ADVERTISEMENT

ग्लोबल वॉर्मिंग के कारण समय से पहले पैदा हो रहे हैं बच्चे

Published
Fit Hindi
1 min read
ग्लोबल वॉर्मिंग के कारण समय से पहले पैदा हो रहे हैं बच्चे

ग्लोबल वॉर्मिंग के घातक परिणामों के प्रति हमें लगातार चेताया जा रहा है, पृथ्वी के तापमान में लगातार वृद्धि चिंतित करने वाली है.

अब एक स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ है कि ग्लोबल वॉर्मिंग का असर उन पर भी पड़ रहा है, जो अभी इस दुनिया में आए ही नहीं है.

वैज्ञानिकों ने इस बात का पता लगाया है कि ग्लोबल वॉर्मिंग के कारण बच्चे समय से पहले पैदा (प्रीमैच्योर बेबी) हो रहे हैं. उनके मुताबिक बच्चों का जन्म करीब दो हफ्ते पहले हो जा रहा है, जो चिंताजनक है.
ADVERTISEMENT

रिसर्चर्स ने पाया कि अमेरिका में साल 1969-1988 के बीच हर साल गर्मी के मौसम में औसतन 25 हजार नवजात दो हफ्ते पहले पैदा हुए. नेचर क्लाइमेट चेंज नाम के जर्नल में पब्लिश हुई इस स्टडी में रिसर्चर्स ने कहा है कि समय से पहले प्रसव होने को गंभीरता से लिया जाना चाहिए.

रिसर्चर्स को लगता है कि तापमान में इजाफा गर्भवती महिलाओं के हार्मोन को प्रभावित कर रहा है, जिससे गर्भ में पल रहे शिशु का जन्म समय से पहले हो रहा है.

प्रीमैच्योर बर्थ शिशुओं में कई गंभीर स्वास्थ्य दिक्कतों की वजह बन सकता है, जैसे- कम वजन, ठीक से शारीरिक और मानसिक विकास ना हो पाना. ऐसे में स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में शिशु मृत्युदर बढ़ने की भी आशंका होती है.

(हैलो दोस्तों! हमारे Telegram चैनल से जुड़े रहिए यहां)

क्विंट हिंदी पर लेटेस्ट न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज़ पढ़ें, fit और hindi के लिए ब्राउज़ करें

ADVERTISEMENT
अधिक पढ़ें
ADVERTISEMENT
क्विंट हिंदी के साथ रहें अपडेट

सब्स्क्राइब कीजिए हमारा डेली न्यूजलेटर और पाइए खबरें आपके इनबॉक्स में

120,000 से अधिक ग्राहक जुड़ें!
ADVERTISEMENT
और खबरें
×
×