ड्रग्स केस में विवेक ओबेरॉय-संदीप सिंह के खिलाफ हो जांच- कांग्रेस

कांग्रेस ने अभिनेता “विवेक ओबेरॉय” और संदीप सिंह “ के खिलाफ जांच की मांग की

Updated
बॉलीवुड
2 min read
कांग्रेस ने अभिनेता “विवेक ओबेरॉय” और संदीप सिंह “ के खिलाफ जांच की मांग की
i

बॉलीवुड ड्रग केस में एक नया मोड़ आ गया है, जबसे विवेक ओबेरॉय के बहनोई के ड्रग रैकेट में जुड़े होने का खुलासा हुआ है तब से महाराष्ट्र कांग्रेस एनसीबी से विवेक ओबेरॉय और संदीप की जांच करने की मांग कर रही है.

मामला क्या है?

बेंगलुरु पुलिस की केंद्रीय अपराध शाखा ने अभिनेता विवेक ओबेरॉय के मुंबई के घर में उनके बहनोई, जो कथित रूप से ड्रग्स के मामले में शामिल हैं उनकी तलाशी के लिए छापा मारा, बेंगलुरु के संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) संदीप पाटिल ने बताया, पूर्व मंत्री स्वर्गीय जीवनराज अल्वा के बेटे आदित्य अल्वा अभी फरार हैं.

क्राइम ब्रांच को जानकारी मिली थी कि वो विवेक के घर में हैं इसीलिए विवेक के मुंबई वाले घर में छापा मारा और तभी से महाराष्ट्र कांग्रेस के लोगों ने विवेक और संदीप सिंह के खिलाफ जांच की मांग शुरू कर दी है.

कांग्रेस की मांग

शुक्रवार की सुबह महाराष्ट्र कांग्रेस के महासचिव और प्रवक्ता सचिन सावंत ने संदीप और विवेक की जांच करने की अपील करते हुए ट्वीट्स की झड़ी लगा दी, सावंत ने ये भी कहा कि केंद्रीय जांच एजेंसियां जानबूझकर ओबेरॉय और संदीपसिंह को बचा सकती हैं, इन दोनों ने एक साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बायोपिक का निर्माण किया था. उन्होंने ट्विटर पर लिखा,

“मैंने बॉलीवुड में बीजेपी ड्रग कनेक्शन की जांच करने के लिए NCB से मांग की थी.अपने सवालों में मैंने विशेष रूप इम ब्रांच को जानकारी मिली थी कि अल्वा विवेक के घर में हैं इसलिए केंद्रीय अपराध शाखा की टीम नेसे ड्रग रैकेट में पाए गए आदित्य अल्वा के नाम का उल्लेख किया था जो विवेक ओबेरॉय का बहनोई है और संदीप सिंह का साथी है. लेकिन NCB ने इस पर ध्यान नहीं दिया.”

सचिन सावंत ने आगे कहा कि, कंगना रनौत भी एनसीबी के ड्रग कनेक्शन जांच से गायब हैं जबकि कंगना ने कबूला है कि वह ड्रग्स ले रही थीं , वीडियो इस बात का सबूत है, फिर भी उनसे पूछताछ नहीं की जा रही है? "

बीजेपी का जवाब

बीजेपी नेता मधु चव्हाण ने इन आरोपों को गलत करार दिया और सावंत से सबूत पेश करने की मांग की. उन्होंने कहा कि, बीजेपी कभी भी किसी गलत करने वाले को ढाल नहीं देती है, और ओबेरॉय के घर पर तलाशी उसी का एक उदाहरण है. पीएम नरेंद्र मोदी की ईमानदारी या सच्चाई पर शक नहीं किया जा सकता है. कांग्रेस नेताओं द्वारा लगाए गए आरोप दुर्भावनापूर्ण हैं और कुंठाओं से पैदा हुए हैं.

संदीप सिंह का बयान

दूसरी ओर संदीप सिंह के, पीआर प्रबंधक, दीपक साहू ने कहा कि अगर सावंत "बिना किसी सबूत के आरोप लगाकर अधिक प्रचार पाने की कोशिश कर रहे हैं, तो उन्हें इसके लिए भुगतान करना पड़ेगा". साहू ने कहा कि सावंत हमको कानूनी कार्यवाही करने के लिए मजबूर कर रहे हैं.
बयान में यह भी कहा गया कि केंद्रीय जांच ब्यूरो द्वारा उनका बयान दर्ज कर लिया गया है और सिंह एनसीबी जांच के लिए तैयार हैं.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!