ADVERTISEMENT

केयर्न एनर्जी क्यों कर रहा एयर इंडिया की विदेशी संपत्तियों पर दावा

कई देशों में भारत सरकार की संपत्तियों पर कानूनी दावा

Published
कुंजी
4 min read
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण
i

दुनिया की पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भारत की सरकारी संपत्तियां जब्त करने के लिए कोई कंपनी कोर्ट में घसीट ले, ये किसी लिहाज से अच्छी खबर नहीं है. हमारी इंटरनेशनल साख के लिए तो बिल्कुल नहीं , लेकिन केयर्न एनर्जी ने यही किया है. वो विदेशों में एयर इंडिया की संपत्तियों को हर्जाने के रूप में पाना चाहती है. एयर इंडिया ही क्योंकि बाकी सरकारी संपत्तियों पर भी वो भी दावा ठोक रही है. तो आखिर ये नौबत क्यों आई और भारत सरकार इस स्थिति से निकलने के लिए क्या कर सकती है, आइए जानते हैं.

ब्रिटिश ऑयल कंपनी केयर्न एनर्जी ने भारत सरकार की संपत्तियों को जब्त करने के लिए अमेरिका में कानूनी प्रक्रिया शुरू कर दी है. इसी के तहत 15 मई, शुक्रवार को उसने न्यूयॉर्क,अमेरिका के जिला कोर्ट में सरकारी उड़ान कंपनी एयर इंडिया की संपत्ति जब्त करने के लिए मुकदमा दायर किया है.

किस बिना पर एयर इंडिया की संपत्तियां मांग रही केयर्न एनर्जी

केयर्न एनर्जी ने 2007 में अपनी भारतीय इकाई केयर्न इंडिया को सूचीबद्ध कराया था. 2011 में उसने कंपनी की 10% हिस्सेदारी अपने पास रख कर बाकी 90% हिस्सेदारी वेदांता लिमिटेड को बेच दी थी .

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 2012 में नियमों में बदलाव कर बैक डेट से टैक्स लगाते हुए मार्च 2015 में कंपनी से 10,247 करोड़ का पूंजीगत लाभ कर मांगा. सरकार ने इसकी वसूली के लिए वेदांता में केयर्न कि 5 फीसदी हिस्सेदारी बेच दी और 1,140 करोड़ का लाभांश और 1,590 करोड़ का टैक्स रिफंड भी जब्त कर लिया. इसके बाद कंपनी ने 2015 में भारत सरकार के खिलाफ परमानेंट कोर्ट ऑफ आर्बिट्रेशन (PCA) में अपील कर दी.
ADVERTISEMENT

नीदरलैंड के हेग स्थित PCA की तीन जजों वाली बेंच ने दिसंबर 2020 में अपना निर्णय दिया. गौर करने की बात है कि इनमें से एक जज को भारत से हैं. अदालत ने 582 पेज के फैसले में माना कि केयर्न एनर्जी की भारतीय इकाई केयर्न्स इंडिया पर बैक डेट से लगा टैक्स ठीक नहीं है. इसके साथ ही ये भारत-ब्रिटेन द्विपक्षीय संधि के विपरीत भी था. निर्णय कंपनी के पक्ष में सुनाते हुए ट्रिब्यून ने भारत सरकार को 1.2 बिलीयन डॉलर देने को कहा. हालांकि सरकार ने इस निर्णय को चुनौती देते हुए वहीं के एक लोअर कोर्ट में अपील दायर कर दी.

ADVERTISEMENT
एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार केयर्न एनर्जी की कार्रवाई के डर से 7 मई को सरकार ने स्टेट-रन बैंकों को विदेशों के अपने फॉरेन करेंसी अकाउंट से फंड निकालने को कहा था.

