ADVERTISEMENTREMOVE AD

एंटी-पॉल्यूशन स्किन और हेयर केयर प्रोडक्ट असल में किसी काम के हैं?

एंटी-पॉल्यूशन ब्यूटी प्रोडक्ट्स की मांग अचानक ज्यादा बढ़ गई है, जानिए कितने कारगर होते हैं ये.

Updated
फिट
5 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

स्किन केयर प्रोडक्ट्स के एंटी-पॉल्यूशन प्रभाव का प्रचार करना नई बात नहीं है, ऐसा कई वर्षों से हो रहा है.

हालांकि बढ़ते प्रदूषण और लोगों में इसके प्रति बढ़ती जागरुकता के साथ अपनी त्वचा और बालों को प्रदूषण के हानिकारक प्रभाव से बचाने की ख्वाहिश में भी अचानक बढ़ोतरी हुई है.

एक रिपोर्ट के मुताबिक, ये सजगता और समझ इतनी बढ़ गई है कि इस दीपावली के तुरंत बाद एंटी-पॉल्यूशन उत्पादों की मांग और डर्मटॉलजिस्ट व स्किन केयर विशेषज्ञों से मिलने वालों की तादाद में 30-40 प्रतिशत तक इजाफा हुआ है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

इसी तरह, अगर हम कॉस्मेटिक उत्पादों के एक जाने-माने भारतीय एग्रिगेटर की वेबसाइट पर जाते हैं, तो एंटी-पॉल्यूशन उत्पादों की सामान्य खोज उपभोक्ता को ढेर सारे विकल्प मुहैया करा देती है.

एंटी-पॉल्यूशन ब्यूटी प्रोडक्ट्स की मांग अचानक ज्यादा बढ़ गई है, जानिए कितने कारगर होते हैं ये.
उपभोक्ताओं को ढेर सारे उत्पादों में से चुनाव का विकल्प उपलब्ध है.
(स्क्रीनशॉट सौजन्य: Nykaa.com)

त्वचा और बालों पर प्रदूषण का प्रभाव

जब हम प्रदूषण और स्किन केयर व हेयर केयर की शब्दावली सरल शब्दों में करके देखते हैं, तो दो जरूरी चीजें सामने आती हैं- क्लींजिंग और लेयरिंग.

फोर्टिस हॉस्पिटल, शालीमार बाग, नई दिल्ली के डर्मेटॉलजी विभाग में कंसल्टेंट डॉ अनु जैन इस पर जोर देती हैं और इसे दिन में कम से कम दो बार करने की सलाह देती हैं.

प्रदूषण का प्रकोप इतना गहरा है कि आपकी त्वचा की क्लींजिंग और टोन करना जरूरी हो जाता है. घर के अंदर भी कुछ मात्रा में प्रदूषण है. पार्टिकुलेट मैटर आपकी त्वचा के छिद्रों के साथ-साथ आपके बालों से भी चिपक जाता है, खासकर बाल जो ज्यादातर समय असुरक्षित रहते हैं. नतीजतन, लोग, ज्यादातर शहरी आबादी बालों के टूटने, रूखेपन और झड़ने की शिकायत करती है.
डॉ अनु जैन 
0

ऐसे हालात में, यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि आपकी त्वचा धूल कणों और अन्य सभी हानिकारक सूक्ष्म कणों से मुक्त हो. डॉ जैन कहती हैं कि टोनिंग कोई जटिल प्रक्रिया नहीं है. आम गुलाब जल भी शानदार काम कर सकता है. इसका इस्तेमाल मॉइस्चराइजर, जिसमें बड़ी मात्रा में एक्टिव इंग्रीडिएंट्स होते हैं, के साथ करना फायदेमंद है.

रेटिनॉल आपकी त्वचा के लिए फायदेमंद है, खासकर 30 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए.
डॉ अनु जैन

डर्मटॉलजिस्ट से आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि आपकी त्वचा की किस्म (शुष्क, तैलीय या मिली-जुली) के हिसाब से आपके लिए किस तरह का उत्पाद सबसे अच्छा काम करेगा.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

पॉल्यूशन आपकी स्किन पर क्या असर डाल रहा है?

मैक्स सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल, शालीमार बाग के डर्मेटॉलजी विभाग में कंसल्टेंट डॉ राहुल अरोड़ा का कहना है कि हमारे आसपास हवा में मौजूद केमिकल और धूल कण त्वचा की सबसे बाहरी परत को नुकसान पहुंचाते हैं. यह प्रोटेक्टिव लेयर है और एक बार इसके खराब हो जाने के बाद, प्रदूषण के संपर्क में आने से जलन, त्वचा बदरंग होने और पिगमेंटेशन जिसे अक्सर धोखे से टेनिंग समझ लिया जाता है, जैसी समस्याएं हो सकती हैं.

