छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की बड़ी जीत, पर ‘बिग बॉस’ BJP कैसे हार गई?
छत्तीसगढ़ में बीजेपी नहीं बचा पाई अपनी सरकार
छत्तीसगढ़ में बीजेपी नहीं बचा पाई अपनी सरकार(फोटो: The Quint)

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की बड़ी जीत, पर ‘बिग बॉस’ BJP कैसे हार गई?

छत्तीसगढ़ की सत्ता में 15 साल से काबिज बीजेपी का पत्ता साफ हो गया है. डेढ़ दशक के बाद छत्तीसगढ़ में कांग्रेस बड़ी जीत के साथ एक बार वापसी कर रही है. बीजेपी की ओर से मौजूदा सीएम रमन सिंह ही मुख्यमंत्री का चेहरा थे, जबकि कांग्रेस बिना मुख्यमंत्री चेहरे के ही चुनावी मैदान में उतरी थी. इसके बावजूद बीजेपी अपनी सत्ता नहीं बचा पाई.

ट्रेंड के मुताबिक, 90 विधानसभा सीटों वाले छत्तीसगढ़ में कांग्रेस बहुमत से ज्यादा 62 सीटों पर आगे चल रही है. जबकि बीजेपी सिर्फ 18-20 सीटों पर ही सिमट कर रह गई है.

यहां सबसे बड़ा सवाल ये है कि आखिर 15 साल से लगातार छत्तीसगढ़ की सत्ता पर काबिज बीजेपी कैसे हार की कगार पर आ गई? आइए कुछ आंकड़ों की मदद से जानते हैं.

आधी से एक-तिहाई सीटों पर सिमटी बीजेपी

छत्तीसगढ़ में पिछले तीन विधानसभा चुनावों से बीजेपी सीटें हासिल करने के मामले में अपनी स्थिति लगातार स्‍थि‍र बनाई हुई थी. 2003, 2008, 2013 विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने क्रमश: 50, 49, 50 सीटें हासिल कीं. तीन चुनावों तक लगातार स्थिरता बनाए रखना वाकई काबिले-तारीफ है. लेकिन 2018 चुनाव में अचानक में ये बड़ी गिरावट बहुत कुछ कहती है.

ऐसा ही पिछले तीन लोकसभा चुनावों से भी बीजेपी लगातार स्थिर प्रदर्शन करती आई है. 2004, 2009 और 2014 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी लगातार कुल 11 सीटों में से 10 सीटें हासिल करते आई है. लेकिन इन विधानसभा चुनाव के नतीजे देखकर ऐसा लग रहा है कि 2019 आम चुनावों में बीजेपी के लिए छत्तीसगढ़ में पहले जितनी सीटें हासिल करना बहुत मुश्किल होगा.

बीजेपी के वोट शेयर में भी गिरावट

छत्तीसगढ़ में बीजेपी की सीटों में भारी गिरावट के साथ-साथ वोट शेयर में बड़ी गिरावट देखने को मिल रही है. दूसरी ओर कांग्रेस के वोट शेयर में पहले के मुकाबले बढ़ोतरी हुई है. 41.04% वोट शेयर से बीजेपी 33% पर आकर सिमट गई. 2003 में बीजेपी का वोट शेयर 39.26% और 2008 में 40.33% रहा था.

कांग्रेस पार्टी का वोट शेयर 2003, 2008, 2013 में क्रमश: 36.71%, 38.63% और 40.29% रहा था. इस बार 2018 में ये बढ़कर 42.9% हो गया है.

किसानों की नाराजगी बीजेपी को ले डूबी

छत्तीसगढ़ के किसान काफी समय से बीजेपी सरकार से नाराज चल रहे हैं. किसान रमन सिंह सरकार से फसलों के वाजिब दामों की मांग कर रहे हैं, इसको लेकर वो बीजेपी के खिलाफ प्रदर्शन भी कर रहे हैं.

छत्तीसगढ़ में ये साफ तौर पर देखा जा सकता है कि किसान मौजूदा सरकार से खुश नहीं थी, शायद उनका यही गुस्सा इस बार विधानसभा चुनाव में फूट पड़ा है. किसानों ने एकजुट होकर 15 साल पुरानी बीजेपी सरकार का छत्तीसगढ़ से सूपड़ा साफ कर दिया.

इसके अलावा छत्तीसगढ़ में किसानों का कर्जमाफी नहीं करना, नक्सलवाद पर रोक लगाने में नाकाम रहना जैसे कारण बीजेपी के हार की बड़ी वजह हैं.

ये भी पढ़ें : छत्तीसगढ़ में 15 साल बाद कांग्रेस सरकार, CM कौन? बघेल, देव या साहू

(सबसे तेज अपडेट्स के लिए जुड़िए क्विंट हिंदी के WhatsApp या Telegram चैनल से)

Follow our छत्तीसगढ़ चुनाव 2018 section for more stories.

    वीडियो