RJD सरकार आई तो बिहार में पनाह लेंगे कश्मीरी आतंकी-गृह राज्यमंत्री

आरजेडी ने कहा- मुद्दों से भटकाना चाहती है बीजेपी, 2005 होगा रिपीट

Updated
बिहार चुनाव 2020
2 min read
आरजेडी ने कहा- मुद्दों से भटकाना चाहती है बीजेपी, 2005 होगा रिपीट 
i

बिहार चुनाव को अब कुछ ही दिन बाकी हैं, ऐसे में राजनीतिक बयानबाजी भी जमकर हो रही है. एक दूसरे पर कीचड़ उछालने का दौर बस शुरू ही हुआ है. लेकिन इसी बीच केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने एक विवादित बयान दे डाला है. उन्होंने जेडीयू उम्मीदवार के नामांकन के बाद भाषण देते हुए कहा कि अगर आरजेडी की बिहार में सरकार बनी तो कश्मीर का आतंक बिहार की धरती पर पनाह लेना शुरू कर देंगा.

केंद्रीय मंत्री बिहार चुनाव को लेकर राज्य में हैं. इसी बीच वो अपने गृह जिला वैशाली में जेडीयू उम्मीदवार उमेश कुशवाहा का नामांकन कराने गए. बड़े जोर शोर से नामांकन भरा गया. इसके बाद मंत्री जी सभा को संबोधित करने मंच पर आए. लेकिन चुनावी गर्मी में वो भूल गए कि वो क्या कह रहे हैं. उन्होंने कहा,

“बिहार में अगर आरजेडी की सरकार बनेगी तो कश्मीर से जिस आतंकवाद का हम सफाया कर रहे हैं, वो आतंकवाद बिहार की धरती पर पनाह ले लेगा. ऐसा होने नहीं देंगे. हम उन्हें आने नहीं देंगे. हम तलवार से भी लड़ते हैं तो हाथ से भी लड़ते हैं.”

आरजेडी बोली- मुद्दों से ध्यान भटकाना चाहती है बीजेपी

वहीं केंद्रीय मंत्री के इस बयान पर आरजेडी की तरफ से भी पलटवार हुआ. आरजेडी नेता मनोज झा ने कहा कि बीजेपी मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाना चाहती है. मनोज झा ने क्विंट से बात करते हुए कहा,

“ये 2005 की कहानी रिपीट हो रही है, इसीलिए इन्हें अब पाकिस्तान और कश्मीर याद आ रहा है. मुद्दे हैं रोजगार के, मुद्दे हैं मजदूरों का पलायन, मुद्दे हैं एजुकेशन के, मुद्दे हैं मुजफ्फरपुर बालिका गृह... इस पर तो जुबान नहीं खुल सकती है.”

मंत्री जी की सफाई

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री के इस बयान पर जब हमने उनसे बात की तो उन्होंने कहा कि इस मुद्दे को तूल देने की जरूरत नहीं है. उन्होंने अपनी सफाई में कहा, आतंकवाद को बढ़ावा देने का जिक्र किया, इसमें कोई बड़ी बात नहीं है. आतंकवाद तो कोई अच्छी चीज नहीं है. अगर अच्छी सरकार रहेगी तो इसे बढ़ावा नहीं मिलेगा. आतंकी मतलब होता है जो आतंक फैलाता हो. आप इसे तूल मत दीजिए.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!