लॉकडाउन से बेहाल इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री,उद्धव से मांगी काम की इजाजत

लॉकडाउन की वजह से फिल्म और टीवी शोज की शूटिंग बंद है. जिससे इंडस्ट्री से जुड़े लाखों लोग आर्थिक तंगी झेल रहे हैं.

Published20 May 2020, 07:37 AM IST
टीवी
2 min read

कोरोना वायरस के चलते लगे लॉकडाउन की वजह से देश के हर तबके के लोग परेशान है. फिल्म और टीवी इंडस्ट्री का काम भी ठप्प पड़ा है. फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिनेमा एमप्लॉइज (FWICE) ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लेटर लिखकर अपनी परेशानी बताते हुए फिल्मों के पोस्ट प्रोडक्शन काम करने की इजाजत मांगी है.

FWICE की मांग है कि जिस फिल्मों और शोज का काम पूरा है उनके काम के पोस्ट प्रोडक्शन की अगर इजाजत मिल जाएगी. तो कई टेक्नीशियन को भी काम मिल जाएगा. उनका कहना है कि इन प्रोजेक्ट्स में करोड़ों रुपये में लगे हैं और कोरोना की वजह से उनका भविष्य अंधेरे में हैं.

इस लेटर में ये भी कहा गया है कि अगर इजाजत मिल गई तो कास्ट और क्रू जरूरी गाइडलाइंस का पालन करते हुए अपना काम करेगा. ये भी कहा गया है कि काम में जुड़े सभी कर्मचारियों की सेहत का पूरा ध्यान भी रखा जाएगा.

FWICE के चीफ एडवाइजर अशोक पंडित ने भी ट्वीट कर इस चिट्ठी की जानकारी दी है. अशोक पंडित का मानना है कि अगर काम शुरू हो गया तो उन टेक्नीशियन को भी फिर काम मिल जाएगा जो इस समय लॉकडाउन के चलते आर्थिक परेशानी झेल रहे हैं.

ये भी पढ़ें- टीवी एक्टर आशीष रॉय अस्पताल में, इलाज के लिए लोगों से मांगे पैसे

लॉकडाउन की वजह से फिल्म और टीवी शोज की शूटिंग बंद है. जिससे इंडस्ट्री से जुड़े लाखों लोग आर्थिक तंगी झेल रहे हैं. यहां तक कि कई टीवी एक्टर्स ने भी सोशल मीडिया के जरिए अपनी तकलीफ बताई है कि उनके पास घर का किराया देने तक के पैसे नहीं हैं.

ये भी पढ़ें- लॉकडाउन: आर्थिक तंगी में कई टीवी एक्टर्स, मनमीत ग्रेवाल ने दी जान

देश सबसे ज्यादा प्रभावित  राज्य महाराष्ट्र है जहां यह आंकड़ा 37,136 पहुंच चुका है, इनमें से 9,639 लोगों को अब तक अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है और देश में अब तक सबसे ज्यादा 1,325 लोगों की मौतें इसी राज्य में हुई हैं.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!