एंटी-पॉल्यूशन ब्यूटी प्रोडक्ट्स की मांग अचानक ज्यादा बढ़ गई है, जानिए कितने कारगर होते हैं ये.
प्रदूषण के बढ़ते स्तर का आपकी त्वचा की क्वालिटी पर सीधा असर पड़ रहा है.
(फोटो: iStockphoto)

इससे स्किन को कितना नुकसान पहुंचा रहा है, ये पूछने पर डॉ अरोड़ा कहते हैं:

त्वचा के अंदर का नुकसान अक्सर कोलेजन (शरीर में उपस्थित प्रोटीन जो त्वचा की संरचना के लिए जरूरी है) को प्रभावित करता है. ये अक्सर जल्द बुढ़ापे की ओर ले जाता है. रूटीन जॉब वाले लोगों के लिए जिसमें उन्हें बाहर जाने की ज्यादा जरूरत होती है, ये नुकसान घर पर रहने वालों की तुलना में दो गुना-तीन गुना अधिक है. मेट्रो शहरों में रहने वाले लोगों और उपनगरों में रहने वालों में भी यह फर्क देखा जा सकता है.
डॉ राहुल अरोड़ा

डॉ अरोड़ा क्लींजिंग और टोनिंग के महत्व के बारे में डॉ जैन से सहमति रखते हैं और बताते हैं कि यह कदम बाहर निकलने वालों के लिए कितना मददगार है. दोनों डॉक्टर आपकी स्किन केयर की व्यवस्था में मॉइस्चराइजिंग और सनस्क्रीन के इस्तेमाल के साथ-साथ विटामिन सी और ई, और हयालूरोनिक एसिड और फेरुलिक एसिड के फायदों पर भी एकमत हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

कितने कारगर होते हैं स्किन केयर प्रोडक्ट्स?

डॉ अरोड़ा का कहना है कि अब तक इनमें से किसी भी दावे को सही साबित करने वाला कोई वैज्ञानिक शोध उपलब्ध नहीं है. फिर भी अपने अनुभव से उन्होंने एक दिलचस्प निष्कर्ष निकाला है.

हालांकि यह टिप्पणी करना बहुत जल्दबाजी होगी कि वे वास्तव में कितने प्रभावी हैं. मेरा अनुभव रहा है कि, जो मरीज दिन में दो बार अपना चेहरा साफ करते हैं और मॉइस्चराइज करते हैं, सनस्क्रीन का इस्तेमाल करते हैं और खुद को हाइड्रेटेड रखते हैं, उनके मामले में प्रदूषण के खिलाफ सुरक्षा 70-80 फीसद तक है. लेकिन वे शायद ही इसे जारी रख पाते हैं, और दो-तीन महीने के बाद नियमित रूप से यह करना बंद कर देते हैं.
डॉ राहुल अरोड़ा
ADVERTISEMENTREMOVE AD

डॉ जैन इस संख्या को अधिकतम 50 फीसद पर रखती हैं. जब स्किनकेयर की बात आती है, तो वह मेडिकेटेड उत्पादों पर अपना भरोसा जताते हुए कहती हैं कि मेडिकल कंपनियों में एक प्रोटोकॉल है और डर्मेटॉलजिस्ट की सलाह पर एक तय उत्पाद का इस्तेमाल करने में, आपके गलती करने की संभावना बहुत कम है.

वह ड्राई स्किन के लिए सेरामाइड और ऑयली स्किन के लिए और एलीफेटिक एसिड के उपयोग का जिक्र करती हैं. किसी भी स्किन केयर या हेयर केयर प्रोडक्ट का चुनाव करते समय एक तयशुदा नियम है कि पैराबींस और सल्फेट्स से बचा जाए, जबकि ग्लिसरीन, जोजोबा और जैतून का तेल जैसे तत्व अधिकांश लोगों के लिए काम करते हैं.

एक और अक्सर नजरअंदाज कर दिया गया उत्पाद अंडर आई क्रीम है. वह कहती हैं:

30 साल से कम उम्र के लोगों के लिए भी अंडर आई क्रीम जरूरी है. हम जितना ज्यादा समय स्क्रीन पर बिताते हैं, नींद की कमी और आमतौर परअस्वास्थ्यकर लाइफ स्टाइल की आदतों से, आंखों में खिंचाव और सूजन असामान्य नहीं है. इसलिए अपनी आंखों की ज्यादा देखभाल करना जरूरी है.
डॉ अनु जैन
ADVERTISEMENTREMOVE AD

डाइट, हाइड्रेशन और कुछ दूसरे उपाय

एंटी-पॉल्यूशन ब्यूटी प्रोडक्ट्स की मांग अचानक ज्यादा बढ़ गई है, जानिए कितने कारगर होते हैं ये.
बेरीज और हरी पत्तेदार सब्जियां शामिल करें.
(फोटो: iStockphoto)

शरीर को भीतर से मजबूत रखना बहुत महत्वपूर्ण है. डॉ जैन बताती हैं कि हाइड्रेशन के साथ ही, विटामिन ए और डी की ज्यादा मात्रा वाली डाइट को शामिल करना अहम है. वह बेरीज और हरी पत्तेदार सब्जियां खाने का सुझाव देती हैं.

विटामिन सी भी एक जबरदस्त इम्यूनिटी बूस्टर है, जिसका मतलब है कि ये शरीर को प्रदूषण के दुष्प्रभावों के खिलाफ बेहतर तरीके से तैयार करेगा.
डॉ अनु जैन

वह कहती हैं, खासकर बात जब प्रदूषण के खिलाफ बालों की रक्षा की आती है तो बचाव के उपाय बहुत उपयोगी हो जाते हैं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

(FIT अब टेलीग्राम और वाट्सएप पर भी उपलब्ध है. जिन विषयों की आप परवाह करते हैं, उन पर चुनिंदा स्टोरी को हासिल करने के लिए, हमारे Telegram और WhatsApp चैनल्स को सब्सक्राइब करें.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें