ई पलानीसामी (बाएं) और टी दिनाकरण (दाएं)
ई पलानीसामी (बाएं) और टी दिनाकरण (दाएं)(फोटोः Altered By The Quint)
  • 1. विधानसभा अध्यक्ष ने विधायकों को क्यों ठहराया अयोग्य?
  • 2. मद्रास हाईकोर्ट में इस मामले पर क्या हुआ?
  • 3. तमिलनाडु विधानसभा में सीटों की स्थिति क्या है?
  • 4. 18 विधायकों को अयोग्य करार दिए जाने का असर?
  • 5. पलानीसामी सरकार का खतरा कब तक टला?
तमिलनाडु की पलानीसामी सरकार अब पूरी तरह सेफ या खतरा बरकरार?

मद्रास हाईकोर्ट ने 18 विधायकों की सदस्यता अयोग्य बरकरार रखी है. कोर्ट के इस फैसले से टीटीवी दिनाकरण को झटका लगा है, लेकिन पलानीसामी की सरकार सुरक्षित बच गई है. कोर्ट का ये फैसला आने के बाद अब कुछ सवाल उठ रहे हैं.

मसलन, अब इन अयोग्य ठहराए गए 18 विधायकों का क्या होगा? पलानीसामी सरकार को कोई खतरा तो नहीं है? क्या तमिलनाडु की 18 सीटों पर उपचुनाव होगा? इन सवालों के जवाब तलाशने के साथ-साथ इस पूरे मामले को भी समझने की जरूरत है.

  • 1. विधानसभा अध्यक्ष ने विधायकों को क्यों ठहराया अयोग्य?

    AIADMK के 18 बागी विधायकों को तमिलनाडु विधानसभा के अध्यक्ष पी. धनपाल ने 18 सितंबर 2017 को अयोग्य करार दिया था. विधानसभा सचिव के. भूपथी ने बयान जारी कर बताया था कि मुख्यमंत्री के. पलानीसामी के खिलाफ बगावत करने वाले 18 विधायकों पर दल-बदल विरोधी और अयोग्यता नियम-1986 के तहत कार्रवाई की गई थी.

    विधानसभा अध्यक्ष के इन विधायकों को अयोग्य ठहराने के साथ ही 18 सितंबर, 2017 से उनकी सदस्यता खत्म हो गई थी. विधानसभा अध्यक्ष के इस फैसले को टीटीवी दिनाकरण गुट वाले बागी विधायकों ने कोर्ट में चुनौती दी थी.

    दरअसल, 28 अगस्त को मुख्यमंत्री पलानीसामी की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में दिनाकरण को पार्टी के उपमहासचिव पद से हटा दिया गया था. लेकिन पार्टी के 19 विधायक दिनाकरण का समर्थन कर रहे थे. लिहाजा, मुख्य सरकारी सचेतक एस. राजेंद्रन ने विधानसभा अध्यक्ष से पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते इन विधायकों को अयोग्य ठहराने की अपील की थी.

    इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने इन विधायकों को नोटिस जारी किए थे. इस बीच एक बागी विधायक एसटीके जक्कीयन पलानीसामी खेमे में लौट आए, लेकिन बाकी के 18 बागी विधायकों ने न तो पार्टी की सदस्यता छोड़ी, न ही किसी दूसरी पार्टी में शामिल हुए. इसी आधार पर विधायकों को अयोग्य ठहराया गया.

पीछे/पिछलाआगे/अगला

Follow our कुंजी section for more stories.

वीडियो