हमसे जुड़ें
ADVERTISEMENTREMOVE AD

धर्मेंद्र ने किसानों के समर्थन में ट्वीट कर डिलीट क्यों कर लिया?

दिलजीत दोसांझ, गुरू रंधावा समेत पंजाब के तमाम बड़े सितारे किसान आंदोलन का समर्थन कर रहे हैं.

Published
धर्मेंद्र ने किसानों के समर्थन में ट्वीट कर डिलीट क्यों कर लिया?
Hindi Female
listen

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

वेटरन एक्टर धर्मेंद्र ने भी सरकार से कृषि कानूनों को वापस लेने का अनुरोध किया है. जर्नलिस्ट मोहम्मद जुबैर ने एक ट्वीट में धर्मेंद्र के ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर किया है, जिसमें वो सरकार से कृषि कानूनों को वापस लेने का अनुरोध करते दिख रहे हैं. इस ट्वीट को हालांकि धर्मेंद्र ने अब डिलीट कर दिया है.

स्क्रीनशॉट के मुताबिक, धर्मेंद्र ने ट्वीट में लिखा था, “सरकार से प्रार्थना है... किसान भाइयों की परेशानियों का कोई हल जल्दी तलाश कर लें... कोरोना के केस दिल्ली में बढ़ते जा रहे हैं... ये दुखद है.”

ADVERTISEMENTREMOVE AD

इस स्क्रीनशॉट को शेयर करते हुए जुबैर ने लिखा, “पंजाबी आइकन धर्मेंद्र देओल ने इस ट्वीट को ** घंटों पहले ट्वीट किया था. लेकिन फिर डिलीट कर दिया. वो हेल्पलेस रहे होंगे, नहीं तो कोई भी ऐसे ही बेवफा नहीं होता.”

जुबैर के इस ट्वीट पर धर्मेंद्र देओल ने जवाब देते हुए लिखा कि उन्हें इस तरह के ट्वीट्स और ट्रोलिंग से दुख पहुंचता है, इसलिए उन्होंने ट्वीट डिलीट कर दिया. धर्मेंद्र ने लिखा, “आप के ऐसे ही कमेंट्स से दुखी हो कर अपना ट्वीट डिलीट कर दिया था... जी भर के गाली दे दीजिए आप की खुशी में खुश हूं मैं... हां... अपने किसान भाइयों के लिए... बहुत दुखी हूं... सरकार को जल्दी कोई हल तलाश लेना चाहिए, हमारी किसी की कोई सुनवाई नहीं.”

इसपर जर्नलिस्ट ने लिखा कि उन्हें धर्मेंद्र का किसानों के समर्थन में खड़ा होना अच्छा लगा, लेकिन ट्वीट डिलीट होने पर वो सोच में पड़ गए.

धर्मेंद्र के पत्नी हेमा मालिनी, मथुरा से और बेटे सनी देओल, गुरदासपुर से बीजेपी सांसद हैं. ऐसे में उनके पहले किसानों के समर्थन में बोलने और फिर ट्वीट डिलीट करने पर सोशल मीडिया पर चर्चा होने लगी.

दिलजीत दोसांझ, गुरू रंधावा, जैज़ी बी, एमी विर्क, गिप्पी ग्रेवाल समेत पंजाब के तमाम बड़े सितारे किसान आंदोलन का समर्थन कर रहे हैं. हजारों की संख्या में किसान केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले करीब एक हफ्ते से दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे हैं. किसानों की मांग है कि ये कानून वापस लिए जाएं.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
और खबरें
×
×