ADVERTISEMENTREMOVE AD

Mahabharat 30 April Episode: द्रौपदी को याद आई पुरानी बातें

श्रीकृष्ण ने भेजा कौरवों के नाम संदेश

Published
टीवी
2 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा

महाभारत धारावाहिक में अब तक के एपिसोड में आपने देखा, श्रीकृष्ण, द्रौपदी और पांडवों के बीच संवाद होता है. कृष्ण कहते हैं पांडवों से, अब निर्णय लेना है. द्रौपदी कहती है कि ये क्या निर्णय लेंगे. इन्हें तो मेरे खुले कैश दिखाई नहीं देते निर्णय तो मैं लूंगी. ऐसा कहकर द्रौपदी युद्ध का शंख बजाती है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

कृष्ण ने शांत रहने को कहा

भीम के क्रोध करने पर कृष्ण उनसे कहते हैं कि अभी ये क्रोध करने का समय नही है आप सेनापति हैं तो सेनापति जैसा व्यवहार करें. आप ये सोचिए की दुर्योधन की सेना आपकी सेना से काफी बड़ी हैऔर आपको ये सोचकर तो थोड़ा और गंभीर हो जाना चाहिए कि उनकी सेना का मार्गदर्शन गंगापुत्र भीष्म कर रहे हैं.

द्रौपदी को याद आई पुरानी बातें

द्रौपदी को वो सारे पल याद आ रहे हैं जब दुर्योधन के कहने पर उसके बाल पकड़कर उसे जबरन राजसभा में लाया गया था. द्रौपदी पुरानी बातों को याद कर काफी ज्यादा भावुक हो जाती है और कौरवों के प्रति उसके गुस्से की आग को और ज्वाला मिलती है.

युद्ध को लेकर हुई चर्चा

दुर्योधन, शकुनि, दु:शासन, कर्ण और गांधार नरेश उलूक के बीच युद्ध को लेकर चर्चा होती है. शकुनि की सलाह पर पांडवों के पास उलूक को दूत बनाकर भेजा जाता है. दूत दुर्योधन का संदेश सुनाता है और कहता है कि युद्ध में मायावी नहीं बाहुबल काम आता है. वह कहता है कि तुम लोग नपुंसक हो नपुंसक. वह संदेश सुनाते हुए कहता है कि अज्ञातवास भंग होने पर तुम लोगों को फिर से वनवास चले जाना चाहिए.

श्रीकृष्ण ने भेजा संदेश

श्रीकृष्ण दूत के माध्यम से कौरवों को संदेश भिजवाते हैं. संदेश के माध्यम से कृष्ण कहलवाते हैं कि तुम दुर्योधन से जाकर कहना कि तुम क्षत्रिय के भांति जी तो नहीं सके किंतु क्षत्रिय के भांति वीरगति को प्राप्त होने का उसके पास मौका है. वहीं दुर्योधन अपनी माता से आशीर्वाद मांगने जाता है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
×
×