HIV मरीजों को अब मिलेंगे ये अधिकार, जानिए क्या है HIV/AIDS Act.?
(फोटो: iStock)
  • 1. क्या है ये HIV/AIDS Act.?
  • 2. HIV पेशेंट को अब कौन-कौन से अधिकार?
  • 3. मरीजों की पहचान का क्या होगा?
  • 4. किसे माना जाएगा HIV/AIDS पेशेंट के साथ भेदभाव?
  • 5. पीड़ित के साथ भेदभाव पर क्या होगी सजा?
  • 6. सरकार की क्या होगी भूमिका?
HIV मरीजों को अब मिलेंगे ये अधिकार, जानिए क्या है HIV/AIDS Act.?

एचआईवी और एड्स के मरीजों के लिए 10 सितंबर नया सवेरा लेकर आया. एड्स के शिकार मरीज अब शान से अपनी जिंदगी जी सकेंगे और उनक साथ भेदभाव करने वाले लोगों को कड़ी सजा मिलेगी. सजा के साथ-साथ ऐसे लोगों को अब जुर्माना भी देना पड़ेगा. एड्स के शिकार लोग जो खुद अपनी जिंदगी से हारे होते हैं, उनके साथ होने वाले दुर्व्यहार की वजह से उनकी जिंदगी और भी तकलीफदेह हो जाती है, ऐसे में हेल्थ मिनिस्ट्री ने 10 सितंबर से HIV/AIDS (प्रिवेंशन एंड कंट्रोल) एक्ट 2017 को लागू कर दिया है जो ऐसे मरीजों के लिए बड़ी राहत है.

क्या है इस एक्ट की खासियत और अब इन मरीजों को मिलेगी कौन-कौन सी सुविधाएं. डालते हैं एक नजर-

  • 1. क्या है ये HIV/AIDS Act.?

    HIV मरीजों को अब मिलेंगे ये अधिकार, जानिए क्या है HIV/AIDS Act.?

    पिछले काफी सालों से अक्सर एचआईवी मरीजों के साथ भेदभाव की खबरें आती रहती थीं. इन मरीजों के लिए कानून में कोई कड़ा नियम और कानून नहीं होने की वजह से इन्हें अक्सर परेशानियों का सामना करना पड़ता था. एचआईवी कम्यूनिटी के लिए कानून मजबूत करने के मकसद से केंद्र सरकार ने पहल की. और इसके बाद ह्यूमन इम्यूनोडेफिसिएंशी वायरस एंड एक्वायर्ड इम्यून डेफिसिएंशी सिंड्रोम (प्रिवेंशन एंड कंट्रोल) बिल, 2017 बनाकर इसे संसद से पास कराया गया.

    इस कानून को राज्यसभा ने पिछले साल 21 मार्च को, जबकि लोकसभा ने 11 अप्रैल को मंजूरी दे दी थी. उस समय के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 20 अप्रैल 2018 को इसे अपनी भी मंजूरी दे दी थी. लेकिन ये उस समय लागू नहीं हो सका था. अब 10 सितंबर 2018 से इसे लागू कर दिया गया है. इस एक्ट से एचआईवी पीड़ित लोगों को कई तरह के कानूनी अधिकार मिलेंगे.

पीछे/पिछलाआगे/अगला

Follow our कुंजी section for more stories.

वीडियो