दिवाली पर शेयर बाजार में ‘मुहूर्त ट्रेडिंग’ क्‍या है?

शेयर बाजार दिवाली की शाम को ‘मुहूर्त ट्रेडिंग’ के लिए खुलता है. ये जानना दिलचस्‍प है कि मुहूर्त ट्रेडिंग क्‍या है?

Updated07 Nov 2018, 11:08 AM IST
कुंजी
3 min read
स्नैपशॉट

देश में दिवाली के दिन आम तौर पर बैंक और ज्‍यादातर कारोबारी संस्‍थान बंद रहते हैं. लेकिन शेयर बाजार दिवाली की शाम को ‘मुहूर्त ट्रेडिंग’ के लिए खुलता है. ऐसे में ये जानना दिलचस्‍प है कि मुहूर्त ट्रेडिंग आखिर है क्‍या?

इस ट्रेडिंग के साथ मुहूर्त शब्‍द जुड़ा हुआ है. जाहिर है कि ये दीपावली के शुभ अवसर पर होने वाली ट्रेडिंग से जुड़ा है. इसे हम आगे थोड़ा और विस्‍तार से समझते हैं.

दीपावली का कारोबार से क्‍या संबंध?

दिवाली पर शेयर बाजार में ‘मुहूर्त ट्रेडिंग’ क्‍या है?
(फोटो: iStock)

दिवाली पर धन की देवी लक्ष्‍मी की पूजा की जाती है. ऐसा माना जाता है कि जिस पर लक्ष्‍मी की कृपा होती है, उसे कभी धन-धान्‍य की कमी नहीं होती है.

वैसे तो फाइनेंशियल ईयर की शुरुआत अंग्रेजी कैलेंडर के मुताबिक अप्रैल की पहली तारीख से होती है. लेकिन देश के कुछ भागों में परंपरागत तौर पर दीपावली से ही नए कारोबारी साल की शुरुआत होती है. इस मौके पर नए कारोबारी खाते की शुरुआत करने का चलन है. जाहिर है, इस मौके पर कारोबार करना शुभ माना जाता है.

शेयर बाजार 'मुहूर्त' से कैसे जुड़ा?

Sensex-Nifty की हाल
Sensex-Nifty की हाल
(फोटो: iStock)

देश में जो लोग संवत की शुरुआत दिवाली से मानते हैं और नए कारोबारी साल की शुरुआत दिवाली से करते हैं, उनमें गुजराती और मारवाड़ियों की तादाद ज्‍यादा है. व्‍यापार-कारोबार में गुजराती और मारवाड़ी हमेशा से ही आगे रहे हैं. यहां तक कि स्‍टॉक ब्रोकिंग सेक्‍टर में भी हमेशा से इन दोनों समुदायों की अच्‍छी-खासी मौजूदगी रही है.

ऐसे माना जाता है कि इस शुभ मुहूर्त पर कारोबार करने से बरकत होती है. 'शगुन' के तौर पर खरीद की परंपरा आज भी चलन में है.

'मुहूर्त' पर शेयर बाजार में क्‍या होता है?

दिवाली पर शेयर बाजार में ‘मुहूर्त ट्रेडिंग’ क्‍या है?
(फोटो: iStock)

आम तौर पर दिवाली की शाम शेयर बाजार 1 से डेढ़ घंटे के लिए खास तौर पर खोला जाता है, जिसमें 1 घंटे तक खरीद-बिक्री होती है. ब्रोकरों के लिए ये वक्‍त लक्ष्‍मी पूजा के साथ-साथ ट्रेडिंग करने का होता है. आम तौर पर इस मौके पर खरीद ज्‍यादा शुभ माना जाता है, लेकिन बाजार का मूड हमेशा एक जैसा नहीं रहता.

कब से हुई मुहूर्त ट्रेडिंग की शुरुआत?

दिवाली पर शेयर बाजार में ‘मुहूर्त ट्रेडिंग’ क्‍या है?
फोटो:iStock 

देश के शेयर बाजार में मुहूर्त ट्रेडिंग का चलन बहुत पुराना है. BSE में साल 1957 से और NSE में 1992 से ही मुहूर्त ट्रेडिंग का सिलसिला चल रहा है. अगर रिकॉर्ड उठाकर देखें, तो मार्केट इस दिन ज्‍यादातर हरे निशान में बंद होता देखा गया है.

इस दिवाली मुहूर्त ट्रेडिंग का शेड्यूल क्‍या?

दिवाली पर शेयर बाजार में ‘मुहूर्त ट्रेडिंग’ क्‍या है?
(फोटो: iStock)

इस दिवाली, यानी 7 नवंबर, 2018 की शाम मुहूर्त ट्रेडिंग का शेड्यूल इस तरह है:

  • ब्‍लॉक डील सेशन: 5 -5.15 बजे
  • प्री ओपन सेशन: 5.15 - 5.23 बजे
  • ट्रेडिंग की शुरुआत: 5.30 बजे
  • बाजार बंद: 6.40
  • कूलिंग पीरियड: 6.40 - 6.50 बजे

कुल मिलाकर देखें, तो शेयर बाजार में मुहूर्त ट्रेडिंग वाले केवल एक घंटे के दौरान ही अरबों का कारोबार हो जाता है. आपके सामने भी ये मौका है. आप भी इस मौके पर शगुन कर सकते हैं.

कोरोनावायरस से जारी जंग के बीच तमाम अपडेट्स और जानकारी के क्लिक कीजिए यहां

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram और WhatsApp चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 07 Nov 2018, 10:36 AM IST

क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर को और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!