झेलने लायक भी नहीं है प्रभास और श्रद्धा कपूर की ‘साहो’
प्रभास की ‘साहो’ ने किया निराश
प्रभास की ‘साहो’ ने किया निराश(फोटो: इंस्टाग्राम/साहो फिल्म)

झेलने लायक भी नहीं है प्रभास और श्रद्धा कपूर की ‘साहो’

ये कहना जरूरी है- ‘साहो’ झेलने लायक भी नहीं है! तीन घंटे लंबी और 350 करोड़ के बजट में बनी इस फिल्म को आलसी एक्शन सीन और बचकानी राइटिंग बर्बाद कर देती है. आप पूछेंगे स्टोरी क्या है? कुछ नहीं!

वाजी में, रॉय खानदान का मुखिया (जैकी श्रॉफ) उन गुंडों का भी मुखिया है जिनके पास अपार पैसा है. रॉय को लेकिन और पैसा चाहिए. कुछ दूसरे गुंडे उसकी कुर्सी हथियाना चाहते हैं और फिर एक के बाद एक कैरेक्टर्स और ट्विस्ट-टर्न आते हैं. सच बताएं तो ये सब बहुत कंफ्यूजिंग लगता है.

‘साहो’ में कोई स्क्रिप्ट नहीं है और इसकी भरपाई ये ‘टेस्टोस्टेरोन’ से करती है. बॉडी, बंदूकें, ग्रेनेड, खून-खराबा, लड़ाई- ये सब और इसमें कोई सेंस नहीं. फिल्म के कुछ हिस्से वाकई समझ से बाहर हो जाते हैं क्योंकि कैरेक्टर्स और उनके उद्देश्यों में लगातार उतार-चढ़ाव होता है.

और, फिल्म अपने लीड एक्टर प्रभास को लेकर अपनी दीवानगी बिल्कुल भी नहीं छुपाती. जैकी श्रॉफ शुरुआत के 10 मिनट में ही गायब हो जाते हैं. चंकी पांडे को थोड़ा चिल्लाने को मिलता है. नील नितिन मुकेश हांफ रहे हैं. प्रकाश बेलावेदी को सही रोल नहीं मिला है. मुरली शर्मा का कैमियो थोड़ा लंबा है. टिनू आनंद के तीन क्लोजअप शॉट्स हैं, वहीं महेश मांजरेकर के दो हैं.

लेकिन सबसे खराब सीन महिलाओं के हैं. फिल्म में कुल चार फीमेल कैरेक्टर्स हैं, और मैं इनमें उन बिकिनी मॉडल्स की बात नहीं कर रही हूं जो बर्बाद गानों में नजर आती हैं. श्रद्धा कपूर ने अमृता का रोल प्ले किया है, एक पुलिस अफसर जो एक केस की जांच कर रही होती है. प्रभास उससे पूछते हैं, 'तुम जैसी सुंदर लड़की पुलिस में क्या कर रही है? तुम्हारी क्या कहानी है?' पूरी फिल्म में दिखाया गया है कि कैसे प्रभास उनसे बात करने की कोशिश करते हैं, जबकि दिखता है कि श्रद्धा का मन नहीं है. ये देखकर निराशा होती है कि कैसे फिल्म अपनी लीड हिरोइन के साथ सम्मान से पेश नहीं आ रही है.

देखने वाला उम्मीद करता है कि स्क्रिप्ट के लिए नहीं, लेकिन राइटर्स को एक बार तो विशाखा कमेटी की गाइडलाइंस पढ़नी चाहिए थी!

दूसरी महिला हैं मंदिरा बेदी. उन्होंने कल्कि का रोल प्ले किया है और अधिकतर जरूरी सीन में वो इन्हेलर पकड़े दिखती हैं, जैसे भगवान से उम्मीद कर रही हों कि कोई तो लाइन दे दी होती बोलने को! तीसरी हैं एवलिन शर्मा, जो पांच मिनट की कैटवॉक करती हैं और फिर हैं जैकलीन फर्नांडिज- जो अधिकतर गानों में दिखती हैं.

साहो टैलेंट, पैसे और हमारे समय और उम्मीदों की बर्बादी है. बेहद बेकार है फिल्म!

ये भी पढ़ें : रिलीज हो गई प्रभास की फिल्म, जानिए क्या होता ‘साहो’ का मतलब?

(हैलो दोस्तों! WhatsApp पर हमारी न्यूज सर्विस जारी रहेगी. तब तक, आप हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our मूवी रिव्यू section for more stories.

क्विंट हिंदी के साथ रहे अपडेटड
सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर को और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में
Loading...
Loading...

वीडियो

Loading...