ADVERTISEMENT

Saadat Hasan Manto : एक बदनाम, बेशर्म और बेखौफ लेखक

Saadat Hasan Manto हिंदुस्तान-पाकिस्तान बंटवारे पर सबसे बेहतरीन लिखने वालों में से एक रहे हैं

Saadat Hasan Manto : एक बदनाम, बेशर्म और बेखौफ लेखक
i

11 मई यानी आज सआदत हसन मंटो उर्फ मंटो की बर्थ एनिवर्सरी है. मंटो का जन्म आज के दिन साल 1912 को पंजाब के समराला में हुआ था. मंटो को हमेशा बदनाम, बेशर्म और बेखौफ लेखक कहा जाता था क्योंकि वह अपनी लेखनी में तारीफों के पुल नहीं बाधंते थे. हिंदुस्तान-पाकिस्तान बंटवारे पर सबसे बेहतरीन लिखने वालों में से एक रहे हैं मंटो. चलिए मंटो के जन्मदिन पर पढ़ते हैं उनके लिखी और कही ये बातें जो समाज को आइना दिखाती हैं.

ADVERTISEMENT

हिन्दुस्तान को उन लीडरों से बचाओ जो मुल्क की फिजा बिगाड़ रहे हैं और अवाम को गुमराह कर रहे हैं.

<div class="paragraphs"><p>सआदत हसन मंटो के कोट्स</p></div>

सआदत हसन मंटो के कोट्स

Quint Hindi

मैं सोसाइटी की चोली क्या उतारूंगा, जो है ही नंगी. मैं उसे कपड़े पहनाने की कोशिश भी नहीं करता, क्योंकि ये मेरा काम नहीं, दर्जियों का काम है.

<div class="paragraphs"><p>सआदत हसन मंटो के कोट्स</p></div>

सआदत हसन मंटो के कोट्स

Quint Hindi

अगर आप इन अफसानों को बर्दाश्त नहीं कर सकते, तो इसका मतलब है कि जमाना ही नाकाबिल-ए-बर्दाश्त है.

<div class="paragraphs"><p>सआदत हसन मंटो के कोट्स</p></div>

सआदत हसन मंटो के कोट्स

Quint hindi

मजहब जब दिलों से निकलकर दिमाग पर चढ़ जाए तो जहर बन जाता है.

<div class="paragraphs"><p>सआदत हसन मंटो के कोट्स</p></div>

सआदत हसन मंटो के कोट्स

Quint hindi

मत कहिए कि हजारों हिंदू मारे गए या फिर हजारों मुसलमान मारे गए. सिर्फ ये कहिए कि हजारों इंसान मारे गए.

<div class="paragraphs"><p>सआदत हसन मंटो के कोट्स</p></div>

सआदत हसन मंटो के कोट्स

Quint Hindi

ADVERTISEMENT

जमाने के जिस दौर से हम गुजर रहे हैं, अगर आप उससे वाकिफ नहीं तो मेरे अफसाने पढ़िए.

<div class="paragraphs"><p>सआदत हसन मंटो के कोट्स</p></div>

सआदत हसन मंटो के कोट्स

Quint Hindi

मेरी तहरीर में कोई गलती नहीं, जिस गलती को मेरे नाम से बताया जाता है, वो दरअसल मौजूदा सिस्टम की गलती है.

<div class="paragraphs"><p>सआदत हसन मंटो के कोट्स</p></div>

सआदत हसन मंटो के कोट्स

Quint hindi

हर बड़ा आदमी गुसलखाने में सोचता है. मगर मुझे तजुर्बे से मालूम हुआ है कि मैं बड़ा आदमी नहीं, इसलिए कि मैं गुसलखाने में नहीं सोच सकता.

<div class="paragraphs"><p>सआदत हसन मंटो के कोट्स</p></div>

सआदत हसन मंटो के कोट्स

Quint Hindi

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
×
×