ये लो, सेक्स से जुड़ी एक और नई बीमारी आ गई...
इंसान मानसिक बीमारी की वजह से खुद को सेक्स करने से रोक नहीं पाते हैं.
इंसान मानसिक बीमारी की वजह से खुद को सेक्स करने से रोक नहीं पाते हैं.(फोटो: iStock)

ये लो, सेक्स से जुड़ी एक और नई बीमारी आ गई...

आजकल दुनियाभर में बहस चल रही है कि सेक्स एडिक्शन यानी सेक्स की लत कोई बीमारी है या नहीं. ऐसे में वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने एक बयान जारी कर बताया है कि सेक्स की लत मानसिक बीमारी का लक्षण है. ये बीमारी Compulsive Sexual Behaviour के नाम से जानी जाती है.

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, इस बीमारी से पीड़‍ित इंसान मानसिक बीमारी की वजह से खुद को सेक्स करने से रोक नहीं पाता है. ऐसे लोगों को बार-बार सेक्स करने इच्छा होती है. इसके चलते सेक्स एडिक्शन के शिकार लोग अपनी सेहत को भी नजरअंदाज कर देते हैं.

सेक्स की लत लगने वाले इंसान को इस बीमारी का पता नहीं चलता और जब तक इसके बारे में वो जान पाता है, तब तक देर हो चुकी होती है.

क्या है सेक्स एडिक्शन?

सेक्स की लत एक तरह की मानसिक विकृति है
सेक्स की लत एक तरह की मानसिक विकृति है
(फोटो: iStock)

अगर सेक्स की इच्छा बार-बार हो रही है या सेक्स किए बगैर कोई खुद को संभाल नहीं पा रहा है, तो इसका मतलब है कि उसे सेक्स की लत लग चुकी है. लिमिट से ज्यादा सेक्‍स की इच्छा मानसिक बीमारी का लक्षण है.

ऐसे मरीज सेक्स करके खुद को ताकतवर महसूस करते हैं, लेकिन यह नहीं समझ पाते कि वो कितनी बड़ी गलती कर रहे हैं, उनकी एक गलती की वजह से उनके काम-काज पर कितना फर्क पड़ रहा है.

ये भी पढ़ें- एडिक्शन के बहाने वाइंस्टाइन,रहीम जैसे लोग अपना वहशीपन छिपाते हैं?

कैसे पता करें कि सेक्स एडिक्शन है या नहीं

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, इस तरह के व्यक्ति को सेक्स करने से कभी संतुष्‍ट‍ि नहीं मिलती है, बस उसमें सेक्स करने तीव्र इच्छा जगी रहती है. शायद इसलिए, क्योंकि अब ये उसकी आदत चुकी होती है.

अगर कोई व्यक्ति कम से कम पिछले छह महीनों से अपने स्वास्थ्य, पसंद, परिवार और जरूरतों से ज्यादा सेक्स को अहमियत दे रहा हो, तो इसका मतलब वो सेक्श एडिक्शन का शिकार हो गया है. इसके साथ ही पीड़ित अपनी इस लत के कारण बहुत ज्यादा तनाव में भी रहता है.

लेकिन ये जरूरी नहीं है कि हर सेक्सुअल गतिविधि compulsive sexual behaviour या सेक्स एडिक्शन है. WHO का साफ कहना है कि सेक्स की लत कोई ऐसी परेशानी नहीं है, जो पूरी तरह 'अनैतिक' यौन इच्छाओं से जुड़ा हुआ हो.

(फोटो: Pixabay)

सेक्स एडिक्शन से छुटकारा कैसे पाएं

जिन्हें लगता है कि वो सेक्स एडिक्शन से पीड़ित हैं, उन्हें तुरंत साइकोलॉजिस्ट से संपर्क करना चाहिए. साइकोलॉजिस्ट पीड़ित के विचारों को बदलने की कोशिश करते हैं.

ऐसे लोगों को म्यूजिक सुनने या पेंटिंग बनाने जैसी कोई आदत बनानी चाहिए. इसके अलावा अधिक से अधिक समय अपने परिवार के साथ बिताने की कोशिश करनी चाहिए.

इस खास बात का भी ध्यान रखने की जरूरत है कि ऐसे लोग अकेले में इंटरनेट का इस्तेमाल न करें. अकेले में इंटरनेट का ज्‍यादा इस्तेमाल करने वाला अगर पॉर्न वीडियो देखता है, तो फिर ये लत और बढ़ सकती है.

ये भी पढ़ें- अश्‍लील साइट के बारे में हमें अपने बच्चों से कैसे बात करनी चाहिए?

(यहां क्लिक कीजिए और बन जाइए क्विंट की WhatsApp फैमिली का हिस्सा. हमारा वादा है कि हम आपके WhatsApp पर सिर्फ काम की खबरें ही भेजेंगे.)