टर्मिनेटर डार्क फेट रिव्यू:अर्नोल्ड की फिल्म में महिलाओं का दबदबा 

अगर आप टर्मिनेटर के फैन हैं, तो इसे बड़े पर्दे पर देखने का मौका मिस मत करिए

Updated01 Nov 2019, 06:27 AM IST
मूवी रिव्यू
4 min read

Terminator: Dark Fate

‘टर्मिनेटर’ Review: अर्नोल्ड की वापसी, लेकिन फिल्म में महिलाओं का बोलबाला

मुझे याद है, वो साल 1991 था. मैं स्कूल में पढ़ता था और डॉक्टर प्रणव रॉय का टीवी शो, ‘The World This Week,’ जरूर देखता था. इसी शो में मैंने पहली बार ‘टर्मिनेटर 2: जजमेंट डे’ के विजुअल देखे और फैन हो गया. शो में उस फिल्म के क्लिप्स दिखाए गए थे, जिनमें एक विजुअल रॉबर्ट पैट्रिक का लिक्विड मेटल-मैन के रूप में बदलना और पिघलना दिखाया गया था. मैं टर्मिनेटर 2 में T-1000 का आकार बदलना देखता ही रह गया था. जेम्स कैमेरून के डायरेक्शन में बनी इस फिल्म में मुख्य किरदार अर्नोल्ड श्वार्जनेगर और लिंडा हैमिल्टन ने निभाया था. इतनी बेहतरीन एक्शन फिल्म मैंने पहले कभी नहीं देखी थी. ये फिल्म एक्टर और नेता अर्नोल्ड की सबसे बड़ी ब्लॉकबस्टर फिल्म थी.

<i> Terminator2: Judgement Day में  </i>T-1000 के रूप में रॉबर्ट पैट्रिक को खत्म करना लगभग नामुमकिन था
Terminator2: Judgement Day में T-1000 के रूप में रॉबर्ट पैट्रिक को खत्म करना लगभग नामुमकिन था
(फोटो: यूट्यूब)

टर्मिनेटर सीरीज की लेटेस्ट फिल्म ‘टर्मिनेटर: डार्क फेट’ की सबसे बड़ी खासियत है कि इसके साथ सबसे लोकप्रिय फिल्म सीरीज का जादू एक बार फिर पर्दे पर लौटा है. अर्नोल्ड श्वार्जनेगर, लिंडा हैमिल्टन और जेम्स कैमेरून (को-प्रोड्यूसर और शेयर स्टोरी क्रेडिट के साथ) की तिकड़ी 28 सालों बाद एक बार फिर साथ है. दिलचस्प बात है कि इस फिल्म का डायरेक्शन ‘डेडपूल’ जैसी मशहूर फिल्म बना चुके टिम मिलर ने किया है.

<i>Terminator:Dark Fate </i>में कार्ल की भूमिका में अर्नोल्ड श्वार्जनेगर
Terminator:Dark Fate में कार्ल की भूमिका में अर्नोल्ड श्वार्जनेगर
(फोटो: यूट्यूब)

कई मायने में ‘टर्मिनेटर: डार्क फेट’ , ‘द टर्मिनेटर’ और ‘टर्मिनेटर 2: जजमेंट डे’ की झलक है. फिल्म की कहानी पुराने ढर्रे पर है. एक टर्मिनेटर (गैब्रियेल लूना) को भविष्य से वापस भेजा जाता है. उसका मिशन है डैनियेला रामोस (नतालिया रेयेस) की हत्या करना, ताकि वो विरोध करने वाले नेता को जन्म न दे सके. डैनियेला की सुरक्षा के लिए ग्रेस (मैकेंजी डेविस) को भी समय से पीछे भेजा जाता है. इसी बीच सारा कोनर (लिंडा हैमिल्टन) की भी टर्मिनेटर हंटर के रूप में वापसी होती है. ये सभी T-800 (अर्नोल्ड श्वार्जनेगर) को नए टर्मिनेटर से मुकाबला करने के लिए रिटायरमेंट से वापस लाते हैं.