केयर्न एनर्जी की कार्रवाई

टैक्स विवाद में भारतीय सरकार के खिलाफ 1.2 बिलीयन डॉलर का केस जीतने के बाद केयर्न एनर्जी ने न्यूयॉर्क के डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में वहां एयर इंडिया की संपत्तियों पर दावा कर दिया. कंपनी ने तर्क दिया है कि "कानूनी रूप से भारत सरकार और एयर इंडिया में नाम मात्र का भी फर्क नहीं है. दोनों को अलग मानना भारत सरकार को अनुचित मदद देगा. कुल मिलाकर कंपनी के मुताबिक जो देनदारी भारत सरकार की है, और वो अगर नहीं दे रही तो एयर इंडिया जैसी सरकारी भारतीय कंपनियों की संपत्तियां जब्त कर वसूल ली जाए.

मार्च 2021 में केयर्न एनर्जी ने अपनी सालाना रिपोर्ट में लिखा कि PCA द्वारा दिया 'अवार्ड' उन 160 देशों में भारत सरकार के स्वामित्व वाली संपत्ति पर बाध्यकारी है, जिन देशों ने 1958 के 'न्यूयॉर्क कन्वेंशन ऑन रिकॉग्निशन एंड इंफोर्समेंट ऑफ फॉरेन आर्बिट्रल अवार्ड' पर हस्ताक्षर किए हैं. इसके बाद केयर्न ने उन देशों में भारत सरकार की संपत्तियों पर कार्रवाई शुरू कर दी.
ADVERTISEMENT

बैक डेट पर टैक्स को लेकर बवाल

वोडाफोन द्वारा हचिंसन एस्सार के टेकओवर पर भी भारत सरकार द्वारा बैक डेट से टैक्स लगाने के मुद्दे पर वोडाफोन ने भारत सरकार को 2016 में इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में घसीटा था. 25 सितंबर 2020 को वोडाफोन ग्रुप ने भारत सरकार के खिलाफ यह मामला जीत लिया.

दावे को स्वीकार करते हुए ट्रिब्यून ने माना कि भारत सरकार द्वारा टेलीकॉम कंपनी पर बैक डेट से टैक्स लगाना भारत-नीदरलैंड निवेश संधि के तहत न्याय संगत और निष्पक्ष व्यवहार के सिद्धांत का उल्लंघन है. उस केस में 12 हजार करोड़ का ब्याज और 7900 करोड का जुर्माना शामिल था.

ADVERTISEMENT

भारत सरकार के पास क्या विकल्प

अमेरिकी डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में केयर्न एनर्जी द्वारा दायर याचिका से संबंधित नोटिस अभी तक सरकार या एयर इंडिया को प्राप्त नहीं हुआ है. इसके अलावा सरकार किसी भी देश में केयर्न एनर्जी के कानूनी कार्रवाई शुरू करने पर अपना पक्ष रखने के लिए एक काउंसिल टीम बनाने पर विचार कर रही है.

इससे पहले मार्च में ही सरकार ने PCA के निर्णय को चुनौती देते हुए एक याचिका लोअर डच कोर्ट में दायर की है. सरकार आठ अन्य जूरिडिक्शन (जिसमें, ब्रिटेन ,कनाडा ,अमेरिका और फ्रांस भी शामिल है) में केयर्न एनर्जी द्वारा कानूनी कार्यवाही शुरू करने पर अपना पक्ष रखने की तैयारी कर रही है.
ADVERTISEMENT

7 मई को, Reuters के एक रिपोर्ट के अनुसार सरकार ने भारतीय स्टेट-रन बैंकों को विदेशों के अपने फॉरेन करेंसी अकाउंट से फंड निकालने को कहा था .इसके पीछे केयर्न एनर्जी के द्वारा उन अकाउंटों पर कानूनी कार्रवाई के द्वारा उन्हें जब्त करने का खतरा बताया जा रहा है.

केयर्न एनर्जी के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर साइमन थॉमसन ने फरवरी 2021 में ही आउट ऑफ कोर्ट सेटलमेंट के लिए भारत की यात्रा की थी. थॉमसन ने इस मीटिंग को 'सकारात्मक' कहा था.

केयर्न एनर्जी द्वारा यूएस डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में मामला दायर करने के बाद शायद सरकार 'आउट ऑफ कोर्ट सेटलमेंट' पर ध्यान दें. हालांकि सरकार का यही आधिकारिक स्टैंड है कि विवाद सुलझाने का यह प्रस्ताव मौजूदा कानूनों के अंदर ही होना चाहिए.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT