ADVERTISEMENT

डायबिटिक लोगों को दिल की बीमारियों का ज्यादा जोखिम क्यों होता है?

Updated
diabetes
5 min read
डायबिटिक लोगों को दिल की बीमारियों का ज्यादा जोखिम क्यों होता है?

रोज का डोज

निडर, सच्ची, और असरदार खबरों के लिए

By subscribing you agree to our Privacy Policy

डायबिटीज (Diabetes) को कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों यानी हृदय और रक्त वाहिकाओं से जुड़े विकारों का एक प्रमुख जोखिम कारक माना जाता है. जिन लोगों को डायबिटीज नहीं है, उनकी तुलना में डायबिटिक लोगों को दिल की बीमारियां होने का दोगुना जोखिम होता है.

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन डायबिटीज को कार्डियोवैस्कुलर डिजीज के उन मुख्य जोखिम कारकों में से एक बताता है, जिन्हें कंट्रोल किया जा सकता है.

डायबिटीज वाले लोगों में कार्डियोवैस्कुलर डिजीज यानी हृदय रोग मृत्यु का सबसे कॉमन कारण है.

डायबिटीज और हार्ट डिजीज के बीच क्या कनेक्शन है और डायबिटीज के रोगी आमतौर पर हृदय रोग से पीड़ित क्यों होते हैं? दिल को दुरुस्त रखने के लिए डायबिटिक लोग क्या कर सकते हैं, ये समझने के लिए फिट ने मुंबई स्थित एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट के सीनियर इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. तिलक सुवर्णा और सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. संतोष कुमार डोरा से बात की.

ADVERTISEMENT

डायबिटीज के कारण दिल की बीमारियों का रिस्क

डॉ. तिलक सुवर्णा कहते हैं कि डायबिटीज का सिर से लेकर पैर तक शरीर के किसी भी अंग पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है, हालांकि दिल डायबिटीज से डैमेज होने वाले सबसे अहम अंगों में से एक है.

डॉ. सुवर्णा बताते हैं कि डायबिटीज हार्ट को कई तरीकों से प्रभावित कर सकता है:

  • डायबिटीज में इंसुलिन प्रतिरोध के परिणामस्वरूप कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स का उत्पादन बढ़ जाता है, जिससे एथेरोस्क्लेरोसिस का रिस्क बढ़ता है, जिससे हृदय की धमनियों संकरी हो जाती हैं.

  • डायबिटीज के कारण ब्लड क्लॉटिंग की टेंडेन्सी बढ़ती है, जिसके परिणामस्वरूप दिल का दौरा पड़ सकता है.

  • डायबिटीज से दिल की कोशिका संरचना और कार्य में भी गड़बड़ी हो सकती है, जिससे हृदय का आकार बढ़ जाता है और हार्ट की पंपिंग क्रिया कम हो जाती है, इस स्थिति को डाइलेटेड कार्डियोमायोपैथी के तौर पर जाना जाता है. यह स्थिति अंततः हार्ट फेल की ओर ले जाती है.

ADVERTISEMENT

डॉ. संतोष कुमार डोरा डायबिटिक लोगों को कम उम्र में कार्डियोवैस्कुलर बीमारियां होने की बात कहते हैं, जिसमें कोरोनरी धमनी रोग, सेरेब्रोवैस्कुलर रोग (ब्रेन में ब्लड वेसल और ब्लड फ्लो को प्रभावित करने वाली स्थितियां) और पेरिफेरल वैस्कुलर डिजीज (संकुचित ब्लड वेसल के कारण हाथ और पैर की ओर ब्लड फ्लो में कमी) शामिल हैं.

डायबिटीज खराब कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड लेवल को बढ़ाता है और ब्लड में अच्छे कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करता है. डायबिटीज कोरोनरी धमनियों, पैरों को ब्लड सप्लाई करने वाली परिधीय धमनियों (peripheral arteries) और मस्तिष्क को रक्त की आपूर्ति करने वाली कैरोटिड धमनियों में कोलेस्ट्रॉल जमा होने की आशंका को भी बढ़ाती है. इससे दिल का दौरा और स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है.
डॉ. संतोष कुमार डोरा, सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट, एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट, बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स, मुंबई

डॉ. डोरा के मुताबिक डायबिटीज ऑटोनॉमिक नर्वस सिस्टम को भी प्रभावित कर ऑटोनॉमिक डिस्फंक्शन की ओर ले जा सकती है. ऑटोनॉमिक नर्वस सिस्टम पेरिफेरल नर्वस सिस्टम का भाग है, जो हार्ट रेट, ब्लड प्रेशर, श्वसन, पाचन और यौन उत्तेजना सहित अनैच्छिक शारीरिक प्रक्रियाओं को नियंत्रित करता है.

हार्ट अटैक में आमतौर पर होने वाला सीने का दर्द ब्रेस्टबोन के पीछे होता है, जिसके महसूस होने पर मरीज तुरंत मेडिकल सहायता खोजता है. लेकिन डायबिटीज के मरीज में ऑटोनॉमिक डिस्फंक्शन के कारण हो सकता है कि हार्ट अटैक के दौरान सीने में दर्द न हो. इससे रोगी की ओर से तुरंत मेडिकल सहायता पाने की संभावना कम हो जाती है. इस कारण कार्डियक अरेस्ट और हार्ट फेल जैसी हार्ट अटैक से जुड़ी कई तरह की जटिलताएं बढ़ जाती हैं.
डॉ. संतोष कुमार डोरा, सीनियर कार्डियोलॉजिस्ट, एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट, बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स, मुंबई
ADVERTISEMENT

दिल को दुरुस्त रखने के लिए क्या करें डायबिटिक लोग

इन टिप्स को अपने डेली रूटीन में शामिल कर दिल की बीमारियों को दूर रखें 
(फोटो: iStock)
  • सबसे जरूरी ये है कि डायबिटिक लोग ब्लड शुगर लेवल को अच्छी तरह से कंट्रोल करें.