‘टर्मिनेटर: डार्क फेट’ एक पागलखाने में सारा कोनर के फुटेज से शुरु होती है. ‘टर्मिनेटर 2’ में वो पागलखाने में थीं. इससे ऑडियंस को दोनों फिल्मों को जोड़ने वाली कड़ी मिल जाती है.
साराकोनर (लिंडा हैमिल्टन) टर्मिनेटर को मारने में सफल रहती है
साराकोनर (लिंडा हैमिल्टन) टर्मिनेटर को मारने में सफल रहती है
(फोटो: AP)

हमें ये भी पता चलता है कि सारा के बच्चे को एक टर्मिनेटर ने ढूंढ कर मौत के घाट उतार दिया था. इसके बाद फिल्म में लगातार और सांस थामकर देखने वाला एक्शन शुरु होता है, जिसमें आमने-सामने लड़ाई, आकार बदलने वाला टर्मिनेटर, एक साइबॉर्ग इंसान, ट्रक से पीछा करना, अंधाधुंध गोलीबारी शामिल है. काफी कुछ ये ‘टर्मिनेटर 2’ की नकल लगता है. इसमें सारा कोनर का पहला डायलॉग है, ‘I’ll be back,’ जो 1984 में रिलीज हुई पहली फिल्म में भी था.

 ‘टर्मिनेटर: डार्क फेट’ में नतालिया रेयेस, मैकेंजी डेविस और लिंडा हैमिल्टन
‘टर्मिनेटर: डार्क फेट’ में नतालिया रेयेस, मैकेंजी डेविस और लिंडा हैमिल्टन
(फोटो: ट्विटर)

नई फिल्म में तीन महिलाएं लगभग न रुकने वाले एक किलिंग मशीन को रोकने के लिए जमकर लोहा लेती हैं. कार्ल के रूप में अर्नोल्ड श्वार्जनेगर को अब भी ये अहसास है कि उसने सारा के बच्चे को मार डाला था. फिल्म में महिलाओं का साथ देने के लिए उसकी एंट्री काफी देर से होती है. फिल्म की कहानी सामान्य है, फिर भी ऑडियंस को बांधे रखने के लिए इसमें कई एक्शन पीस शामिल किए गए हैं. खास बात है कि टिम मिलर की फिल्म में सबकुछ गंभीर नहीं है. सारा और कार्ल के बीच भावनात्मक रिश्ते और हंसी-मजाक के सीक्वेंस ऑडियंस का मूड बदलते रहते हैं.

‘टर्मिनेटर: डार्क फेट’ पुराने सीक्वल की तरह तो नहीं, लेकिन फिर भी असरदार है. जेम्स कैमरून और उनके को-राइटर ने स्टोरीलाइन में मौजूदा घटनाओं को शामिल किया है. इसमें अमेरिकी सीमा के पास मेक्सिकन डिटेंशन सेंटर में लंबा एक्शन सीक्वेंस भी है.

यहां इंसान के रूप में बदला हुआ साइबोर्ग, ग्रेस, शरणार्थियों को जेल से छुड़ाता है, ताकि इंसानियत को बनाए रखने की इकलौती उम्मीद मेक्सिको की डेनियेला के साथ वो खुद भी भाग सके. तो कौन कहता है कि आप अर्नोल्ड श्वार्जनेगर की मुख्यधारा से हटकर बनी फिल्म पर राजनीतिक टिप्पणी नहीं कर सकते?

‘टर्मिनेटर: डार्क फेट’ की कहानी का अनुमान लगाना आसान है, लेकिन फिल्म का नैरेटिव और सांस रोककर देखने वाला एक्शन सीक्वेंस ऑडियंस को बांधे रखता है. टर्मिनेटर सीरीज की लेटेस्ट फिल्म अगर आपको अब तक की सबसे असरदार एक्शन फिल्म देखने का अहसास दिलाए, तो बेजा नहीं होगा.

मैं ‘टर्मिनेटर: डार्क फेट’ को 5 में से 3 क्विंट दूंगा. अगर आप टर्मिनेटर के फैन हैं, तो इसे बड़े पर्दे पर देखने का मौका मिस मत करिए.

देखिए अर्नोल्ड श्वार्जनेगर और लिंडा हैमिल्टन के साथ Exclusive इंटरव्यू

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 30 Oct 2019, 11:30 AM IST

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!