ADVERTISEMENT
'गंगूबाई काठियावाड़ी' रिव्यू: आलिया भट्ट दमदार, दिल को छूती फिल्म की कहानी
i

'गंगूबाई काठियावाड़ी' रिव्यू: आलिया भट्ट दमदार, दिल को छूती फिल्म की कहानी

2011 में आई हुसैन जैदी की किताब 'माफिया क्वीन्स ऑफ मुंबई' पर बनी है गंगूबाई काठियावाड़ी.

Updated

आलिया भट्ट की अब तक की बेस्ट परफॉर्मेंस में से एक

संजय लीला भंसाली का कैनवास और आलिया भट्ट की जानदार एक्टिंग! 2011 में आई हुसैन जैदी की किताब 'माफिया क्वीन्स ऑफ मुंबई' पर बनी, भंसाली की फिल्म गंगुबाई काठियावाड़ी जैसे उनकी कहानी को बड़े पर्दे पर जिंदगी दे देती है.

फिल्म का स्क्रीनप्ले संजय लीला भंसाली ने उत्कर्षिनी वशिष्ठ के साथ मिलकर लिखा है, जो किताब की तरह ही तीन हिस्सों में चलता है- गंगा, गंगू और गंगुबाई. जब हम पहली बार आलिया को देखते हैं, तो वो गंगा होती हैं... मासूम और चहकती गंगा जिसकी आंखों में फिल्म स्टार बनने जैसे बड़े सपने हैं.

ADVERTISEMENT

आलिया को कमाठीपुरा की बेबस गंगू बनते हुए देखना दिल तोड़ने वाला है. इसके बाद फिल्म तीसरे चैप्टर की ओर बढ़ती है, जब गंगू अपनी और कमाठीपुरा की बाकी महिलाओं की जिंदगी सुधारने के लिए हक की लड़ाई लड़ती है.

गंगूबाई के किरदार में आलिया ने उसकी मासूमियत और गुस्से को बेहतरीन तरीके से दिखाया है.

सीन के मुताबिक उनकी आवाज कभी तेज होती है तो कभी कमांडिंग, लेकिन उनके चेहरे पर वो मासूमियत दिखाई देती है. ये उस खोई हुई मासूमियत की एक दर्दनाक याद है कि अगर ये दुनिया इतनी क्रूर न होती, तो वो आज भी गंगा हो सकती थी.

हर बार की तरह इस बार भी संजय लीला भंसाली ने कहानी को अपने नजरिये से बयां किया है और फिल्म का हर फ्रेम परफेक्शन की एक मिसाल है. फिल्म में एक सीन है, जिसमें कमाठीपुरा में लड़कियां एक बेंच पर बैठकर अपने चेहरों को रंग रही हैं. इन लड़कियों के चेहरों पर टूटे विश्वास और वादों की बेबसी साफ देखी जा सकती है.

वहीं, एक सीन में गंगू एक लड़की की तरफ से उसके पिता को एक खत लिख रही होती है. वहां की बाकी लड़कियां भी अपना दर्द बयां करती हैं. ये इन सभी लड़कियों का साझा दर्द है, जिसकी चीख वो अपने परिवारों तक पहुंचाना चाहती हैं.

ADVERTISEMENT
सिनेमैटोग्राफर सुदीप चैटर्जी के साथ मिलकर भंसाली ने ऐसे ही कई खूबसूरत सीन बनाए हैं.

फिल्म की कास्टिंग शानदार है. सीमा पाहवा, छाया कदम, इंदिरा तिवारी, जिम सार्भ और हमेशा ही शानदार रहने वाले विजय राज ने बढ़िया काम किया है. करीम लाला जैसे रोल में अजय देवगन हमेशा ही बढ़िया लगते हैं, लेकिन फिल्म में एक बार को लगता है कि उनका किरदार गंगू की कहानी आगे बढ़ाने के लिए केवल एक रणनीति थी.

आलिया अपने किरदार के साथ पूरा न्याय करती हैं. ये कहना गलत नहीं होगा कि ये उनकी अब तक की बेस्ट परफॉर्मेंस में से एक है.

गंगूबाई काठियावाड़ी को 5 में से 3.5 क्विंट!

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×