ADVERTISEMENTREMOVE AD

सर्दियों में कैसी हो आपकी डाइट? जानिए आयुर्वेद के बताए नियम

Updated
Fit Hindi
4 min read
story-hero-img
i
छोटा
मध्यम
बड़ा
Hindi Female

सर्दियां शुरू हो चुकी हैं. आपने स्वेटर और दूसरे गर्म कपड़े निकाल लिए होंगे. गर्म पानी से नहाने भी लगे होंगे. मौसम के हिसाब से हमें कई बदलाव करने होते हैं. हमारी जीवनशैली और खानपान मौसम के अनुसार ही होनी चाहिए, इसलिए आयुर्वेद में 'ऋतुचर्या' के बारे में बताया गया है.

'ऋतु' का मतलब है 'मौसम' और 'चर्या' यानी 'रहन-सहन और आहार संबंधी नियम'. आयुर्वेद में 6 ऋतुओं के लिए अलग-अलग चर्या बताई गई है. इनका पालन कर हम खुद को कई बीमारियों से बचा सकते हैं.

आयुर्वेद का एक अहम पक्ष खानपान और जीवनशैली के जरिए स्वस्थ बने रहने यानी बीमार न पड़ने पर आधारित है. इस उद्देश्य से दिनचर्या और ऋतुचर्या महत्वपूर्ण हो जाती है.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

जीवा आयुर्वेद के डायरेक्टर डॉ प्रताप चौहान बताते हैं कि फिट रहने के लिए हमें हर मौसम के गुण और त्रिदोष यानी वात, पित्त और कफ पर उनके असर के बारे में जानना जरूरी है.

उदाहरण के लिए, वात तब बढ़ जाता है जब वातावरण सूखा, हवाओं वाला और ठंडा होता है जैसे सर्दियों में. सर्दियों में जब गीलापन और ठंड होती है तो कफ इकट्ठा हो जाता है. जब गर्मी और नमी होती है, तब पित्त बढ़ता है.
0

मौसम के अनुसार हो आहार और जीवनशैली

बढ़े हुए दोष को आहार और ऐसी जीवनशैली जो उस दोष के विपरीत हो, उसे अपनाकर कम किया जाता है.
(फोटो: iStock)

एक्सपर्ट्स के मुताबिक गर्मी में जब पित्त बढ़ा हुआ होता है, तो ठंडक पहुंचाने वाले भोजन और पेय फायदेमंद रहते हैं और जब ठंड होती है और वात या कफ बढ़े हुए होते हैं, तो गर्मी देने वाला भोजन बेहतर होता है.

वैद्य और ईस्टर्न साइंटिस्ट जर्नल के चीफ एडिटर डॉ आर अचल बताते हैं कि मौसम के अनुरूप भोजन जरूरी होता है. जिस मौसम में जो सब्जियां, अनाज और फल होते हैं, उसी मौसम में उनका सेवन सेहत के लिए अच्छा होता है.

पहले खानपान में ऋतुचर्या का पालन आसान था क्योंकि सिर्फ मौसमी चीजें ही उपलब्ध होती थीं, लेकिन अब हर मौसम में हर चीज मिल रही है. इसलिए भोजन में असंतुलन हो रहा है.
डॉ आर अचल

डॉ चौहान के मुताबिक बढ़े हुए दोष को आहार और ऐसी जीवनशैली जो उस दोष के विपरीत हो, उसे अपनाकर कम किया जाता है.

ADVERTISEMENT

ठंड के मौसम में क्या खाएं और क्या नहीं?

डॉ चौहान बताते हैं कि सर्दियों में पाचन की शक्ति यानी जठराग्नी काफी मजबूत होती है. ये अग्नि तेल, वसा, दूध से बनी चीजें जैसे घी, पनीर, खोवा आसानी से पचा लेती है.

डॉ आर अचल ठंड में खाने और नहीं खाने योग्य चीजों की लिस्ट के बारे में बताते हैं:

खाने में क्या शामिल करें?

ऐसी चीजें खाएं-पीएं जो शरीर को गर्मी दे.
(कार्ड: कामरान अख्तर)

सर्दियों में कफ का संचय रोकने के लिए अदरक, काली मिर्च, तुलसी का पत्ता, शहद, च्यवनप्राश लेना चाहिए. इसके साथ ही ऐसा ना हो कि ठंड में आप पानी पीना कम कर दें, रोजाना कम से कम 8 से 10 गिलास गुनगुना पानी जरूर पीएं.

ADVERTISEMENTREMOVE AD

ठंड में किन चीजों से परहेज है जरूरी?

डॉ अचल बताते हैं कि ठंड में सूखा हुआ मांस और छोटी मछलियां, दही और ठंडी चीजें नहीं लेनी चाहिए. तीखी, कड़वी, कसैली और हल्की चीजें खाने से बचना चाहिए.

एक्सपर्ट्स के मुताबिक सर्दियों में वात रोग बढ़ते हैं, इसलिए वातनाशक चीजें खाने की सलाह दी जाती है.
ADVERTISEMENT

सर्दियों में कैसी हो आपकी लाइफस्टाइल?

तेल से शरीर की मालिश करनी चाहिए.
(फोटो: iStock)
  • सर्दियों में स्किन रूखी होती है. इससे निपटने के लिए तेल से शरीर की मालिश करनी चाहिए. आप नारियल, जैतून, तिल किसी भी तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं.

  • नहाने के लिए गुनगुने पानी का इस्तेमाल करना चाहिए.

  • सनबाथ और गर्म घरों में रहना फायदेमंद होता है. इसीलिए हमें भारी और गर्म कपड़े पहनने चाहिए.

  • ठंडी हवाओं के संपर्क से बचना चाहिए.

  • दिन में सोना नहीं चाहिए और रात में जल्दी सोने की कोशिश करनी चाहिए.

  • धूप में बैठना चाहिए.

इसके साथ ही डॉ अचल इस बात पर जोर देते हैं कि गर्म वातावरण से हमें धीरे-धीरे निकलना चाहिए क्योंकि अचानक सर्द-गर्म भी बीमारी की वजह बनता है.

(ये लेख आपकी सामान्य जानकारी के लिए है, यहां किसी बीमारी के इलाज का दावा नहीं किया जा रहा, बिना अपने डॉक्टर की सलाह लिए कोई उपाय न करें. स्वास्थ्य से जुड़ी किसी भी समस्या के लिए फिट आपको डॉक्टर से संपर्क करने की सलाह देता है.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENTREMOVE AD
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
×
×