इसके लिए डाइट कंट्रोल, एक्सरसाइज और जरूरत पड़ने पर दवाइयां लेनी होती है. डायबिटीज पर अच्छी तरह से नियंत्रण से कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों का जोखिम घटाने में मदद मिलती है.

डॉ. डोरा कहते हैं,

डायबिटीज से जूझ रहे लोगों को कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों का ज्यादा जोखिम होने के नाते ऐसे लोगों को समय-समय पर कार्डियक चेकअप जरूर कराने चाहिए भले ही कोई कार्डियक लक्षण न नजर आएं.

उनके मुताबिक यूं तो 40 की उम्र के बाद सभी को समय-समय पर हेल्थ चेकअप कराने चाहिए, लेकिन कार्डियोवैस्कुलर डिजीज के रिस्क फैक्टर वाले लोगों को खासतौर पर डायबिटीज वालों को यंग एज से ही हेल्थ चेकअप कराने चाहिए.

इससे मौजूदा कार्डियोवैस्कुलर बीमारी की जल्द पहचान की जा सकती है और जटिलताएं बढ़ने से पहले जरूरी उपाय और इलाज शुरू किया जा सकता है.

ADVERTISEMENT

डॉ. सुवर्णा कहते हैं कि डायबिटीज का सही कारण ज्ञात नहीं है. यह संभवतः आनुवांशिक और पर्यावरणीय कारकों की परस्पर क्रिया का परिणाम है. टाइप 2 डायबिटीज की शुरुआत को रोकने या डिले करने में लाइफस्टाइल से जुड़े उपाय प्रभावी पाए गए हैं.

डायबिटीज मैनेजमेंट

(फोटो: iStock)

  • शारीरिक रूप से सक्रिय रहना- कम से कम 30 से 45 मिनट की नियमित, मध्यम-तीव्रता वाली गतिविधि करना महत्वपूर्ण है.

  • हेल्दी खाना- डायटिशियन की मदद से डायबिटीज मील प्लान बनाएं और उस पर टिके रहें. सब्जियां और फल, साबुत अनाज, कम वसा और कम कैलोरी वाला आहार चुनें. चीनी और मिठाई से परहेज करें.

  • हेल्दी वेट बनाए रखना महत्वपूर्ण है.

  • तंबाकू से परहेज करें क्योंकि स्मोकिंग से डायबिटीज और दिल की बीमारियों का रिस्क बढ़ता है.

  • डायबिटीज की स्थिति का जल्द पता चलना महत्वपूर्ण है ताकि खतरनाक जटिलताओं को रोकने के लिए उचित उपचार शुरू किया जा सके. इसका पता करने के लिए ब्लड शुगर टेस्ट कराने की जरूरत होती है.

ADVERTISEMENT

डायबिटीज का पता चलते ही डॉक्टर से कंसल्ट कर तुरंत इसका ट्रीटमेंट शुरू कर देना चाहिए. डॉ. तिलक सुवर्णा कहते हैं कि डायबिटीज मैनेजमेंट के लिए लाइफस्टाइल में बदलाव के साथ मेडिकल मदद की जरूरत होती है:

  • ओरल एंटीडायबिटिक दवाएं- ये मुंह से ली जाने वाली दवाएं होती हैं और जो कई तरीकों से ब्लड शुगर लेवल को कम करती हैं.

  • इंसुलिन- ट्रीटमेंट की शुरुआत (तेज या धीमी), ट्रीटमेंट की अवधि (छोटी या लंबी) और डिलीवरी के तरीके (सुई और सिरिंज, पेन, पंप, इनहेलर या इंजेक्शन पोर्ट) के आधार पर कई तरह के इंसुलिन उपलब्ध हैं.

  • अपने ब्लड ग्लूकोज लेवल की नियमित रूप से निगरानी करना डायबिटीज मैनेजमेंट में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. ब्लड ग्लूकोज मॉनिटरिंग के नतीजे आपको भोजन, शारीरिक गतिविधि और दवाओं के बारे में निर्णय लेने में मदद कर सकते हैं. घर पर अपने ब्लड ग्लूकोज लेवल की जांच करने का सबसे आम तरीका ब्लड ग्लूकोज मीटर है.

ADVERTISEMENT

लगातार ग्लूकोज मॉनिटरिंग के लिए स्किन पर लगाने वाला एक छोटा सा सेंसर भी आता है, जो पूरे दिन और रात में ग्लूकोज के स्तर को मापता है और बहुत अधिक या बहुत कम ग्लूकोज लेवल की अवधि या एपिसोड का पता लगाने में मदद करता है, ताकि उचित सुधारात्मक उपाय किया जा सकें.

डायबिटीज भले ही एक जटिल बीमारी है, लेकिन थोड़े से अनुशासन के साथ डायबिटीज को मैनेज करना और इसके कारण दिल को होने वाले नुकसान का जोखिम घटाना संभव है.

(ये लेख आपकी सामान्य जानकारी के लिए है, यहां किसी बीमारी के इलाज का दावा नहीं किया जा रहा. स्वास्थ्य से जुड़ी किसी भी समस्या के लिए फिट आपको डॉक्टर से संपर्क करने की सलाह देता है.)

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

ADVERTISEMENT
Published: 
सत्ता से सच बोलने के लिए आप जैसे सहयोगियों की जरूरत होती है
मेंबर बनें
500
1800
5000

or more

प्रीमियम

3 माह
12 माह
12 माह
मेंबर बनने के फायदे
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×