Spider-Man: स्टार्क की उम्मीदों पर खरा उतरने की कोशिश करता है पीटर
‘स्पाइडर-मैन: फार फ्रॉम होम’ का स्पॉलर फ्री रिव्यू
‘स्पाइडर-मैन: फार फ्रॉम होम’ का स्पॉलर फ्री रिव्यू(फोटो: इंस्टाग्राम/टॉम हॉलेंड)

Spider-Man: स्टार्क की उम्मीदों पर खरा उतरने की कोशिश करता है पीटर

‘एवेंजर्स: एंडगेम’ के ग्रैंड गुडबाय और अपने फेवरेट आयरन मैन को खोने के बाद मार्वल की पहली फिल्म ‘स्पाइडरमैन: फार फ्रॉम होम’ रिलीज हो गई है. ‘मोहल्ले के स्पाइडरमैन’ की ये कहानी इस बार न्यूयॉर्क के क्विंस से निकलकर वेनिस पहुंच गई है.

मरने के बाद भी मैं हीरो हूं... और ये सच लगता है जब टोनी स्टार्क कहता है. पीटर पार्कर और हम सभी को अपने फेवरेट एवेंजर आयरन मैन के बिना रहना सीखना होगा.

हमें दुखी होने, शोक मनाने के लिए थोड़ा और समय चाहिए, और ये फिल्म 'स्पाइडरमैन: फार फ्रॉम होम' हमें वो देती है. स्केल के मामले में ये फिल्म 'एवेंजर्स: एंडगेम' जितनी बड़ी नहीं है, लेकिन टोनी स्टार्क की याद में ये एक शानदार कोशिश है.

ये फिल्म एंडगेम के बाद शुरू होती है, जहां स्नैप और टोनी के जाने के बाद जिंदगी फिर शुरू हो रही है. हम इसके बारे में ज्यादा बातें नहीं बताएंगे, ताकि ये रिव्यू स्पॉलयर-फ्री बना रहे हैं. हम ये जरूर बता सकते हैं कि ये फिल्म काफी फनी है.

फिल्म में एक जगह कहा जाता, ‘लोगों का यकीन करना जरूरी है और आजकल वो किसी भी बात पर यकीन कर लेते हैं’. फिल्म के 129 मिनट के रन टाइम में काफी कुछ होता है, CGI के स्पेशल इफेक्ट्स से लेकर प्रोजेक्टर्स, भ्रम और बहुत कुछ.

पीटर पार्कर को बड़े होने के लिए अभी और समय चाहिए. फिल्हाल, वो एमजे (जेंडाया) को डेट पर ले जाना चाहता है. फिल्म में सभी वेनिस में होते हैं, जहां पार्कर और उसकी लव इंट्रेस्ट एमजे के बीच बॉन्डिंग दिखाई गई है.

‘टॉम हॉलेंड ने हमारे सुपरहीरो का रोल शानदार निभाया है. निजी जिंदगी में एक फादर फिगर को खोने के बाद वो टोनी स्टार्क की उम्मीदों पर खरा उतरने की पूरी कोशिश कर रहा है, वहीं वो दुनिया को बचाने की भी कोशिश में लगा है. क्या वो ये सब कर पाएगा?’

इस फिल्म में एक नए सुपरहीरो से मुलाकात होती है, क्वेंटीन बेक (जेक गिलेनहाल), मिस्टीरियो, जिसे एलीमेंटल्स से लड़ने के लिए लाया जाता है.

हालांकि कुछ लोग ये कह सकते हैं कि इस फिल्म के फाइटिंग सीक्वेंस सिर्फ एक शहर के अंदर सीमित कर दिए गए हैं, और उतने लार्जर-दैन-लाइफ नहीं हैं जैसी हमें आदत है, लेकिन यहां ये ध्यान रखना जरूरी है कि फिल्म में स्पाइडरमैन की जर्नी और सेल्फ डिस्कवरी को दिखाने के लिए सही है.

फिल्म में राइटर्स ने बीच में कुछ ऐसा खुलासा किया है, जिससे आगे की कहानी का अंदाजा हो जाता है और कुछ सरप्राइज नहीं बचता. इसके बावजूद, इस फिल्म को मिस नहीं किया जाना चाहिए.

और हां, फिल्म के दो पोस्ट क्रेडिट सीन में कुछ सरप्राइज भी हैं.

ये भी पढ़ें : ‘कलंक’ से ‘कबीर सिंह’...इस साल की हिट और फ्लॉप फिल्में

(हैलो दोस्तों! WhatsApp पर हमारी न्यूज सर्विस जारी रहेगी. तब तक, आप हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our मूवी रिव्यू section for more stories.

क्विंट हिंदी के साथ रहे अपडेटड
सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर को और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में
Loading...
Loading...

वीडियो

Loading...