ADVERTISEMENTREMOVE AD

देश के लिए पाक जाने वाली कश्मीरी जासूस की हैरान करने वाली कहानी

फिल्म ‘राजी’ भारतीय अंडरकवर एजेंट की सच्ची कहानी पर लिखी किताब ‘कॉलिंग सहमत’ पर आधारित है

Updated
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

एक फौजी की नजरें उसकी मां का आखिरी दीदार कर रही है. खुलते दरवाजे की कराहती आवाज के साथ दाखिल होती किरणें... मौत के आगोश में आराम फरमाते उस चेहरे को रोशन कर रही हैं जिसका जिस्म आन बान शान के साथ तिरंगे में सुकून से लिपटा हुआ है. ये जिस्म है कश्मीर की बेटी सहमत खान जिसकी वजह से पाकिस्तान को युद्ध हराने में कामयाबी मिली.

ये उस किताब की सिरहन पैदा कर देने वाली चंद लाइने हैं, जो देश पर मर मिटने का जज्बा रग-रग में भर देती हैं. सहमत... ये नाम उसे रिटायर्ड नेवी ऑफिसर हरिंदर सिक्का ने दिया. ये एक भारतीय अंडरकवर एजेंट की सच्ची कहानी है, जिस पर लिखी किताब ‘कॉलिंग सहमत’ इन दिनों हलचल मचाए हुए है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

फिल्म तलवार के बाद डायरेक्टर मेघना गुलजार एक बार फिर सच्ची घटना पर आधारित फिल्म ‘राजी’ बनाने जा रही हैं. जिसमें आलिया भट्ट अहम भूमिका में नजर आएंगी फिल्म में आलिया सहमत का किरदार निभा रहीं हैं.

फिल्म ‘राजी’ भारतीय अंडरकवर एजेंट की सच्ची कहानी पर लिखी किताब ‘कॉलिंग सहमत’ पर आधारित है
रिटायर्ड नेवी ऑफिसर हरिंदर सिक्का लिखी हुई किताब ‘कॉलिंग सहमत’
फोटो: अमेजन

देश के लिए मर मिटने वाली कई गुमनाम हस्तियों मैं से एक सहमत ..कश्मीर की वो हिंदुस्तानी बेटी जिसने 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दरमियान दुश्मन देश में घुसकर कई ऐसे ऐसे राज पता कर लिए कि पाकिस्तान की साजिश की हवा निकल गई. इसके दम पर यद्धपोत आई एन एस विराट को तबाह करने की नापाक साजिश को कामयाब नहीं होने दिया.

0
दरअसल पेशे से फौजी रहे लेखक हरिंदर सिक्का कारगिल युद्ध के दौरान सीमा से सटे इलाकों में कवरेज कर रहे थे. सर्द मौसम में भेस बदल कर हमारी सीमा में घुस आए पाकिस्तानी फौजियों की जुर्रत और हमारे इंटेलिजेंस फेलियर पर सिक्का का खून खौल रहा था. उनका मानना था यह लापरवाही कहीं ना कहीं तैनात अफसरों की देशभक्ति की कमी का नतीजा था. इसी दौरान उनकी मुलाकात एक फौजी अफसर से हुई जिसने उन्हेे वो दास्तां सुनाई जो एक गुमनाम बहादुर कश्मीरी लड़की की भारत पर मर मिटने की हैरतअंगेज और सच्ची कहानी है.

क्या है सच्ची कहानी

एक पिता ने वतनपरस्ती की राह में अपनी कॉलेज जाने वाली मासूम बेटी को देश के लिये जान देने के लिए तैयार किया गया था. स्पेशल ट्रेनिंग देकर उसे भारतीय इंटेलिजेंस एजेंसी ने जासूसी मिशन के लिए तैयार किया. "सहमत" का निकाह पाकिस्तानी सेना के अॉफिसर से कराया गया. उस सैन्य अधिकारी के पाकिस्तानी जनरल याह्या खान से करीबी रिश्ते थे, जिनके आधार पर सहमत जनरल के नाती पोतों को ट्यूशन देने के बहाने उनके घर में दाखिल हुई.

फिल्म ‘राजी’ भारतीय अंडरकवर एजेंट की सच्ची कहानी पर लिखी किताब ‘कॉलिंग सहमत’ पर आधारित है
“सहमत” का निकाह पाकिस्तानी सेना के अॉफीसर से कराया गया था
फोटो:Twitter 
ADVERTISEMENT

उसका काम खुफिया जानकारी जुटाकर भारत पहुंचाने का था. खास बात ये है उसकी हर जानकारी, इस पार की खुफिया रिपोर्टस से हूबहू मेल खाती थी. पाकिस्तानी खुफिया एजेंसीज की टॉप सीक्रेट में सेंध लगाने और सटीक रिपोर्टिंग पर इंडियन इंटेलिजेंस के लोग भी हैरान थे.

अपनी कोख में पाकिस्तानी ऑफिसर की संतान को लिए वह भारत लौटी और एक बेटे को जन्म दिया. जो कोई और नहीं खुद हरिंदर सिक्का को ये सच्ची दास्तान सुनाने वाला ईमानदार अार्मी ऑफिसर है .

फिल्म ‘राजी’ भारतीय अंडरकवर एजेंट की सच्ची कहानी पर लिखी किताब ‘कॉलिंग सहमत’ पर आधारित है
फिल्म में अलिया भट्ट ने सहमत का किरदार निभाया है.
फोटो:Twitter 
कितनी हैरत की बात है ना कि जिस उम्र मे लडकियां काजल मेहंदी रचाकर खूबसूरत जिंदगी के सपने पलकों पर सजाती हैं ,उस उम्र में सहमत ट्रेनिंग से लैस ,जान हथेली पर दुशमन देश में दाखिल हो चुकी थी पगपग पर मौत का खतरा तो था ही ,ये भी तय था मरने के बाद पहचान की तस्दीक करने वाला भी कोई नहीं होगा.
ADVERTISEMENTREMOVE AD

सिक्का कहते हैं कि

मैं खुद एक रिटायर्ड सैनिक हूं, मगर सहमत खान की दिलेरी और देशभक्ति मेरे लिए भी बेमिसाल है.

आखिरकार कई सालों की खोज के बाद पंजाब के मलेरकोटला मे बूढ़ी हो चुकी सहमत को ढ़ूंढ निकाला. ये जानकर उनकी आंखें नम हो गईं कि उस औरत ने ये सब कुछ इसलिए किया ताकि शान से अपने घर की छत पर तिरंगा फहरा सके.

यह कहानी मिसाल है एक कश्मीरी मुसलमान परिवार की भारत के प्रति वफादारी और देशप्रेम की. एक जांबाज बेटी की जिसने वतन को फर्ज मानकर हर तकलीफ से गुजरते हुए बलिदान का अमर इतिहास लिखा.

आज सहमत इस दुनिया में नहीं है, मगर बाकी है ये कहानी जो आनेवाले वक्त में वतन के लिए मर मिटने के लिए प्रेरित करती रहेगी लेकिन एक ऐसा सवाल छोड़ गई जो शायद सवाल ही बन कर रह जाएगा कि.. जो तिरंगे की खातिर कुरबान हो गई... उसके असली नाम को ये देश, उसका हक उसका सम्मान कभी दे पाएगा...

ये भी पढ़ें-

‘राजी’ का ट्रेलर रिलीज, पाकिस्तान में भारत की जासूस बनीं आलिया

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×