‘अभय’ के साथ नए अवतार में कुणाल खेमू, पर सस्पेंस जैसा कुछ नहीं
वेब सीरीज में कुणाल खेमू ने किया डेब्यू
वेब सीरीज में कुणाल खेमू ने किया डेब्यू(फोटो: ZEE5)

‘अभय’ के साथ नए अवतार में कुणाल खेमू, पर सस्पेंस जैसा कुछ नहीं

सैफ अली खान, नवाजुद्दीन सिद्दीकी, अली फजल के बाद बॉलीवुड के एक और सितारे कुणाल खेमू ने वेब सीरीज की दुनिया में कदम रखा है. बॉलीवुड की सुपरहिट 'गोलमाल' सीरीज में दर्शकों को हंसाने वाले खेमू का ZEE5 की क्राइम थ्रिलर वेब सीरीज ‘अभय’ में एक नया अवतार देखने को मिला है. लेकिन इस क्राइम सीरीज में कुछ भी सस्पेंस नहीं है.

यहां कुणाल खेमू एक सख्त इंवेस्टिगेशन पुलिस ऑफिसर के किरदार में नजर आ रहे हैं. एक ऐसा ऑफिसर, जो अपने निजी जिंदगी की मुश्किलों से निपटने और छोटे बच्चों की मर्डर मिस्‍ट्री को सुलझाने के बीच संघर्ष करता है.

कुणाल खेमू उर्फ एसपी अभय प्रताप सिंह इन समस्याओं को सुलझाने के लिए किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार हैं.

कुणाल खेमू उर्फ एसपी अभय प्रताप सिंह
कुणाल खेमू उर्फ एसपी अभय प्रताप सिंह
(फोटो: ZEE5)

कुणाल खेमू को अभी तक ज्यादातर फिल्मों कॉमेडी और मस्ती करते हुए ही देखा है. ये शायद इनकी ऐसी पहली फिल्म है, जहां वे इतने सीरियस मोड में नजर आ रहे हैं. लेकिन किसी भी फ्रेम में खेमू की एक्टिंग में कोई कमी नहीं झलकती है.

अभय प्रताप सिंह एक सख्त ऑफिसर के रोल में हैं, जिन्हें अपने अपराधियों की बहुत अच्छे से पहचान है.

ये क्राइम थ्रिलर सीरीज यूपी में लखनऊ के पास चिंथारी गांव की है. यहां पिछले दो साल से छोटे बच्चों के गायब होने की खबरें आ रही है. लोकल पुलिस केस सॉन्व करने में नाकाम रहती है, तो स्पेशल टास्क फॉर्स (STF) से अभय प्रताप सिंह को इस गांव में भेजा जाता है. एसपी साहब अपनी टीम के साथ यहां पहुंच जाते हैं.

आसानी से सॉल्व कर देते हैं केस

एसपी अभय प्रताप सिंह इस केस को बहुत सी आसानी से सॉल्व कर देते हैं. उन्हें और उनकी टीम को कोई खास मशक्कत नहीं करनी पड़ती. उनकी टीम से अगर कोई समस्या बताता भी है तो एसपी साहब कहते हैं, “हम पुलिस वाले नहीं, हम STF हैं. कुछ भी करो, बस केस सॉल्व करो.”

एसपी साहब के इतना कहते ही समस्या सॉल्व भी हो जाती है. 46 मिनट के पहले एपिसोड में बच्चों के गायब होने की पूरी गुत्थी सुलझा लेते हैं, जिसे लोकल पुलिस वाले पिछले दो साल से नहीं निपटा पा रहे थे !!

(फोटो: ZEE5)

सस्पेंस के नाम का कुछ नहीं

जब हम किसी क्राइम थ्रिलर सीरीज के बारे में सुनते हैं, तो ऐसा लगता है कि ये सस्पेंस से भरपूर होगी. दर्शक भी इस तरह की सस्पेंस सीरीज देखना ज्यादा पसंद करते हैं. लेकिन ‘अभय’ सीरीज में ऐसा कुछ नहीं है.

शुरुआती पांच मिनट में ही मालूम हो जाता है कि इस सीरीज का अंत कहां पर होगा. सबसे खास बात ये है कि बच्चों की किडनैपिंग और मर्डर के पीछे किसका हाथ है, इसका खुलासा भी दर्शकों को शुरुआत में ही कर दिया गया है.

हालांकि अभी एक सस्पेंस बरकरार है. एसपी अभय प्रताप सिंह अपने तीन साल के बच्चे को लेकर काफी इनसिक्योर हैं. उन्हें डर है कि कोई उनके बच्चे की जान ले सकता है. इस वजह से उन्होंने अपने घर में हर जगह कैमरे लगवा रखे हैं और बच्चे की देखरेख के लिए 24 घंटे एक केयरटेकर रखी है. अगले एपिसोड में इस सस्पेंस से भी पर्दा उठ सकता है.

क्राइम सीरीज ‘अभय’ के पहले एपिसोड में कुणाल खेमू को ही सबसे ज्यादा स्क्रीन मिली है. बाकी कलाकार का काम भी ठीक-ठाक है. डायरेक्शन भी ठीक-ठाक है. सीरीज के कुल आठ एपिसोड टेलीकास्ट होने हैं.

ये भी पढ़ें : Hero वर्दीवाला रिव्यू: असल राजनीति की तस्वीर साफ करती वेब सीरीज

(My रिपोर्ट डिबेट में हिस्सा लिजिए और जीतिए 10,000 रुपये. इस बार का हमारा सवाल है -भारत और पाकिस्तान के रिश्ते कैसे सुधरेंगे: जादू की झप्पी या सर्जिकल स्ट्राइक? अपना लेख सबमिट करने के लिए यहां क्लिक करें)


Follow our वेब सिरीज section for more stories.

    वीडियो