसके अलावा वो बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता से लेकर प्रदेश संगठन में अलग-अलग जिम्मेदारी भी संभाल चुके हैं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×