‘मिशन मंगल’: विद्या, तापसी, सोनाक्षी ने किया इन साइंटिस्ट का रोल
मिशन मंगल को कामयाब बनाने वाली पांच महिला साइंटिस्ट 
मिशन मंगल को कामयाब बनाने वाली पांच महिला साइंटिस्ट (फोटो: ट्विटर)

‘मिशन मंगल’: विद्या, तापसी, सोनाक्षी ने किया इन साइंटिस्ट का रोल

अक्षय कुमार की फिल्म 'मिशन मंगल' का ट्रेलर रिलीज हो गया है. ट्रेलर में पूरे दमखम के साथ वुमन पॉवर नजर आ रही हैं. फिल्म की पांच हिरोइनें विद्या बालन, तापसी पन्नू, सोनाक्षी सिन्हा, कीर्ति और नित्या नजर आ रही हैं, जो मिशन मंगल के असंभव मिशन को संभव करने के लिए अपनी जान लगा रही हैं.

मिशन मंगल कहानी है भारत के उन वैज्ञनिकों की है, जिन्होंने कम संसाधन में ही भारत को इतनी बड़ी कामयाबी दिलाई, जिसे पूरी दुनिया ने देखा. फिल्म में इन पांच एक्ट्रेस ने इसरो की जिन महिला वैज्ञानिकों का किरदार निभाया है आखिर वो कौन हैं?

Loading...

मीनल संपत

मीनल संपत वो महिला वैज्ञानिक हैं, जिन्होंने मिशन मंगल की कामयाबी में अहम भूमिका निभाई थी. इस मिशन से जुड़ी सिस्टम इंजीनियर मीनल ने इस मिशन के लिए करीब 2 सालों तक 18-18 घंटे तक काम किया. मिनल ने 500 साइंटिस्ट की टीम को बतौर सिस्टम इंजीनियर लीड किया था.

मिशन मंगल में मीनल 
मिशन मंगल में मीनल 
(फोटो: ट्विटर)

अनुराधा टीके

आंध्रप्रदेश की अनुराधा टीके इसरो में प्रोजेक्ट डायरेक्टर हैं, बचपन से ही नील आर्म स्ट्रांग से प्रभावित थीं. उन्होंने बचपन में ही स्पेस साइंटिस्ट बनने का सपना देखा था. अनुराधा ने 1982 में इसरो ज्वाइन किया था. उस वक्त बहुत कम महिलाएं वहां काम करती थीं, लेकिन अनुराधा ने अपनी लगन से ये साबित कर दिया कि किसी भी काम में महिलाएं पुरुषों से पीछे नहीं हैं.

आंध्रप्रदेश की अनुराधा टीके इसरो में प्रोजेक्ट डायरेक्टर हैं,
आंध्रप्रदेश की अनुराधा टीके इसरो में प्रोजेक्ट डायरेक्टर हैं,
(फोटो: ट्विटर)

रितु करिधल

लखनऊ की रहने वाली रितु करिधल बचपन से ही अखबारों में अंतरिक्ष विज्ञान के बारे में पढ़ा करती थीं. बचपन से ही एक सपना था साइंटिस्ट बनने का. उनके सपनों को उड़ान मिली जब उन्होंने इसरो में जॉब के लिए अप्लाई किया और उन्हें नौकरी मिल गई.

रितु 18 सालों से इसरो में काम कर रही हैं. 'मिशन मंगल' अभियान में रितु ने दिन-रात एक कर दिए थे. उस वक्त उनका बेटा 11 साल का था और बेटी पांच साल की थी, लेकिन उन्होंने छुट्टी के दिन भी काम करके 'मिशन मंगल' के कामयाब बनाया.

अक्षय कुमार की फिल्म ‘मिशन मंगल’ का ट्रेलर रिलीज हो गया है.
अक्षय कुमार की फिल्म ‘मिशन मंगल’ का ट्रेलर रिलीज हो गया है.
(फोटो: ट्विटर)

नंदिनी हरिनाथ

नंदिनी इसरो में रॉकेट साइंटिस्ट हैं, जो 20 सालों से इसरो से जुड़ी हैं. नंदिनी ने जब पहली बार स्टार ट्रैक सीरीज देखी थी, तभी से उन्होंने वैज्ञानिक बनने का सपना देखा था. नंदिनी की मां मैथ की टीचर रह चुकी हैं और उनके पिता इंजीनियर. उनके घर से पढाई-लिखाई का माहौल मिला और उन्होंने अपने सपनों को पूरा करने के लिए पूरी जान लगा दी.

नंदिनी इसरो में रॉकेट साइंटिस्ट हैं, जो 20 सालों से इसरो से जुड़ी हैं
नंदिनी इसरो में रॉकेट साइंटिस्ट हैं, जो 20 सालों से इसरो से जुड़ी हैं
(फोटो: ट्विटर)
(फोटो: ट्विटर)

मौमिता दत्ता

मौमिता दत्ता ने मिशन मंगल में बतौर प्रोजेक्ट मैनेजर जुड़ी थी. कोलकाता यूनिवर्सिटी से फीजिक्स की पढ़ाई करने वाली मौमिता चंद्रयान मिशन के बारे में बचपन से ही पढ़ा करती थीं, लेकिन उन्होंने कभी सोचा भी नहीं था कि वो मिशन मंगल का हिस्सा बनेंगी.

‘मिशन मंगल’ को कामयाब बनाने में इन पांच महिला वैज्ञानिकों का योगदान था, अब हम अक्षय कुमार की फिल्म ‘मिशन मंगल’ के जरिए रुपहले पर्दे पर जल्द देख पाएंगें. फिल्म की एक्ट्रेस किस साइंटिस्ट का रोल निभा रही हैं, इसके बारे में अभी तक पूरी जानकारी नहीं है.

‘मिशन मंगल’ में विद्या बालन प्रोजेक्ट डायरेक्टर का रोल कर रही हैं. तापसी नेविगेशन और कम्युनिकेशन इंचार्ज हैं. नित्या मेनन फिल्म में उस सैटेलाइट को डिजाइन करने वाली आर्किटेक्ट बनी हैं. कीर्ति कुल्हाड़ी का किरदार भी इस प्रोजेक्ट के ही एक हिस्से से जुड़ा हुआ है. वहीं अक्षय सबके हेड बने हैं.

ये भी पढ़ें- मिशन मंगल: ट्रेलर में असंभव को संभव करने की धुन में दिखे अक्षय

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Follow our एंटरटेनमेंट section for more stories.

    Loading...