देशव्यापी स्तर पर सबसे पहले 1990 में किसानों के ऋण माफ
देशव्यापी स्तर पर सबसे पहले 1990 में किसानों के ऋण माफ(फोटो: Reuters) 
  • 1. नब्बे में शुरू हुई देशव्यापी स्तर पर किसानों की कर्जमाफी
  • 2. 2008 में कृषि कर्जमाफी या हुई बंदरबांट?
  • 3. 2014 से 2018 के बीच 11 राज्यों में किसानों के कर्ज माफ...
  • 4. किसान क्यों हैं बदहाल?
  • 5. 5 साल में होते हैं 10 फसल के सीजन
  • 6. सबसे बड़ी कर्जमाफी प्लान के साथ उतरेगी मोदी सरकार!
कर्जमाफी से किसको फायदा, कितना फायदा, हर जरूरी बात यहां समझिए

किसानों की कर्जमाफी के मायने क्या हैं? इसका मतलब ये है कि किसान बैंकों को कर्ज नहीं चुकाएंगे, बल्कि उनकी ओर से सरकार वह रकम बैंकों को चुकाएगी. इसका दूसरा मतलब ये है कि जो रकम कृषि के विकासमें खर्च होनी चाहिए थी, वह रकम ऋण चुकाने में हो गयी. जाहिर है कृषि अनुसंधान से लेकर, मिट्टी, पौधे के संरक्षण तक पर इसका असर पड़ता है.

कर्जमाफी से किसानों को फौरी राहत तो मिल जाती है, लेकिन इससे किसानों के जीवन में कोई बड़ा फर्क नहीं आता. दीर्घकाल में यह पूरे सिस्टम को नुकसान अधिक पहुंचाता है.

  • 1. नब्बे में शुरू हुई देशव्यापी स्तर पर किसानों की कर्जमाफी

    देशव्यापी स्तर पर सबसे पहले 1990 में किसानों के ऋण माफ
    (फोटो: PixaBay)

    देशव्यापी स्तर पर सबसे पहले 1990 में किसानों के ऋण माफ किए गये थे. तब यह 10 हजार करोड़ रुपये का था. 2008 में यूपीए सरकार ने 52 हजार करोड़ रुपये के ऋण माफ किए. मई 2008 में इसे शुरू किया गया था.

    इंडियन काउंसिल फॉर रिसर्च ऑन इंटरनेशनल इकनॉमिक रिलेशन्स की रिपोर्ट के मुताबिक, 1990 में वीपी सिंह सरकार की कर्जमाफी की कीमत बैंक और भारत की अर्थव्यवस्था को चुकानी पड़ी. वित्तीय संस्थानों में रिकवरी की दर घटी, डिफॉल्टरों की संख्या में बढ़ोतरी हुई.

    एक अन्य रिपोर्ट में पाया गया कि कर्नाटक में 74.9 फीसदी की रिकवरी 1987-88 में थी, जो 1991-92 में गिरकर 41.1 प्रतिशत रह गयी.

    ऐसा भी नहीं है कि किसानों के हालात में सुधार हुए हों. इसके बजाए दुर्दशा बढ़ती ही गयी. नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट पर नजर डालें, तो यह दुर्दशा खुदकुशी के आंकड़े के रूप में लगातार बयां हुईं. 2005 से 2015 के बीच 10 साल में हर एक लाख की आबादी पर 1.4 से 1.8 किसान खुदकुशी करते रहे.

पीछे/पिछलाआगे/अगला

Follow our कुंजी section for more stories.

वीडियो